पाकिस्तान को सबक सिखाने का समय आ गया है, कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए: युजवेंद्र चहल

युजवेंद्र चहल ने कहा, ‘‘इसे एक बार में ही खत्म कर देना चाहिए. हम इसे और बर्दाश्त नहीं कर सकते.’’

पाकिस्तान को सबक सिखाने का समय आ गया है, कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए: युजवेंद्र चहल
पुलवामा हमले के बाद युजवेंद्र चहल ने पाकिस्तान को लेकर अपनी प्रतिक्रिया दी है. (फोटो साभार: twitter/Yuzvendra Chahal)

नई दिल्ली: भारतीय लेग स्पिनर युजवेंद्र चहल का मानना है कि पुलवामा जैसे आतंकी हमलों को खत्म करने के लिए देश को कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए. उन्होंने हालांकि यह कहने से इनकार कर दिया कि पाकिस्तान के खिलाफ विश्व कप मैच का बहिष्कार किया जाना चाहिए या नहीं. चहल ने कहा, ‘‘इसे एक बार में ही खत्म कर देना चाहिए. हम इसे और बर्दाश्त नहीं कर सकते.’’

पुलवामा हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे जो जम्मू-कश्मीर में पिछले 30 साल में सबसे घातक आतंकी हमला है. इस बीच मांग उठने लगी है कि भारत को 30 मई से इंग्लैंड में होने वाले विश्व कप में पाकिस्तान के खिलाफ मैच खेलने से इनकार कर देना चाहिए.

गांगुली बोले- पाकिस्तान के साथ सभी खेल रिश्ते खत्म करो
वहीं, पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली ने पुलवामा आतंकी हमले के मद्देनजर बुधवार को पाकिस्तान के साथ सभी खेल रिश्ते तोड़ने की मांग की. इस हमले में 40 सीआरपीएफ कर्मियों की मौत हो गई थी. गांगुली ने एक समय टीम इंडिया के अपने साथी रहे हरभजन सिंह का समर्थन करते हुए कहा कि विश्व कप के एक मैच में पाकिस्तान के खिलाफ नहीं खेलने से भारत की संभावनाओं पर असर नहीं पड़ेगा.

हरभजन बोले, हमें देश के साथ खड़े होना चाहिए
ऑफ स्पिनर हरभजन सिंह का मानना है कि भारत को पुलवामा आतंकवादी हमले के मद्देनजर आगामी विश्व कप में पाकिस्तान से नहीं खेलना चाहिये. हरभजन ने कहा कि भारत अगर 16 जून को मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले मैच गंवा भी देता है तो भी इतना मजबूत है कि विश्व कप जीत सकता है. उन्होंने एक निजी चैनल के बातचीत में कहा,‘‘ भारत को विश्व कप में पाकिस्तान से नहीं खेलना चाहिये. भारतीय टीम इतनी मजबूत है कि पाकिस्तान से खेले बिना भी विश्व कप जीत सकती है.’’ हरभजन ने कहा,‘‘यह कठिन समय है.

वर्ल्डकप 2019 में पाकिस्तान को बैन करवाने की तैयारी
पुलवामा हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान को चौतरफा घेरना शुरू कर दिया है. अब पाकिस्तान क्रिकेट टीम को आगामी वर्ल्ड कप से बहिष्कार करवाने की तैयारी की जा रही है. इसके लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) एक पत्र लिखकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद् (आईसीसी) पर दबाव बनाएगा.