धोनी को लेकर क्यों फैला Confusion? जानें इंटरनेशनल करियर 14 साल का है या 15 का...

पूर्व कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) ने अपना पहला इंटरनेशनल मैच 23 दिसंबर 2004 को चटगांव में बांग्लादेश के खिलाफ खेला था. 

धोनी को लेकर क्यों फैला Confusion? जानें इंटरनेशनल करियर 14 साल का है या 15 का...
एमएस धोनी ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच इसी साल 10 जुलाई को खेला था. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत को दो-दो विश्व कप जिताने वाले महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) ने आज से ठीक 15 साल पहले अपना पहला इंटरेनशनल मैच खेला था. यही कारण है कि 23 दिसंबर आते ही एक खबर ट्रेंड करने लगी कि धोनी ने अपने इंटरनेशनल करियर के 15 साल पूरे कर लिए हैं. अगर आपने भी यह खबर पढ़ी है तो खुद को अपडेट कर लें. यह सच है कि धोनी ने आज से ठीक 15 साल पहले अपना पहला इंटरनेशनल मैच खेला था. लेकिन यह सच नहीं है कि उनका करियर 15 साल का हो चुका है. 

पूर्व कप्तान एमएस धोनी (MS Dhoni) ने अपना पहला इंटरनेशनल मैच 23 दिसंबर 2004 को चटगांव में बांग्लादेश के खिलाफ खेला था. तब से अब तक उनका सफर अद्भुत है. उन्होंने ना सिर्फ वनडे और टी20 विश्व कप जीते हैं, बल्कि आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी का खिताब भी जीता है. इस तरह वे दुनिया के इकलौते कप्तान हैं, जिन्होंने अपनी टीम को आईसीसी की ये तीनों ट्रॉफियां जिताई हैं. अब उनके प्रशंसकों को मैदान पर वापसी का इंतजार है.

यह भी पढ़ें: Year Ender: भारत रहा 2019 का बेताज बादशाह, जीत से लेकर रन-विकेट सबमें अव्वल Indian 

स्पष्ट है कि एमएस धोनी का करियर कमाल का रहा है. लेकिन यह खबर सच नहीं है कि उनका करियर 15 साल का हो गया है. दरअसल, 15 साल पहले डेब्यू करना और 15 साल का करियर हो जाना, इन दोनों बातों में अंतर है. इस अंतर को समझना भी आसान है. 23 दिसंबर को सोशल मीडिया पर #15YearsOfDhonism और #15yearsOFMSD ट्रेंड भी देखे गए. 

यह भी पढ़ें: 2010-19: विराट कोहली हैं इस दशक के किंग, कोई नहीं है टक्कर में 

एमएस धोनी ने अपना पहला मैच 23 दिसंबर 2004 को खेला था. उन्होंने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच इसी साल 10 जुलाई को विश्व कप में खेला. इस कारण जब हम उनके करियर की गिनती करेंगे तो 23 दिसंबर 2004 से 10 जुलाई 2019 के वक्त को ही गिनेंगे. इस तरह उनका करियर अभी 14 साल 199 दिन का है. 

यह भी पढ़ें: PAKvSL: 13 साल में पहली बार घर में टेस्ट जीता पाकिस्तान, भारत के रिकॉर्ड की बराबरी की

दरअसल, जब हम किसी खिलाड़ी के करियर की बात करते हैं तो उसके पहले मैच से लेकर आखिरी मैच तक के वक्त की गिनती ही करते हैं. लेकिन धोनी के करियर की गिनती करते वक्त कई लोग यहां एक गलती कर बैठे. उन्होंने धोनी के पहले मैच की तारीख तो याद रखी, लेकिन उनके आखिरी मैच को भूल गए. 

एमएस धोनी, जिन्होंने विश्व कप के बाद कोई मैच नहीं खेला है, उनका अगला मैच भी तय नहीं है. एमएस धोनी ने साफ कर दिया है कि वे अगले साल होने वाले आईपीएल में खेलेंगे. धोनी के इसी प्रदर्शन पर यह तय करेगा कि उन्हें भारतीय टीम में खेलने का मौका मिलेगा या नहीं. अगर उन्हें मौका मिला तो उनका करियर 15 साल से अधिक का हो जाएगा. लेकिन अगर किसी कारण उन्हें बिना इंटरनेशनल मैच खेले ही संन्यास लेना पड़ा तो उनका करियर 14 साल 199 दिन का ही रहेगा. 

यह भी पढ़ें: INDvsWI: 6 गेंद पर 17 रन ठोकने वाले शार्दुल बोले, विराट के विकेट के बारे में सोचता तो... 

जब हम एमएस धोनी की बात कर रहे हैं तो दिनेश कार्तिक के आंकड़ों पर भी नजर डालें. कार्तिक ने धोनी से पहले इंटरनेशनल क्रिकेट में डेब्यू किया था. कार्तिक ने अपना पहला इंटरनेशनल मैच 3 सितंबर 2004 को खेला था. लेकिन हम यह नहीं कह सकते कि उनका इंटरनेशनल करियर 15 साल का हो गया है. अभी उनका इंटरनेशनल करियर 14 साल 308 दिन का है. अगर उन्हें टीम इंडिया में दोबारा खेलने का मौका नहीं मिला तो यही उनके करियर के आंकड़े में भी कोई बदलाव नहीं होगा.

सचिन का करियर सबसे लंबा 
वनडे इंटरनेशनल क्रिकेट में सबसे लंबा करियर सचिन तेंदुलकर (22 साल, 91 दिन) का रहा है. दूसरे नंबर पर श्रीलंका के सनथ जयसूर्या (21 साल 184 दिन) हैं. भारतीय क्रिकेटरों की बात करें तो हरभजन सिंह, अनिल कुंबले, युवराज सिंह, कपिल देव का वनडे करियर 16 साल से अधिक रहा है. सौरव गांगुली, दिलीप वेंगसरकर, राहुल द्रविड़ और मोहम्मद अजहरुद्दीप का वनडे करियर 15 साल से अधिक है. हरभजन सिंह का करियर अभी 17 साल 191 दिन का है क्योंकि उन्होंने अपना आखिरी मैच 2015 में खेला था. अगर हम आज की तारीख तक  उनका करियर गिनेंगे तो यह 21 साल का हो जाएगा. लेकिन,ऐसा नहीं किया जा सकता. भले ही उन्होंने संन्यास नहीं लिया है, तब भी हम उनके करियर की गिनती आज की तारीख तक नहीं करेंगे.