सस्ते एंड्रायड फोन से ज्यादा iPhone हैक होने का खतरा ज्यादा, Apple फोनधारी ध्यान दें

आपने अपने दोस्तों - परिवार वालों से हमेशा ये सुना होगा कि सबसे सुरक्षित फोन Iphone है. अक्सर हम मानते ही चले हैं कि सबसे मंहगे ब्रांड होने की एक वजह आईफोन की सिक्योरिटी फीचर ही है. लेकिन शायद ये खबर आपकी सोच को विचलित कर सकती है. इंग्लैंड में हुए एक शोध में दावा किया गया है कि अन्य एंड्रायड ब्रांड के मुकाबले आईफोन के हैक होने की संभावना 167 गुना ज्यादा है. 

सस्ते एंड्रायड फोन से ज्यादा iPhone हैक होने का खतरा ज्यादा, Apple फोनधारी ध्यान दें
प्रतीकात्मक तस्वीर....

आपने अपने दोस्तों - परिवार वालों से हमेशा ये सुना होगा कि सबसे सुरक्षित फोन Iphone है. अक्सर हम मानते ही चले हैं कि सबसे मंहगे ब्रांड होने की एक वजह आईफोन की सिक्योरिटी फीचर ही है. लेकिन शायद ये खबर आपकी सोच को विचलित कर सकती है. इंग्लैंड में हुए एक शोध में दावा किया गया है कि अन्य एंड्रायड ब्रांड के मुकाबले आईफोन के हैक होने की संभावना 167 गुना ज्यादा है. 

चौंकाने वाले आंकड़े
इंग्लैंड में फोन से जुड़े मुद्दों को देखने वाली कंपनी केस24 डॉट कॉम के अनुसार ये आंकड़े गुगल सर्च के विश्लेषण से एकत्र किए गए हैं. इसमें शोधकर्ताओं ने जानना चाहा कि कितने नागरिक विभिन्न मोबाइल फोन को हैक करना चाहते हैं. शोध में पाया गया है कि सिर्फ 700 बार ये बात सर्च किया गया है कि सैमसंग के फोन को कैसे हैक किया जाए. लेकिन चौंकाने वाली बात ये है कि लगभग 10,040 सर्च सिर्फ इस बात पर थे कि आईफोन कैसे हैक किया जाए.

सबसे रोचक बात ये है कि ज्यादातर लोग एंड्रायड वाले फोन के हैक करने के बारे में जानने के लिए दिलचस्पी ही नहीं दिखाते. सभी ब्रांडों को लेकर मासिक तौर पर 100 से भी कम सर्च किए गए हैं. मात्र 50 सर्च के साथ सोनी सबसे निचले पायदान पर है. 

दूसरों के सोशल एकाउंट भी हैक करने की है दिलचस्पी
इसके साथ ही शोध के दौरान विशेषज्ञों को एक और बात पता चली कि बहुतायत में लोग दूसरों के सोशल एकाउंट भी हैक करना चाहते हैं. लगभग 12310 ब्रिटिश लोग यह जानना चाहते हैं कि किसी अन्य के इंस्टाग्राम अकाउंट को कैसे हैक किया जाता है. इस स्थान पर स्नैपचैट दूसरे और व्हाट्एप तीसरे पायदान पर है.