Irani Cup: विदर्भ ने लगातार दूसरी साल जीता खिताब, हनुमा विहारी के 2 शतक बेकार

रणजी चैंपियन विदर्भ ने शेष भारत को हराकर खिताब जीता. उसने पिछले साल भी रणजी ट्रॉफी जीतने के बाद ईरानी कप भी जीता था. 

Irani Cup: विदर्भ ने लगातार दूसरी साल जीता खिताब, हनुमा विहारी के 2 शतक बेकार
विदर्भ के खिलाड़ी ईरानी कप के पांचवें दिन मैदान पर उतरते हुए. (फोटो: PTI)

नागपुर: विदर्भ ने शेष भारत की टीम हराकर ईरानी कप (Irani Cup) का खिताब लगातार दूसरी बार जीत लिया है. रणजी चैंपियन विदर्भ (Vidarbha) ने पहली पारी में मिली बढ़त के आधार पर यह मुकाबला जीता. विदर्भ ने लगातार दूसरी बार यह गोल्डन डबल पूरा किया है. उसने पिछले सीजन में भी रणजी ट्रॉफी और ईरानी कप (ट्रॉफी) दोनों के खिताब जीते थे. विदर्भ के ऑलराउंडर अक्षय कारनेवार (Akshay Karnewar) को ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया. उन्होंने मैच की पहली पारी में 102 रन बनाए और एक विकेट भी लिया. 

शेष भारत (Rest of India) ने विदर्भ को मुकाबला जीतने के लिए 280 रन का लक्ष्य दिया था. विदर्भ ने जब लक्ष्य का पीछा करते हुए मैच के पांचवें और आखिरी दिन शनिवार को 5 विकेट पर 269 रन बनाए थे, तब खेल रोकना पड़ा. इसके बाद उसे पहली पारी में बढ़त के आधार पर विजेता घोषित किया गया. विदर्भ ने अपनी पहली पारी में 425 रन बनाकर शेष भारत पर 95 रन की बढ़त ली थी. शेष भारत ने पहली पारी में 330 रन बनाने के बाद दूसरी पारी तीन विकेट पर 374 रन बनाकर घोषित की थी. 

यह भी पढ़ें: World Cup 2019: क्या दिनेश कार्तिक की किस्मत ने एक बार फिर धोखा दे दिया है

इससे पहले विदर्भ ने अपने कल (शुक्रवार) के स्कोर एक विकेट के नुकसान पर 37 रन से आगे खेलना शुरू किया. संजय रघुनाथ 17 और अर्थवा टाइडे ने अपनी पारी को 16 रन से आगे बढ़ाया. दोनों बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 116 रन की शतकीय साझेदारी की. संजय 131 गेंदों का सामना करने के बाद 42 के निजी स्कोर पर आउट हुए. उनके आउट होने के बाद टाइडे भी अपना अर्धशतक पूरा कर टीम के 146 के स्कोर पर तीसरे बल्लेबाज के रूप में प्वेलियन लौटे. उन्होंने 185 गेंदों पर आठ चौके और एक छक्का लगाया. 

यह भी पढ़ें: ईरानी कप में लगातार 3 शतक बनाने वाले पहले खिलाड़ी बने हनुमा विहारी

सतीश ने फिर से यहां से मोहित काले (37) के साथ चौथे विकेट के लिए 83 रन जोड़कर टीम को लक्ष्य के करीब पहुंचाया. काले के आउट होने के बाद सतीश भी टीम के 269 के स्कोर पर पांचवें बल्लेबाज के रूप में आउट हो गए. सतीश ने 168 गेंदों पर नौ चौके और एक छक्का लगाया. सतीश जब आउट हुए तो टीम को मैच जीतने के लिए 11 रन बनाने थे. लेकिन मैच ड्रॉ की घोषणा कर दी गई. अक्षय वाडकर 10 रन बनाकर नाबाद लौटे. शेष भारत एकादश की ओर से राहुल चाहर ने दो और अंकित राजपूत, धर्मेद्रसिंह जडेजा तथा दोनों पारियों में शतक लगाने वाले हनुमा विहारी ने एक-एक विकेट लिए. 

(इनपुट: आईएएनएस)