OMG! 55 फीसदी पुरुष और 85 फीसदी महिलाएं चाहती हैं समलैंगिक विवाह को मिले कानूनी मान्यताः Research
Advertisement

OMG! 55 फीसदी पुरुष और 85 फीसदी महिलाएं चाहती हैं समलैंगिक विवाह को मिले कानूनी मान्यताः Research

यह अगला कदम लेने का समय है और देश में समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने का समय है.इसके अलावा 36 फीसदी पुरुषों व 15 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे निश्चित नहीं हैं. उत्तरदाताओं के कुछ फीसदी ने इसे नहीं कहा. 

समलैंगिकों के विवाह को कानूनी मान्यता देने पर 36 फीसदी पुरुषों व 15 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे निश्चित नहीं हैं. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः देश में समलैंगिकता को अपराध की श्रेणी से हटाए जाने के बाद लोगों का मानना है कि देश में समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने का समय आ गया है. एक अध्ययन में यह जिक्र किया गया है. डेटिंग एप ओकेकुपिड के उपयोगकर्ताओं से जुटाए गए आकड़ों के अनुसार, ओकेकुपिड समुदाय के 55 फीसदी पुरुषों व 82 फीसदी महिलाओं का मानना है कि यह अगला कदम लेने का समय है और देश में समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने का समय है. वहीं इसके अलावा समलैंगिकों के विवाह को कानूनी मान्यता देने पर 36 फीसदी पुरुषों व 15 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे निश्चित नहीं हैं. उत्तरदाताओं के कुछ फीसदी ने इसे नहीं कहा. 

देखें लाइव टीवी

ट्रांसजेंडर काफी मात्रा में दवा लेते हैं इसलिए सेना में उन पर प्रतिबंध लगाया: डोनाल्‍ड ट्रंप

एक बयान में कहा गया है कि ओकेकुपिड के भारत में 10 लाख से ज्यादा उपयोगकर्ता हैं. यह आंकड़ा एप पर प्रश्न के जरिए जुटाया गया है. इसमें नए व मौजूदा उपयोगकर्ताओं ने अपने संभावित भागीदारों को लेकर जवाब दिया है. यह आंकड़ा औसतन दो लाख से ज्यादा उत्तरदाताओं से एकत्र किया गया है. अध्ययन के अनुसार, 68 फीसदी पुरुषों और 90 फीसदी महिलाओं ने कहा कि वे एलजीबीटी समुदाय की बहुत परवाह करते हैं.

(इनपुटः आईएएनएस)

Trending news