पाकिस्तानी दिग्गज सोहेल ने PCB को आड़े हाथ लिया, कहा- क्वालिटी क्वांटिटी से आती है

पाकिस्तान के पू्र्व कप्तान आमिर सोहेल ने पीसीबी को घरेलू क्रिकेट में बदलाव करने लिए आड़े हाथ लिया है.  

पाकिस्तानी दिग्गज सोहेल ने PCB को आड़े हाथ लिया, कहा- क्वालिटी क्वांटिटी से आती है
पीसीबी ने घरेलू प्रथम श्रेणी को छह टीमों तक सीमित करने का फैसला लिया है. (फाइल फोटो)

लाहौर: पाकिस्तान क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान और पूर्व मुख्य चयनकर्ता आमिर सोहेल (Aamer Sohail) ने पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड (PCB) को आड़े हाथ लिया है. सोहेल का मानना है कि पीसीबी को घरेलू क्रिकेट में बदलाव करने से पहले अपने अंदर संचालन की उलझनों को दूर करना चाहिए. पीसीबी ने हाल में ही डिपार्टमेंट क्रिकेट टीमों को भंग करके घरेलू प्रथम श्रेणी को छह टीमों तक सीमित करने का फैसला लिया है. इसे लेकर सोहेल ने पीसीबी की अलोचना की है.

प्रथम श्रेणी क्रिकेट को छह टीमों तक सीमित करना गलत- सोहेल
सोहेल ने शनिवार को कहा, "पीसीबी सिर्फ एक आदमी के कहने पर घरेलू क्रिकेट संरचना में बदलाव कर रहा है. प्रथम श्रेणी क्रिकेट को छह टीमों तक सीमित करना गलत फैसला है, क्योंकि पाकिस्तान में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है. और पीसीबी अपने इस फैसले के जरिए इन तमाम प्रतिभाओं का गला घोंटने की तैयारी में है. हमें नहीं भूलना चाहिए कि क्वालिटी, क्वांटिटी से ही आती है."

पीसीबी को फैसला लेने का कोई हक नहीं
पाकिस्तान पूर्व कप्तान सोहेल ने कहा, "डिपार्टमेंट टीमों का गठन स्टेट पॉलिसी के आधार पर किया गया है. यह सरकार द्वारा लिया गया निर्णय नहीं है. पीसीबी को यह बदलाव करने का कोई हक नहीं है.पीसीबी को इस सम्बंध में कोई फैसला लेने से पहले इसे आम बैठक में चर्चा में लाना चाहिए था. इसकी जानकारी बोर्ड ऑफ गवर्नर्स को देनी चाहिए थी. लेकिन यहां सब असंवैधानिक तरीके से हो रहा है और वह भी किसी एक व्यक्ति के कहने पर."

पाकिस्तान क्रिकट को नुकसान- सोहेल
आमिर सोहेल का मानना है कि पीसीबी के इस बदलाव से पाकिस्तान क्रिकेट का नुकसान होगा. सोहेल ने कहा," पाकिस्तान में टैंलट की कमी नहीं है. युवाओं को राह की जरूरत है, जबकि पीसीबी इन्हें गुमराह कर रहा है. पीसीबी को क्वालिटी बढ़ाने के लिए टीमों को खेल में जोड़ना चाहिए, नहीं की उन्हें खेल से बाहर करना चाहिए."

Zee News App: पाएँ हिंदी में ताज़ा समाचार, देश-दुनिया की खबरें, फिल्म, बिज़नेस अपडेट्स, खेल की दुनिया की हलचल, देखें लाइव न्यूज़ और धर्म-कर्म से जुड़ी खबरें, आदि.अभी डाउनलोड करें ज़ी न्यूज़ ऐप.