close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

INDvsNZ: नेपियर में अजीब वजह से रुका खेल, अंपायरों को भी याद नहीं ऐसा पहले कब हुआ था

नेपियर वनडे में  एक अनोखा वाक्या हुआ जब सूरज की रोशनी के कारण खेल को रोक दिया गया. 

INDvsNZ: नेपियर में अजीब वजह से रुका खेल, अंपायरों को भी याद नहीं ऐसा पहले कब हुआ था
नेपियर के मैक्लीन मैदान की पिच की दिशा पूर्व पश्चिम की है जिससे दिक्कत आई. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: भारत और न्यूजीलैंड के बीच नेपियर में पांच वनडे मैचों की सीरीज का पहला मैच चल रहा है. टीम इंडिया को जीत के लिए 158 रनों का लक्ष्य मिला है. इस लक्ष्य का पीछा करते हुए पहले 10 ओवर में टीम इंडिया ने एक विकेट के नुकसान पर 43 रन बना लिए थे. ऐसा में एक अनोखा वाक्या हुआ जो क्रिकेट इतिहास शायद ही कभी हुआ हो. कम से कम अंपायर को तो याद नहीं कि ऐसा कब हुआ था. अंपायर को खेल केवल इस वजह से रोकना पड़ा की नेपियर में ढलते सूरज की रोशनी सीधे बल्लेबाजों की आंखों में पड़ रही थी जिससे वे गेंद देख नहीं पा रहे थे. 

इस वजह से रोका गया खेल
न्यूजीलैंड के दिए 158 रनों के लक्ष्य का पीछे करते हुए भारतीय पारी में 11वें ओवर के दौरान बल्लेबाज शिखर धवन को सूरज की रोशनी सीधे आंखों में पड़ने के कारण गेंद देखने में परेशानी हुई जिसके बाद अंपायार ने खेल रोक दिया. आम तौर पर क्रिकेट मैदानों में पिच की दिशा उत्तर दक्षिण दिशा में रखी जाती है, लेकिन नेपियर के मैक्लीन पार्क में पिच की दिशा पूर्व पश्चिम है. इसी वजह से एक छोर पर बल्लेबाजी करने वाले बल्लेबाज की आंखों में ढलते सूरज की रोशनी सीधी पड़ती है. नेपियर में यही देखने को मिल रहा है.

अंपायर ने नहीं देखा पहले ऐसा
मैच रोकने के बाद अंपायर शॉन हेग ने बताया कि उन्हें याद नहीं कि उनके 14 साल के अंपायरिंग करियर में कब इस वजह से मैच रोका गया था. उन्होंने कहा, “ढलते सूरज की रोशनी सीधे बल्लेबाजों के आंखों में जा रही है, इसलिए हमें खिलाड़ियों और अंपयारों की सुरक्षा को देखते हुए खेल रोकना पड़ रहा है. हमने तय किया है कि हम खेल के हालात सुधरने तक शुरू नहीं करेंगे. ऐसा पहली बार है जब अपने 14 साल के करियर में मैने क्रिकेट के मैदान पर ऐसा कभी होते नहीं देखा.

हर्षा भोगले ने भी कहा, मैंने भी देखा पहली बार ऐसा
कॉमेंटेटर हर्षा भोगले ने भी ट्वीट कर कहा, “मेरे लिए यह पहली बार है, खेल इसलिए रोका गया कि ढलता सूरज बल्लेबाजों की आंखों में पड़ रहा था. निश्चित तौर पर पिचों को उत्तर दक्षिण दिशा में रखा जाना चाहिए. वहीं नेपियर के मेयर बिल डॉल्टन ने कहा, हमें इसका इल्म पहले था कि ऐसा हो सकता है और हमने इसके लिए योजना भी बना ली थी. पहले बड़ा स्टैंड बनाने की योजना थी जिसे सूरज की रोशनी रोकी जा सके. अब हम नई योजना पर काम कर रहे हैं. 

शिखर धवन ने की थी शिकायत 
158 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए टीम इंडिया ने पहले 9 ओवरों में बिना कोई विकेट खोए 41 रन बनाए. इसके बाद लंच की घोषणा कर दी गई और लंच के बाद ही टीम इंडिया ने पहला विकेट रोहित शर्मा के रूप में पहला विकेट गंवा दिया. इसके बाद शिखर धवन ने अंपायर से गेंद न दिखाई देने की शिकायत की और खेल रोक दिया गया. हालांकि आधे घंटे बाद मैच दोबारा शुरू हो सका जब पिच पर छांव आ गई. 

इस वजह से टीम इंडिया को संशोधित लक्ष्य
मैच जब दोबारा शुरू हुआ तो टीम इंडिया को संशोधित लक्ष्य दिया गया. टीम के कोटे से एक ओवर घटाया गया जिसके कारण टीम इंडिया को 49 ओवरों में 156 रनों का लक्ष्य मिला.  हालांकि इसका मैच के नतीजे पर कोई असर नहीं दिखा. टीम इंडिया ने यह लक्ष्य 34.5 ओवर में दो विकेट खोकर ही हासिल कर लिया था. 

ऐसी रही न्यूजीलैंड की पारी
इससे पहले कप्तान केन विलियमसन (64) की अर्धशतकीय पारी की बदौलत न्यूजीलैंड ने इस मैच में157 रनों का स्कोर खड़ा किया.  इस पारी में भारत के लिए कुलदीप ने सबसे अधिक चार विकेट लिए. इसके अलावा, मोहम्मद शमी ने तीन और युजवेंद्र ने दो विकेट हासिल किए. केदार जाधव को एक सफलता हाथ लगी. 

(इनपुट आईएएनएस)