close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

जी-20 सम्मेलन में सऊदी के प्रिंस से की डोनाल्ड ट्रंप ने मुलाकात, लेकिन इस मुद्दे पर रहे खामोश

ब्यूनस आयर्स में पूर्व अधिवेशन के दौरान हालांकि ट्रंप और सलमान के बीच संक्षिप्त वार्ता हुई थी और सऊदी अरब से अमेरिका के रिश्ते सामान्य हो गए थे

जी-20 सम्मेलन में सऊदी के प्रिंस से की डोनाल्ड ट्रंप ने मुलाकात, लेकिन इस मुद्दे पर रहे खामोश
फोटो साभार : Reuters

ओसाका: अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने शनिवार को सऊदी के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान को अपना दोस्त बताया, लेकिन सऊदी पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या पर क्या वह सलमान से चर्चा करेंगे, इससे संबंधित सवालों को उन्होंने नजरंदाज कर दिया. समाचार एजेंसी एफे की रिपोर्ट के अनुसार, ओसाका में जी-20 सम्मेलन के दूसरे दिन नाश्ते के दौरान ट्रंप ने एमबीएस के नाम से प्रसिद्ध सलमान को अपना दोस्त बताते हुए उनके काम के लिए उन्हें बधाई देने के साथ-साथ इस बात पर जोर दिया कि सऊदी अरब अमेरिकी उत्पादों का अच्छा खरीदार है.

खगोशी से जुड़े सवालों को किया नजरअंदाज
कई पत्रकारों ने उनसे पूछा कि क्या वे सलमान के साथ खाशोगी का मुद्दा उठाएंगे, लेकिन ट्रंप ने उन प्रश्नों को नकार दिया और उन प्रश्नों से चिढ़े हुए दिखे. पिछले साल दिसंबर में ब्यूनस आयर्स में आयोजित हुए पिछले जी-20 सम्मेलन के दौरान व्हाइट हाउस ने अक्टूबर में पत्रकार जमाल खाशोगी की हत्या के विवाद के कारण ट्रंप और सलमान की बैठक आयोजित नहीं करवाने का निर्णय लिया था. जमाल की हत्या कथित रूप से क्राउन प्रिंस के एक करीबी समेत कुछ सऊदी एजेंटों के समूह ने की थी.

पहले भी हुई थी ट्रंप और सलमान की बातचीत
ब्यूनस आयर्स में पूर्व अधिवेशन के दौरान हालांकि ट्रंप और सलमान के बीच संक्षिप्त वार्ता हुई थी और सऊदी अरब से अमेरिका के रिश्ते सामान्य हो गए थे, विशेषकर दोनों देशों के ईरान से संबंध और ज्यादा खराब हो गए थे. शनिवार की बैठक के बाद व्हाइट हाउस ने एक बयान में कहा कि दोनों नेताओं ने मानवाधिकार के मुद्दों की महत्ता पर चर्चा की. बयान में हालांकि पत्रकार के मामले का उल्लेख नहीं किया.

कौन थे खाशोगी?
अमेरिकी नागरिक खाशोगी वॉशिंगटन पोस्ट के स्तंभकार थे और अपने देश की सरकार के विरोधी थे. दो अक्टूबर 2018 को तुर्की की राजधानी इस्तांबुल में सऊदी अरब के वाणिज्य दूतावास में उनकी हत्या कर दी गई थी. व्हाइट हाउस के अनुसार, "ओसाका में अपनी बैठक के दौरान ट्रंप और सलमान ने मध्य एशिया और वैश्विक तेल बाजारों में स्थिरता सुनिश्चित करने तथा ईरान के बढ़ते खतरे के साथ-साथ दोनों देशों के बीच बढ़े व्यापार और निवेश पर भी चर्चा की." बैठक में क्राउन प्रिंस ने भी अमेरिका में राजनीतिक और आर्थिक उपलब्धियों के लिए ट्रंप की प्रशंसा की और दोनों देशों की सुरक्षा तथा रोजगार सृजन के लिए उनके साथ काम करने की उम्मीद जताई.

इनपुटः आईएएनएस