कॉरपोरेट जगत की अमेरिकी सांसदों से मांग, बच्चों के रूप में लाए गए आव्रजकों का संरक्षण हो

अमेरिकी संसद को खुले पत्र में जनरल मोटर्स, फेसबुक, कोका कोला, एपल, अमेजन, गूगल, एटीएंडटी तथा माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुखों ने कहा है कि इन आव्रजकों को ‘ड्रीमर्स’ कहा जाता है.

कॉरपोरेट जगत की अमेरिकी सांसदों से मांग, बच्चों के रूप में लाए गए आव्रजकों का संरक्षण हो
करीब 20 साल से चल रहे अभियान के तहत सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सांसदों से ‘ड्रीम अधिनियम’ को पारित करने का दबाव बनाया है.

वॉशिंगटन : अमेरिका के 100 से अधिक मुख्य कार्यपालक अधिकारियों (सीईओ) तथा अन्य दिग्गज लोगों ने अमेरिकी सांसदों से मांग की है कि अमेरिका में बच्चों के रूप में गैरकानूनी तरीके से लाए गए आव्रजकों का संरक्षण किया जाए. 

अमेरिकी संसद को खुले पत्र में जनरल मोटर्स, फेसबुक, कोका कोला, एपल, अमेजन, गूगल, एटीएंडटी तथा माइक्रोसॉफ्ट के प्रमुखों ने कहा है कि इन आव्रजकों को ‘ड्रीमर्स’ कहा जाता है और ये अमेरिकी अर्थव्यवस्था के लिए सौगात हैं. ये आव्रजक अमेरिका का एक प्रतिबद्ध श्रमबल है. 

इन कार्यकारियों का पत्र सोमवार को द न्यूयॉर्क टाइम्स में एक पूरे पृष्ठ के विज्ञापन के रूप में प्रकाशित हुआ है. इसमें कहा गया है, ‘‘यह हमारे दोस्त, पड़ोसी और सहयोगी कर्मचारी हैं. उनका भविष्य क्या होगा उसके लिए अदालती फैसले का इंतजार नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि अमेरिकी कांग्रेस इस पर अभी कदम उठा सकती है.’’ 

करीब 20 साल से चल रहे अभियान के तहत सामाजिक कार्यकर्ताओं ने सांसदों से ‘ड्रीम अधिनियम’ को पारित करने का दबाव बनाया है. इस कानून के तहत ‘ड्रीमर्स’ अमेरिका के वैध निवासी बन जाएंगे और उनकी नागरिकता का मार्ग खुल सकेगा.

पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने सात लाख ड्रीमर्स को उनके देश वापस देने जाने से कुछ शर्तों के साथ संरक्षण दिया था. लेकिन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने 2017 में इस नीति का रद्द कर दिया था. हालांकि, अदालती आदेश के बाद यह कानून अभी कायम है. 

(इनपुटःभाषा)