close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाक सरकार के विवादास्पद चांद कैलेंडर को पेशावर उच्च न्यायालय में दी गई चुनौती

प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी की ओर से जारी किए गए विवादित चांद कैलेंडर को सोमवार को पेशावर उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई.

पाक सरकार के विवादास्पद चांद कैलेंडर को पेशावर उच्च न्यायालय में दी गई चुनौती
पाकिस्तान के चांद कलैंडर को पेशावर कोर्ट में चुनौती दी गई है. (फाइल फोटो)

पेशावरः पाकिस्तान के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी मंत्री फवाद चौधरी की ओर से जारी किए गए विवादित चांद कैलेंडर को सोमवार को पेशावर उच्च न्यायालय में चुनौती दी गई. याचिका में कहा गया है कि यह कैलेंडर इस्लामी शिक्षा के अनुरूप नहीं है. याची ने मंत्री को बर्खास्त करने की भी मांग की.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के करीबी सहयोगी चौधरी ने ईद-उल-फित्र से पहले देश की पहली चांद देखने वाली वेबसाइट की शुरुआत मई में की थी जिससे कई उलेमा (कई सारे धर्मगुरु) खफा हो गए थे.

चौधरी ने पिछले महीने ऐलान किया था कि पाकिस्तान की सरकार पांच जून को ईद मनाएगी जबकि सऊदी अरब में ईद का त्योहार चार जून को मनाया गया.

याची ने दलील दी है कि मंत्री की ओर से जारी किया गया चांद कैलेंडर इस्लाम की शिक्षाओं के अनुरूप नहीं है.

‘ एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ अखबार ने याचिकाकर्ता के हवाले से कहा, ‘‘ मंत्री ने पहले लोगों को ईद उल फित्र (पांच जून) को मनाने के लिए मजबूर किया और अब ऐलान किया है कि ईद-उल-अज़हा (बकरीद) 12 अगस्त को मनाई जाएगी.’’ 

उन्होंने कहा कि ईद उल अज़हा के दिन को तय करने के लिए पुष्टि की जरूरत होती है. उन्होंने याचिका में दावा किया, ‘‘ पवित्र कुरान को पढ़े बिना मंत्री ने ईद के दिनों को तय कर दिया.’’ 

याचिकाकर्ता ने इस चांद कैलेंडर को पाकिस्तान में जारी नहीं करने का अनुरोध किया. उन्होंने अदालत से मंत्री को पद से भी हटाने की गुजारिश की.

उधर, पाकिस्तान की इस्लामी विचारधारा परिषद (सीआईआई) ने कहा है कि वह सरकार की ओर से जारी चांद कैलेंडर की समीक्षा करेगी और इसके बाद कोई फैसला किया जाएगा. 

सीआईआई के अध्यक्ष डॉ किबला एयाज़ ने पहले मीडिया से कहा है कि उलेमा से सलाह-मशविरे के बिना चांद कैलेंडर पर आखिरी फैसला नहीं किया जा सकता है.

चौधरी ने रूअत-ए-हिलाल कमेटी के चांद देखने के पारंपरिक तरीकों को खत्म कर दिया है जिससे इस्लाम के अहम त्योहारों को लेकर विवाद होता था. इससे उलेमा नाराज हो गए हैं.