यहां 16 घंटे का होता है एक साल! वैज्ञानिकों ने किया खुलासा
X

यहां 16 घंटे का होता है एक साल! वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

Astronomical Journal Report: मैसाचुसेट्स इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (MIT) की अगुवाई वाले एक मिशन ने NASA के ट्रांजिटिंग एक्सोप्लैनेट सर्वे सैटेलाइट (TESS) के जरिए TOI-2109b नामक ग्रह की खोज की है. इसको लेकर कई अविश्वसनीय दावे किए गए हैं. पिछले कुछ सालों में एस्ट्रोनोमर्स ने ऐसे हॉट जूपिटर खोजे हैं जो हमारे सौरमंडल ( Solar System) में मौजूद बृहस्पति की तरह ही हैं. हालांकि, ये अपने सितारे की परिक्रमा 10 से भी कम दिनों में करते हैं.

 

यहां 16 घंटे का होता है एक साल! वैज्ञानिकों ने किया खुलासा

नई दिल्ली: एस्ट्रोनोमर्स ने हमारे सौरमंडल (Solar System) के बाहर एक नए ग्रह की खोज की है, जो सिर्फ 16 घंटों में अपने तारे की परिक्रमा करता है. एस्ट्रोनॉमिकल जर्नल में प्रकाशित एक स्टडी रिपोर्ट के मुताबिक, यह ब्रह्मांड में पाया जाने वाला दूसरा सबसे गर्म ग्रह है. इस अल्ट्राहॉट जुपिटर में कई गैसों का भंडार है.

एक साल में सिर्फ 16 घंटे!

शोधकर्ताओं के मुताबिक अभी तक 4000 से अधिक ऐसे ग्रहों की खोज हुई है, जो हमारे सौरमंडल से बाहर मौजूद हैं. इसमें से कई ऐसे ग्रह हैं, जो ऐसे तारों की परिक्रमा करते हैं, जो हमारी पृथ्वी से हजारों प्रकाशवर्ष की दूरी पर स्थित हैं.

ये भी पढ़ें- NASA के रोवर ने पहली बार बनाया मंगल का नक्शा, कभी 'लाल ग्रह' पर मौजूद थीं ये चीजें

स्पेस वेबसाइट bgr.com में प्रकाशित रिपोर्ट के मुताबिक जिन ग्रहों की अभी तक खोज हुई है, उसमें नेपच्यून जैसे ग्रह हैं. इसके अलावा बृहस्पति जैसे विशाल गैस वाले ग्रह भी हैं. इसके अलावा, वैज्ञानिकों ने ऐसे ग्रहों को भी खोजा है, जो देखने में एकदम पृथ्वी (Earth) की तरह हैं.

हालांकि वैज्ञानिकों ने इस नए यानी हाल ही में खोजे गए ग्रह का नाम TOI-2109b रखा है जो अबतक खोजा गया दूसरा सबसे गर्म ग्रह है. ये ग्रह इसलिए भी इतना दिलचस्प है, क्योंकि ये अपने तारे की परिक्रमा 16 घंटों में पूरी करता है. इसका मतलब है कि एक पूरा साल इस ग्रह पर एक सामान्य पृथ्वी के दिन से भी कम होता है.

वैज्ञानिक का बयान

इस खोज के प्रमुख लेखक इयान वोंग का कहना है कि हम इस बात की जानकारी देने में सक्षम हो सकते हैं कि ये ग्रह एक या दो साल में अपने तारे के करीब कैसे जा रहा है. हालांकि, वोंग का कहना है कि हम इसे अपने जीवनकाल में अपने तारे से टकराते हुए नहीं देख पाएंगे.

Trending news