ओडिशा को पूरा यकीन, फोनी की तबाही के बाद भी कलिंगा स्टेडियम में होगा FIH टूर्नामेंट

हाल ही में आए फोनी चक्रवात से ओड़िशा के कलिंगा स्टेडियम की छतें उड़ती दिखाई थीं. इसके बाद भी अधिकारियों को यकीन है कि स्टेडियम अगले महीने एफाईएल सीरीज फाइनल के लिए तैयार हो जाएगा. 

ओडिशा को पूरा यकीन, फोनी की तबाही के बाद भी कलिंगा स्टेडियम में होगा FIH टूर्नामेंट
(फोटो साभार: ट्विटर)

भुवनेश्वर: हाल ही में आए चक्रवाती तूफान फोनी ने भारत के कुछ राज्यों में भारी तबाही मचाने की कोशिश की. लेकिन ओडिशा, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश जैसे राज्यों ने उसका असर से तबाही को कम से कम होने के जो सफल प्रयास किया. इस से दुनिया भर में भारत की तारीफ हुई. ओडिशा राज्य को तो जैसे तूफानों की आदत सी हो गई है. इस बार फोनी तूफान ने भुवनेश्वर के कलिंगा स्टेडियम को भी नहीं छोड़ा जिसकी उड़ती छतों का वीडीयो वायरल भी हो गया था. अब उम्मीद की जा रही है कि यह स्टेडियम जल्द ही फिर से तैयार हो जाएगा. 

छह जून से पहले तैयार होना है कलिंगा स्टेडियम को
फोनी से हुई भीषण तबाही के बाद कलिंगा स्टेडियम को जल्द ही फिर से ठीक होने की ज्यादा जरूरत है. लेकिन ओडिशा को छह जून से यहां होने वाले एफआईएच पुरूष सीरिज फाइनल्स के सफल आयोजन का यकीन है. इसके लिये कलिंगा स्टेडियम को तैयार करने के युद्धस्तर पर प्रयास जारी हैं. पिछले साल विश्व कप हाकी की मेजबानी कर चुके शहर में छह से 15 जून तक एफआईएच सीरिज फाइनल होना है जिसमें भारत के अलावा जापान, मैक्सिको, पोलैंड, रूस, दक्षिण अफ्रीका, अमेरिका और उजबेकिस्तान भाग लेंगे. यह तोक्यो ओलंपिक 2020 की क्वालीफाइंग प्रक्रिया का एक हिस्सा है.

यह भी पढ़ें: चक्रवात फोनी से कलिंगा स्टेडियम को मामूली नुकसान, भुवनेश्वर में ही होगा हॉकी टूर्नामेंट

तबाही बहुत ज्यादा तो नहीं, लेकिन कम भी नहीं हुई
तीन मई को आये तूफान फोनी में ओडिशा में 41 लोगों की मौत हुई. इसके अलावा बुनियादी ढांचा पूरी तरह से ठप हो गया जिसमें बिजली, दूरसंचार, पानी शामिल है. भुवनेश्वर में अकेले दस लाख से अधिक पेड़ गिर गए और जगह जगह पर मलबा बिखरा पड़ा है. फोनी के बाद अटकलें लगाई जा रही थी कि टूर्नामेंट स्थगित किया जायेगा या अन्यत्र स्थानांतरित हो सकता है. 

इस वजह से जल्दी तैयार होगा स्टेडियम
इन अटकलों को खारिज करते हुए ओडिशा के खेल और युवा कार्य विभाग के सचिव सह आयुक्त विशाल देव ने भाषा से कहा ,‘‘हम टूर्नामेंट की मेजबानी करेंगे और 30 मई तक स्टेडियम पूरी तरह से तैयार हो जायेगा.’’ उन्होंने कहा ,‘‘हमारी टीम, हाकी इंडिया और एफआईएच की टीमों ने मैदान का दौरा किया है. फोनी से कलिंगा स्टेडियम को ज्यादा नुकसान नहीं हुआ है और जो हुआ भी है, उसे इस महीने के आखिर तक दुरूस्त कर लिया जायेगा.’’ 

क्या किसी विदेशी टीम ने कोई आशंका जाहिर की है?
यह पूछने पर कि किसी विदेशी टीम ने कोई आशंका जाहिर की है, उन्होंने ना में जवाब दिया. उन्होंने कहा, ‘हमें किसी टीम की ओर से कोई आशंका नहीं मिली है. हम उनकी मेजबानी के लिये तैयार हैं और भुवनेश्वर में बुनियादी ढांचा तब तक दुरूस्त हो जायेगा. होटलों की भी कोई समस्या नहीं है. हम जून के पहले सप्ताह में भुवनेश्वर, पुरी और कोणार्क में पर्यटकों का स्वागत करने को तैयार होंगे.’’ उन्होंने कहा,‘‘ हमने यह टूर्नामेंट टाला नहीं क्योंकि हम दुनिया को दिखाना चाहते हैं कि खेलों में सफल मेजबान के रूप में खुद को स्थापित कर चुका ओडिशा कितना सक्षम है.’’ 

आयोजकों को भी भरोसा
वहीं हाकी इंडिया की सीईओ एलेना नार्मन ने भाषा से कहा, ‘‘हाकी इंडिया के अधिकारियों ने इस सप्ताह की शुरूआत में भुवनेश्वर का दौरा किया और हमें यकीन है कि निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार वहां एफआईएच सीरिज फाइनल खेला जायेगा.’’ उन्होंने कहा, ‘‘टूर्नामेंट से पहले की तैयारियां जारी है और हम सभी टीमों, अधिकारियों, हाकीप्रेमियों का स्वागत करने को तत्पर हैं.’’
(इनपुट आईएएनएस)