close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पॉडकास्टर बनना अब पहले की तुलना में अधिक हुआ आसान, भारतीय कहानीकारों को हो सकता है फायदा

2018 में शुरू की गई एक एआई-सक्षम सामग्री एग्रीगेटर और देश की सबसे बड़ी पॉडकास्ट डायरेक्टरी हबहॉपर ने अब 'हबहॉपर ओरिजिनल' पेश कर इसका समाधान प्रस्तुत किया है. 

पॉडकास्टर बनना अब पहले की तुलना में अधिक हुआ आसान, भारतीय कहानीकारों को हो सकता है फायदा
.(फोटो-hubhopper.com)

नई दिल्ली: भारत की सबसे बड़ी पॉडकास्ट डायरेक्टरी ने भारतभर के सभी आयु समूहों के स्वतंत्र पॉडकास्टर्स को प्रोत्साहन देने के लिए नई श्रेणी शुरू की है जिसके तहत जय अलानी के साथ मिलकर पैरानॉर्मल रियलिटी पॉडकास्ट शुरू किया गया. कंपनी ने एक बयान में कहा कि पॉडकास्टर बनना अब पहले की तुलना में ज्यादा आसान है. 2018 में शुरू की गई एक एआई-सक्षम सामग्री एग्रीगेटर और देश की सबसे बड़ी पॉडकास्ट डायरेक्टरी हबहॉपर ने अब 'हबहॉपर ओरिजिनल' पेश कर इसका समाधान प्रस्तुत किया है. इसके माध्यम से हबहॉपर स्वतंत्र और छोटे शहर के पॉडकास्टर्स को पॉडकास्ट के निर्माण और वितरण में आवश्यक सभी सहायता प्रदान करेगा.

पॉडकास्टर बनने के लिए अद्वितीय सामग्री और अच्छे वक्तृत्व कौशल की आवश्यकता अनिवार्य तौर पर होती है. उत्पादन और वितरण भी आपकी सामग्री को वायरल या लोगों की पसंदीदा बनाने में आवश्यक हैं, लेकिन कई स्वतंत्र कलाकार उपकरणों के बारे में अपनी जानकारी, सॉफ्टवेयर्स, मार्केटिंग रणनीतियों और सबसे महत्वपूर्ण एक प्लेटफार्म के अभाव के कारण इस चरण से आगे नहीं जा पा रहे हैं. 

हबहॉपर ने इन पॉडकास्टर्स या 'साझेदारों' के लिए समाधान प्रदान करने के इरादे से यह नया कार्यक्रम शुरू किया है. पॉडकास्टिंग के क्षेत्र की प्रमुख कंपनी ने पटना से भारत के सबसे प्रसिद्ध पैरानॉर्मल इन्वेस्टिगेटर्स में से एक, जय अलानी के साथ मिलकर पैरानॉर्मल रियलिटी की शुरुआत की है.

मॉनेटाइजेशन और एक्सपोजर के तरीकों का पता लगाने, माइक्रोफोन के इस्तेमाल और एडिटिंग का तरीका तय करने से लेकर- हबहॉपर ओरिजिन, प्रोडक्शन की पूरी प्रक्रिया के साथ-साथ पॉडकास्ट के वितरण में भी रचनाकारों की सहायता करेगा. अब भी सामग्री और पॉडकास्टर के प्रयासों पर ही जोर दिया जाएगा, लेकिन यह प्रोग्राम आवश्यक मार्गदर्शन में काम आएगा.

हबहॉपर के संस्थापक और सीईओ गौतम राज आनंद ने कहा, "किसी के भी पास सबसे अच्छी और अधिक भरोसेमंद सामग्री हो सकती है, लेकिन हो सकता है कि उत्पादन या वितरण या संसाधनों या ज्ञान की कमी कमी की वजह से वह उस सामग्री को अपने लक्षित दर्शकों तक पहुंचने में पीछे रह रहा हो. इसी वजह से हम अपनी नई श्रेणी, 'हबहॉपर ओरिजिनल' पेश किया है  . इस प्रोग्राम के माध्यम से उन्हें सिर्फ वह करने की जरूरत होगी जो वे करते हैं यानी सामग्री बनाना, बाकी सब कामों में हम उनकी सहायता करेंगे."

हबहॉपर हमेशा से विभिन्न विषयों पर स्वतंत्र पॉडकास्ट कंटेंट के लिए एग्रीगेटर की भूमिका निभाता आया है- जैसे- 'द इंस्पायरिंग टॉक', 'चुस्की पॉप', 'देसी आउटसाइडर्स', 'कल्चर कैओस' और 'रॉबिन शर्मा मास्टरी सेशन' . इस पहल के माध्यम से डिजिटल कंटेंट प्लेटफार्म का उद्देश्य विभिन्न श्रेणियों, क्षेत्रों और भाषा-विज्ञान के रचनाकारों को फलने-फूलने के लिए एक प्लेटफार्म प्रदान करना है.

इनपुट आईएएनएस से भी