क्रिकेट: नए साल में होगा बड़ा बदलाव, 4 दिन के टेस्ट कराने की तैयारी में ICC, जानें और क्या बदलेगा

आईसीसी का मानना है कि इससे क्रिकेट कैलेंडर की व्ययस्तता कम होगी और खिलाड़ियों पर रहने वाला दबाव भी घटेगा.

क्रिकेट: नए साल में होगा बड़ा बदलाव, 4 दिन के टेस्ट कराने की तैयारी में ICC, जानें और क्या बदलेगा
भारतीय क्रिकेट टीम. (फाइल फोटो)

नई दिल्ली: आईसीसी वनडे और टी20 क्रिकेट की तर्ज पर वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप शुरू करने के बाद एक और बड़े बदलाव की तैयारी कर रही है. वह टेस्ट क्रिकेट (Test Cricket) को और रोमांचक बनाने के लिए 5 की जगह 4 दिन के टेस्ट मैच कराने पर विचार कर रही है. आईसीसी (ICC) इस बारे में अगले साल दुनिया के क्रिकेट बोर्ड से चर्चा करने जा रही है. उसका मानना है कि इससे क्रिकेट कैलेंडर की व्ययस्तता कम होगी. खिलाड़ियों पर दबाव घटेगा और विभिन्न देश के बोर्ड और ब्रॉडकास्टर के रेवेन्यू में भी बढ़ोतरी होगी. 

पिछले दो साल में 60% टेस्ट मैचों के रिजल्ट चार या इससे भी कम दिन में आ गए. आईसीसी को चार दिवसीय टेस्ट कराने के लिए इन्हीं नतीजों ने प्रेरित किया है. साल 2018 से 2019 के बीच 87 टेस्ट हुए. इनमें से 52 मैच चार या कम दिन में ही खत्म हो गए. इंटरनेशनल क्रिकेट काउंसिल (आईसीसी) इसी आधार पर टेस्ट मैचों के दिन कम करने के लिए सोच रही है. 

यह भी पढ़ें: Year Ender 2019: क्रिकेट के 5 बड़े विवाद; कोई संन्यास को मजबूर, तो किसी ने बदलवा दिए नियम  

माना जा रहा है कि चार दिवसीय टेस्ट का फॉर्मेट 2023 से टेस्ट चैंपियनशिप से लागू किया जा सकता है. इसका फायदा टी20 लीग जैसे टूर्नामेंटों को भी मिलेगा, जिनमें कई बार व्यस्त कार्यक्रम के कारण मुख्य खिलाड़ी हिस्सा नहीं ले पाते. कुल मिलाकर चार दिन के टेस्ट के दो मायने हैं. यह कैलेंडर और कार्यक्रम से दबाव को कम करेगा. जो समय बचेगा उसमें नए टूर्नामेंट को शामिल किया जाएगा. ऐसे में नए कैलेंडर को सरल होना चाहिए. 

तो 335 दिन का खेल बच जाता...
क्रिकइंफो की एक रिपोर्ट के मुताबिक अगर 2015 से 2023 के कैलेंडर में पांच की जगह चार दिन के टेस्ट कराए जाते तो कुल 335 दिन बच जाते. यह काफी महत्वपूर्ण है. इससे टेस्ट मैचों और सीरीज की संख्या बढ़ जाती. जैसे कि पिछले दिनों भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच 4 मैचों की सीरीज 20 दिन में खेली गई. अगर टेस्ट चार दिन के होते तो पांच मैच हो जाते. साथ ही टी20 लीग जैसे टूर्नामेंटों के लिए भी ज्यादा वक्त मिल जाता. 

सिर्फ 58 ओवर का खेल कम होगा
अगर चार दिवसीय टेस्ट का फॉर्मेट शुरू हो जाता है तो इन मैचों की शुरुआत गोल्फ की तरह गुरुवार को हो सकती है. ये मुकाबले गुरुवार से रविवार के बीच होंगे. वीकेंड में ज्यादा दर्शक मैच देखने आ सकेंगे. चार दिवसीय मैच होने पर हर दिन 98 ओवर का खेल होगा. इसके लिए हर रोज आधे घंटे का खेल बढ़ा दिया जाएगा. मैच में रोशनी की कमी ना हो, इसके लिए हर मैदान पर फ्लड लाइट्स अनिवार्य की जाएगी. अभी छह घंटे के खेल में 90 ओवर होते हैं. 

इंग्लैंड-आयरलैंड खेल चुके हैं 4 दिन का टेस्ट
ऐसा नहीं है कि अभी तक चार दिवसीय टेस्ट मैच खेले ही नहीं गए हैं. ऐसे मैच इंग्लैंड-आयरलैंड, दक्षिण अफ्रीका-जिम्बाब्वे के बीच खेले जा चुके हैं. अगले साल ऑस्ट्रेलिया की टीम अफगानिस्तान से चार दिन का टेस्ट मैच खेलने पर विचार कर रही है. हालांकि, इसके लिए दोनों क्रिकेट बोर्ड का सहमत होना जरूरी होता है. क्रिकेट आस्ट्रेलिया (सीए) के सीईओ केविन रॉबर्टसन ने कहा, ‘चार दिनों के टेस्ट को लेकर हमें गंभीरता से विचार करना होगा. हमें पिछले पांच से 10 साल के अंतराल में टेस्ट मैच के रिकॉर्ड को देखना होगा.’

(इनपुट: ANI)