पुलवामा हमले पर जी न्‍यूज की राष्‍ट्रवादी रिपोर्टिंग से बौखलाया जैश, सुधीर चौधरी के शो DNA का किया जिक्र

जैश ने अपने ऑनलाइन मुखपत्र 'अल कलाम' के संपादकीय में जी न्‍यूज और देश के सबसे पसंदीदा शो 'डीएनए विद सुधीर चौधरी' का जिक्र किया है.

पुलवामा हमले पर जी न्‍यूज की राष्‍ट्रवादी रिपोर्टिंग से बौखलाया जैश, सुधीर चौधरी के शो DNA का किया जिक्र

नई दिल्‍ली: पुलवामा हमले पर जी न्‍यूज की राष्‍ट्रवादी रिपोर्टिंग से आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्‍मद (JeM) बौखला गया है. पुलवामा आतंकी हमले की जिम्‍मेदारी लेने वाले जैश ने अपने ऑनलाइन मुखपत्र 'अल कलाम' के संपादकीय में जी न्‍यूज और देश के सबसे पसंदीदा शो 'डीएनए विद सुधीर चौधरी' का जिक्र किया है. इससे साफ है कि जैश-ए-मोहम्‍मद के सरगना मसूद अजहर तक जी न्‍यूज की हुंकार पहुंच रही है. इससे जैश का सरगना आतंकी मौलाना मसूद अजहर तिलमिला गया है. इससे बड़ा सवाल यह उठता है कि आखिर जी न्‍यूज की राष्‍ट्रवादी रिपोर्टिंग से मसूद अजहर को डर क्‍यों लगता है?

जैश के मुखपत्र 'अल कलाम' में उर्दू में जो जी न्‍यूज और भारतीय मीडिया के बारे में लिखा गया है. उसका हिंदी अनुवाद हम आपके सामने पेश कर रहे हैं. इस संपादकीय का हिंदी में शीर्षक है-  'भारतीय मीडिया का नकारात्‍मक और निंदा करने लायक रूप'. इसके संपादित अंश पर आइए डालते हैं नजर:

''आज के दौर में मीडिया का किरदार किसी भी देश या समाज में बहुत ही अहमियत रखता है. इसलिए इसे देश के अहम चार स्‍तंभों में शुमार किया जाता है. इसी अहमियत को देखते हुए कहा जाता है कि किसी देश या समाज के बिगाड़ने या संवारने में भी मीडिया का अहम रोल होता है. दुनिया भर के विकसित देशों में मीडिया जहां समाज और मुल्‍क की सियासत पर स्‍वस्‍थ बहस से काम लेता है वहीं वहां के संजीदा नागरिक मीडिया के किरदार पर कड़ी निगाह रखते हैं. मीडिया के मनगढ़त और नकारात्‍मक किरदार पर बहुत ज्‍यादा ताना कसा बनाया जाता है. इसलिए वहां का मीडिया झूठी और बेसिर-पैर के प्रपंच से बहुत हद तक बचता है.''

''मगर भारत का मामला यहां भी पूरी दुनिया से निराला है. भारतीय मीडिया का किरदार जितना भी देखा जाए, वह झूठ, धोखेबाजी, गलत व्‍याख्‍या और फिजूल की रिपोर्ट्स और लापरवाही से रंगीन नजर आता है. हालिया दिनों में 14 फरवरी को पुलवामा हमले के बाद से भारतीय मीडिया ने जिस तरह से पाकिस्‍तान मुल्‍क के खिलाफ बेतकल्‍लुफी दिखाई, इसने दुनिया भर को न सिर्फ हैरान किया है बल्कि यह भी स्‍पष्‍ट हो गया है कि इस वक्‍त पीएम मोदी जैसे शख्‍स की सरपरस्‍ती में सिर्फ भारतीय हुकूमत ही बेतकल्‍लुफी का प्रचार नहीं करती बल्कि वहां का मीडिया भी झूठ के सहारे प्रोपेगैंडा को खूब हवा दे रहा है. इस कारण नौबत यहां तक आ पहुंची है कि भारत का मीडिया जैसा भी सफेद झूठ बोल दे, वहां की जनता सौ फीसदी सच मान लेती है.''

''बहरहाल भारत के मशहूर चैनल जी न्‍यूज के प्रोग्राम डीएनए के एंकर सुधीर चौधरी खुल्‍लमखुल्‍ला इस बात को कहते हैं कि बांग्‍लादेश को तोड़ने के पीछे भारत का हाथ था. बलूचिस्‍तान में पाकिस्‍तान के खिलाफ आतंकवाद को बढ़ावा देने में भारत शामिल है. भारतीय हुकूमत फौज को पाकिस्‍तान में अपनी कार्रवाई तेज कर देनी चाहिए ताकि पाकिस्‍तान के टुकड़े हो जाएं. सिर्फ यही नहीं बल्कि अपने प्राइम टाइम प्रोगाम में इस बात पर जोर देते रहे हैं कि पाकिस्‍तान पर हमला कर दिया जाए और जंग ही एकमात्र रास्‍ता है.''

''इस सूरतेहाल में जबकि भारत की दुनिया भर में रुसवाई हुई है लेकिन फिर भी भारतीय मीडिया को किसी भी अच्‍छे व्‍यवहार को नहीं कहा गया. इससे साफ हो गया है कि भारतीय हुकूमत हो या भारतीय मीडिया, वे अपने तय एजेंडे के लिए किसी भी सार्थक कदम की पहल नहीं करते और ना ही इस दिशा में आगे बढ़ते हुए दिखते हैं. भारतीय मीडिया का यह किरदार पत्रकारिता के नाम पर काला धब्‍बा है. भारत सरकार का इस रवैये पर किसी भी किस्‍म की रोक न लगाना भारतीय हुकूमत के किरदार को पूरी दुनिया में बेपर्दा करने और भर्त्‍सना के लिए काफी है.''