close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

IND vs WI: बुमराह ने खोला वेस्टइंडीज में अपनी सफलता का राज, इस अनुभव से मिला फायदा

वेस्टइंडीज में जसप्रीत बुमराह ने पहले मैच में पांच विकेट और दूसरे मैच की पहली पारी में छह विकेट लिए. बुमराह ने अपनी सफलता का श्रेय अपने इंग्लैंड के अनुभव को दिया. 

IND vs WI: बुमराह ने खोला वेस्टइंडीज में अपनी सफलता का राज, इस अनुभव से मिला फायदा
जसप्रीत बुमराह टेस्ट क्रिकेट में भारत के लिए हैट्रिक लेने वाले तीसरे बॉलर हैं. (फोटो:PTI)

किंग्सटन (जमैका): टीम इंडिया वेस्टइंडीज में इतिहास रचने के करीब है. भारत और वेस्टइंडीज (India vs West Indies) के बीच चल रही टेस्ट सीरीज के दूसरे टेस्ट में जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) की शानदार गेंदबाजी की. इससे वेस्टइंडीज की टीम पहली पारी में 117 रन पर सिमट गई और पहली पारी में टीम इंडिया से 299 रन से पिछड़ गई. अब मेजबान टीम 468 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए 45 रन पर दो विकेट गंवा चुकी है. अब टीम इंडिया यह टेस्ट सीरीज क्लीन स्वीप करने के नजदीक है. बुमराह ने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के बाद इस सीरीज में अपनी सफलता का श्रेय इंग्लैंड में हुए अपने अनुभव को बताया. 

इस मैच में पहले दिन टीम इंडिया ने अपनी पहली पारी में 416 रन बनाए जिसके जवाब में बुमराह की घातक गेंदबाजी के कारण वेस्टइंडीज की टीम दूसरे दिन केवल 7 विकेट पर 87 रन ही जुटा पाई. इसके बाद तीसरे दिन टीम 117 रन पर ऑलआउट हो गई. पहली पारी में बुमराह ने छह विकेट और उससे पहले एंटिगा में पांच विकेट लेने की उपलब्धि हासिल की. बुमराह ने जमैका में हैट्रिक भी ली. वे वेस्टइंडीज के खिलाफ हैट्रिक लेने वाले पहले भारतीय गेंदबाज भी बने. 

यह भी पढ़ें: एंटिगा के बाद जमैका में भी छाए जसप्रीत बुमराह, हैट्रिक और ‘छक्के’ से ढाया कहर

बुमराह ने इस मैच की पहली पारी में 12.1 ओवर में केवल 27 रन देकर कुल छह विकेट लिए. यह उनका वेस्टइंडीज के खिलाफ तो बेस्ट प्रदर्शन तो है ही, उनके करियर का भी बेस्ट प्रदर्शन है. बुमराह ने रविवार को मैच के बाद संवाददाताओं से बाद करते हुए कहा, “मैंने इंग्लैंड में बहुत क्रिेकेट खेला था. वहां टीम इंडिया ने कई टेस्ट मैच खेले थे जिसमें हमने ड्यूक गेंद से गेंदबाजी की थी. ड्यूक गेंद काफी मूवमेंट देती है जिससे आपको आउट स्विंग, इनस्विंग वगैरह में काफी आत्मविश्वास मिलता है. वहां के इसी अनुभव ने मेरी मदद की.”.

बुमराह ने कहा, “ आप विकेट की मदद करते हैं और जांचते हैं कि हालात कैसे काम कर सकते हैं. वहां पर विकेट अलग था और यहां पर विकेट पर काफी उछाल था. अब विकेट कुछ बेहतर हुआ है. इसलिए पिछली पारी के मुकाबले बेहतर हुआ है. हमने बढ़िया गेंदबाजी की हर तरफ से दबाव बनाया जिससे हम बढ़िया स्थिति में आ सके.” बुमराह 12 टेस्ट मैचों में अब तक 61 विकेट ले चुके हैं. उन्होंने जिस देश के खिलाफ भी टेस्ट खेला है उन सभी के खिलाफ पांच विकेट हॉल ले चुके हैं. वे ऐसा दक्षिण अफ्रीका, इंग्लैंड, ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल कर चुके हैं.