close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लोकसभा चुनाव 2019: नवादा के इस बूथ पर सुबह से नहीं पहुंचा एक भी मतदाता, किया वोट का बहिष्कार

लोकसभा चुनाव 2019 के तहत बिहार में पहले फेज के चुनाव में नवादा लोकसभा क्षेत्र में मतदान जारी है.

लोकसभा चुनाव 2019: नवादा के इस बूथ पर सुबह से नहीं पहुंचा एक भी मतदाता, किया वोट का बहिष्कार
नवादा के बूथ नंबर 29 पर लोगों ने वोट का बहिष्कार किया है.

नवादाः लोकसभा चुनाव 2019 के पहले चरण में बिहार के नवादा लोकसभा सीट मतदान जारी है. नवादा में कई बूथों पर छिटपुट घटनाओं की जानकारी मिल रही है, तो कई बूथों पर ईवीएम खराब होने की शिकायतें मिल रही है. वहीं, बूथ 29 पर मतदाताओं ने वोट बहिष्कार कर दिया है. यहां बूथ पर लोग मतदान करने नहीं पहुंच रहे हैं.

नवादा लोकसभा क्षेत्र के रोह प्रखंड अंतर्गत बजवारा गांव स्थित बूथ संख्या 29 पर सुबह से मतदान नहीं किया जा रहा है. यहां लोग एक भी मतदाता बूथ पर नहीं पहुंच रहे हैं. लोगों का कहना है कि उन्हों वोट का बहिष्कार किया है. बजवारा गांव के लोगों का कहना है कि हमने पहले ही कहा था कि रोड नहीं तो वोट नहीं.

ग्रामीणों ने बताया कि रोड की मांग को लेकर स्थानीय सांसद, डीएम और मुख्यमंत्री तक को आवेदन दिया गया था. लेकिन यहां न किसी जनप्रतिनिधि ने ध्यान दिया और न ही जिलाधिकारी ने किसी तरह की तत्परता दिखाई. सीएम की ओर से भी कोई संज्ञान नहीं लिया गया. इसलिए अब हम लोगों ने वोट बहिष्कार का निर्णय लिया है.

उनका कहना है कि जब हमारे सुख सुविधाओं पर जनप्रतिनिधि ध्यान ही नहीं दे रहे तो वोट हम किसे डालें. यहां मौजूदा सरकार से लेकर पिछले सरकार तक किसी जनप्रतिनिधि ने ध्यान नहीं दिया.

नवादा के बूथ 29 पर कार्यरत पीठासीन अधिकारी ने बताया कि इस गांव में 1163 मतदाता हैं. लेकिन सुबह से ही यहां किसी मतदाता ने अपना मत देने के लिए बूथ पर नहीं पहुंचे हैं. उनका साफ कहना है कि रोड नहीं बना है तो हम वोट नहीं डालेंगे.

बहरहाल, चुनाव आयोग से लेकर राजनीतिक पार्टियां मतदाताओं को वोट डालने के लिए उत्साहित करने में जुटे हैं. इसके लिए कई आयोजन कर लोगों को बढ़ावा दिया जा रहा है. लेकिन वोट बहिष्कार करने वालों की किसी के द्वारा सुनी नहीं जा रही. ऐसे में मतदाता अगर वोट बहिष्कार का निर्णय ले रहे हैं तो यह लोकतंत्र की सबसे बड़ी हार है.