close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

इंडोनिशया में बाढ़ से मरने वालों की संख्या हुई 77, 59 लोग हुए घायल

भारी बारिश और भूस्खलन की वजह से आई बाढ़ के चलते तीन दर्जन अधिक लोग लापता हैं और अनेक घायल हुए हैं

इंडोनिशया में बाढ़ से मरने वालों की संख्या हुई 77, 59 लोग हुए घायल
बाढ़ से दर्जनों घर क्षतिग्रस्त भी हुए हैं

नई दिल्ली: इंडोनेशिया के पूर्वी प्रांत पापुआ में बाढ़ से मरने वालों की संख्या कम से कम 77 हो गई है. देश की आपदा मोचन एजेंसी ने सोमवार को कहा कि अचानक आई बाढ़ से मरने वालों की संख्या 58 से बढ़कर 77 तक पहुंच गई है.

भारी बारिश और भूस्खलन की वजह से आई बाढ़ के चलते तीन दर्जन अधिक लोग लापता हैं और अनेक घायल हुए हैं. बता दें कि इंडोनिशया के पूर्वी प्रांत पापुआ में अचानक आई बाढ़ आ गई. अधिकारियों ने रविवार को बताया कि प्रांतीय राजधानी जयपुरा के पास स्थित सेंतानी में शनिवार को भारी बारिश के चलते भूस्खलन हुआ और बाढ़ आ गई.

राष्ट्रीय आपदा एजेंसी के प्रवक्ता पुर्वो नुग्रोहो ने बताया कि बाढ़ से दर्जनों घर क्षतिग्रस्त भी हुए हैं. उन्होंने कहा, 'हताहत हुए लोगों की संख्या तथा आपदा से नुकसान अभी और बढ़ सकता है क्योंकि तलाश एवं बचाव दल अब भी प्रभावित इलाकों तक पहुंचने की कोशिश कर रहे हैं'. उन्होंने कहा, 'बाढ़ संभवत: भूस्खलन के कारण आई'. बाढ़ का पानी कम हुआ है. हालांकि, अधिकारी अब भी लोगों को सुरक्षित स्थान पर पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं. 

नुग्रोहो ने कहा, 'संयुक्त तलाश एवं बचाव दल अब भी लोगों को निकालने का काम कर रहे हैं और पेड़ गिरने, चट्टानों, कीचड़ और तथा अन्य कारणों के चलते सभी प्रभावित क्षेत्रों तक नहीं पहुंच पा रहे हैं'.

इंडोनेशिया में आम तौर पर बाढ़ आती रहती है, खासकर अक्टूबर से अप्रैल के बीच यहां बारिश के मौसम में ऐसी स्थिति उत्पन्न होती है. गत जनवरी में देश के सुलावेसी द्वीप पर बाढ़ और भूस्खलन से कम से कम 70 लोगों की मौत हो गई थी.