close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

'पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की हालत खूंटी पर टंगे पुराने कपड़ों की तरह हो गई है': रघुनंदन शर्मा

''हमारी हालत तो उससे भी गई गुजरी है. हमारे साथ तो ऐसा व्यवहार किया जा रहा है, जैसे हम स्वर्गवासी हो गए हैं.'

'पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं की हालत खूंटी पर टंगे पुराने कपड़ों की तरह हो गई है': रघुनंदन शर्मा
रघुनंदन शर्मा (फाइल फोटो)

भोपालः भाजपा के वरिष्ठ नेता रघुनंदन शर्मा ने हाल ही में पार्टी को लेकर एक बड़ा बयान दिया. टिकट वितरण को लेकर पार्टी के अंदर चल रही उथल-पुथल को लेकर रघुनंदन शर्मा ने कहा कि 'समय परिवर्तन शील है. समय के साथ मापदंड बदल जाते हैं. कई वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को योग्य नहीं माना जाता. योग्यता पार्टी में गौण हो गई है.'

दिग्विजय के सामने फीकी है शिवराज की 'मामागिरी', भोपाल से PM मोदी लड़ें चुनावः BJP नेता

उन्होंने कहा कि '' बीजेपी में वरिष्ठ नेताओं और कार्यकर्ताओं की हालत घर की खूंटी में टंगे उन पुराने कपड़ों की तरह हो गई है, जिनका इस्तेमाल केवल प्रदर्शन और दिखावा है. जबकि उनकी कोई कद्र नहीं होती, लेकिन हमारी हालत तो उससे भी गई गुजरी है. हमारे साथ तो ऐसा व्यवहार किया जा रहा है, जैसे हम स्वर्गवासी हो गए हैं.'

आचार संहिता उल्लंघन मामले में फंसे दिग्विजय, भाजपा ने चुनाव आयोग से की शिकायत

वहीं कांग्रेस की तरफ से दिग्विजय सिंह को भोपाल से प्रत्याशी घोषित किए जाने पर उन्होंने कहा कि 'कांग्रेस ने भोपाल से दिग्विजय सिंह को टिकट देकर अपने ही पैरों पर कुल्हाड़ी मार ली है. भोपाल लोकसभा सीट से दिग्विजय सिंह सबसे कमजोर प्रत्याशी हैं. भोपाल में राष्ट्रवादी ताकतें सबसे ज्यादा मजबूत और प्रबल हैं. भोपाल का जनमानस राष्ट्रवाद बनाम आतकंवाद का समर्थन करने वालों के सख्त खिलाफ है. अपने आप को हिंदू और राष्ट्रभक्त साबित करने में लगे दिग्विजय सिंह जीवन भर आतंकवाद की पीठ थपथपाते रहे हैं और अब खुद को हिंदू साबित करने का दिखावा कर रहे हैं.'

लोकसभा चुनाव 2019: कमलनाथ के गढ़ छिंदवाड़ा में क्या खिल पाएगा 'कमल'?

उन्होंने आगे कहा कि 'दिग्विजय सिंह भारतीय सेना पर विश्वास नहीं करते, वह अक्सर पाकिस्तान की भाषा बोलते नजर आ जाते हैं और जब भारतीय सेना ने पुलवामा हमले का बदला लिया तो वह इसके सबूत मांगने लगे. अगर पाकिस्तान भी सबूत मांग रहा है और दिग्विजय सिंह भी, तो दोनों के बीच क्या अंतर है. इसीलिए मैं कहा हूं कि दिग्विजय सिंह को तो भोपाल में भाजपा का कोई साधारण कार्यकर्ता भी हरा सकता है. हमारी कामना है कि लोकसभा चुनाव में भाजपा 29 में से 29 सीटों पर जीत हासिल करे.'