INDvsNZ: कप्तान रोहित ने 2 खिलाड़ियों को दिया जीत का श्रेय, कहा- दोनों ने मैच का रुख पलट दिया

भारतीय कप्तान रोहित शर्मा ने कहा कि टीम हैमिल्टन में मिली करारी शिकस्त के बाद खुद को परखना चाहती थी. इसीलिए पहले बैटिंग का निर्णय लिया. 

INDvsNZ: कप्तान रोहित ने 2 खिलाड़ियों को दिया जीत का श्रेय, कहा- दोनों ने मैच का रुख पलट दिया
विराट कोहली की जगह टीम इंडिया की कप्तानी कर रहे रोहित शर्मा पांचवें वनडे में सिर्फ दो रन ही बना सके. (फोटो: IANS)

वेलिंगटन: भारतीय टीम ने चौथे वनडे की करारी शिकस्त के बाद पांचवें वनडे मैच में शानदार वापसी की और न्यूजीलैंड को 35 रन से हराया. भारतीय कप्तान रोहित शर्मा (Rohit Sharma) इस जीत से बेहद संतुष्ट नजर आए. उन्होंने कहा कि हैमिल्टन में मिली करारी शिकस्त के बाद उनकी टीम कठिन परिस्थितियों में खुद को परखना चाहती थी. टीम इंडिया के पास पांचवें वनडे में भी बड़ा स्कोर नहीं था. इसलिए यह जीत और अहम हो जाती है. रोहित शर्मा ने पांचवें वनडे में टीम के जज्बे की प्रशंसा की जिससे भारत ने न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज (India vs New Zealand) 4-1 से अपने नाम की.  

भारत को चौथे वनडे में करारी हार का मुंह देखना पड़ा था जिसमें टीम महज 92 रन पर सिमट गई थी. भारतीय टीम ने इसके बाद पांचवें वनडे में पहले बल्लेबाजी करते हुए 252 रन का स्कोर खड़ा किया. इसके बाद मेजबान टीम को 217 रन पर समेटकर 35 रन से जीत हासिल की. अब दोनों टीमें बुधवार (6 फरवरी) से टी20 सीरीज खेलेंगी. 

रोहित शर्मा ने मैच खत्म होने के बाद कहा, ‘हैमिल्टन में मिली हार बहुत बड़ी थी. हमें बतौर टीम एकजुट होने की जरूरत थी. मैं जानता था कि पिच पर कुछ नमी थी. अगर सीरीज जीवंत होती तो हम लक्ष्य का पीछा करना चाहते, लेकिन हम आज खुद को परखना चाहते थे.’ 

रोहित शर्मा बल्लेबाजी में केवल दो रन का योगदान दे सके. उन्होंने कहा, ‘जब हमने चार विकेट गंवा दिए थे, तो हमें सिर्फ किसी के मैदान पर टिकने की जरूरत थी. अंबाती रायडु (Ambati Rayudu) और विजय शंकर (Vijay Shankar) ने ऐसा ही किया. दोनों के बीच साझेदारी ने हमारे लिए मैच का रुख पलट दिया और अंत में जिस तरह से हार्दिक पांड्या (Hardik Pandya) और केदार जाधव (Kedar Jadhav) खेले, वो शानदार था. टीम का जज्बा शानदार रहा.’ 

भारतीय कप्तान ने अहम मौकों पर विकेट झटकने के लिए गेंदबाजों की भी तारीफ की. उन्होंने कहा, ‘अंत में विकेट सपाट हो गया था, लेकिन एक समय ऐसा लग रहा था कि इस लक्ष्य को हासिल करना आसान है. ऐसे में हमारी गेंदबाजी यूनिट ने एकजुट होकर गेंदबाजी की और हमें जीत दिलाई. गेंदबाजों ने अहम मौकों पर विकेट झटके। मैं इससे ज्यादा की उम्मीद नहीं कर सकता.’ 

(इनपुट: भाषा)