हम समृद्धि की ऊंचाई को छूना चाहते हैं, तिरंगा झंडा ही हमारे आगे के काम की प्रेरणा : PM मोदी

धानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने शनिवार को 'तिरंगे' का अर्थ समझाया और इसे भविष्य के काम की प्रेरणा बताया. मोदी ने एक जनसभा में कहा, 'हम समृद्धि की ऊंचाई को छूना चाहते हैं, इसलिए तिरंगा झंडा ही हमारे आगे के काम की प्रेरणा है.' 

हम समृद्धि की ऊंचाई को छूना चाहते हैं, तिरंगा झंडा ही हमारे आगे के काम की प्रेरणा : PM मोदी
मोदी ने कहा कि केसरिया रंग 'ऊर्जा' का रंग है, देश में ऊर्जा की क्रांति चाहिए...

कन्नौज: लोकसभा चुनाव 2019 के चौथे चरण के प्रचार के दिन पीएम नरेंद्र मोदी ने कन्नौज में रैली की. प्रधानमंत्री मोदी ने शनिवार को 'तिरंगे' का अर्थ समझाया और इसे भविष्य के काम की प्रेरणा बताया. मोदी ने एक जनसभा में कहा, 'हम समृद्धि की ऊंचाई को छूना चाहते हैं, इसलिए तिरंगा झंडा ही हमारे आगे के काम की प्रेरणा है.'

उन्होंने कहा, "आपको लगेगा कि मोदी तिरंगे झंडे की बात क्यों बता रहा है. मैं जरा समझाता हूं. देखिये हमारा तिरंगा तीन मुख्य रंगों से बना है. केसरिया, सफेद, हरा और बीच में नीले रंग का अशोक चक्र है... चार हो गए और पांचवां मजबूत डंडा है, जिस पर तिरंगा झंडा लहराता है... पांच चीजें हैं.' मोदी ने कहा, "इन पांचों को लेकर हम देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं." 

प्रधानमंत्री ने कहा, "एक हम केसरिया क्रांति करना चाहते हैं और जब मैं केसरिया क्रांति कहता हूं तो जो अपने आपको हिन्दू विरोध में ही सेक्यूलर दिखाते हैं, उनके तो रोंगटे ही खडे़ हो जाएंगे और आज रात तक वे मेरे बाल ही नोंच लेंगे." मोदी ने कहा कि केसरिया रंग 'ऊर्जा' का रंग है. देश में ऊर्जा की क्रांति चाहिए . चाहे कोयले से हो, पानी से हो, हवा से हो या सूरज की गर्मी से हो, ऊर्जा के क्षेत्र में देश को बहुत आगे बढ़ना है. "केसरिया रंग हमें उर्जा क्रांति की प्रेरणा देता है."

 

उन्होंने कहा, "सफेद रंग हमें श्वेत क्रांति का संदेश देता है. दूध की क्रांति... चीनी... इन सारे क्षेत्रों में नई क्रांति की प्रेरणा देता है. तीसरा हरा रंग है जो 'ग्रीन रिवोल्यूशन' (हरित क्रांति) की प्रेरणा देता है. कृषि क्रांति की प्रेरणा देता है. कृषि क्रांति अब आधुनिकता वाली, 'वैल्यू एडिशन' वाली हो, उसको हम बल देना चाहते हैं." 

मोदी ने कहा कि चौथा रंग है नीला यानी 'ब्लू रिवोल्यूशन'. 'मछुआरे भाई बहन... पानी की ताकत, हमारे समुद्र तट की ताकत, नदियों की ताकत, इसको हम बल देकर देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं.' उन्होंने कहा, "और यह झंडा आसमान में कब लहराएगा, जब डंडा मजबूत होगा. मेरे लिए डंडे का मतलब है इन्फ्रास्ट्रक्चर ... जो इतना मजबूत हो कि दुनिया को तिरंगा दिखाई दे." 

मोदी ने कहा, 'रोड, हवाई मार्ग, रेलवे, गैस पाइपलाइन, पानी का इन्फ्रास्ट्रक्चर ... हर प्रकार से ये डंडा आधुनिक भारत की पहचान है.'  उन्होंने कहा, "ये पंचपथ पर... 2022 तक ... आजादी के 75 साल ... इसी तिरंगे झंडे से प्रेरणा लेकर हम देश को आगे बढ़ाना चाहते हैं."