इजरायल ने फिलिस्तीन प्राधिकरण को दी जाने वाली राशि पर लगाई रोक

इजरायल ने जेल में बंद फिलिस्तीनियों के परिवारों को पीए भुगतान के जवाब में आंशिक रूप से निधियों को रोकने के लिए पिछले साल कानून पारित किया था

इजरायल ने फिलिस्तीन प्राधिकरण को दी जाने वाली राशि पर लगाई रोक
इजरायल 12.7 करोड़ अमेरिकी डॉलर फिलिस्तीन को भेजता है

नई दिल्ली: इजरायल की एक युवती पर घातक फिलिस्तीनी हमले के बाद प्रधानमंत्री बेंजामिन नेतन्याहू ने इजराइल द्वारा फिलिस्तीनी प्राधिकरण को दी जाने वाली राशि रोकने का फैसला लिया है.

इजरायल अपने बंदरगाहों से होकर फिलिस्तीनी बाजारों के लिए जाने वाले माल पर लगाए गए सीमा शुल्क से एक महीने में लगभग 12.7 करोड़ अमेरिकी डॉलर एकत्र करता है और बाद में यह राशि फिलिस्तीन को भेजता है.

इजरायल की संसद, नेसेट ने इजरायल के खिलाफ किये गये हमलों के लिए इजरायल की जेल में बंद फिलिस्तीनियों के परिवारों को पीए भुगतान के जवाब में आंशिक रूप से निधियों को रोकने के लिए पिछले साल कानून पारित किया था.

अप्रैल में होने वाले आम चुनाव के प्रचार में व्यस्त नेतन्याहू ने साप्ताहिक कैबिनेट बैठक की शुरुआत में रविवार को पत्रकारों से कहा, 'इस सप्ताह के अंत तक, आतंकवादियों के वेतन में कटौती पर बने कानून को लागू करने के लिए आवश्यक काम पूरा हो जाएगा.'

उन्होंने कहा, 'अगले रविवार को मैं सुरक्षा कैबिनेट की बैठक बुलाऊंगा और हम निधियों को काटने के लिए आवश्यक निर्णय को मंजूरी देंगे. इस पर कोई संदेह नहीं है कि अगले सप्ताह की शुरुआत में निधियों में कटौती कर दी जाएगी'. 

गौरतलब है कि 19 वर्षीय ओरी अंसबैकर की हत्या के सिलसिले में इस सप्ताहांत में एक फिलिस्तीनी को गिरफ्तार किए जाने के बाद नेतन्याहू पर इस कानून को लागू करने का दबाव बढ़ गया है. दक्षिण पूर्व यरुशलम में बृहस्पतिवार देर रात अंसबैकर का शव मिला था. इजरायली सुरक्षा बलों ने वेस्ट बैंक के रामल्लाह शहर में छापे मारकर हत्या के संदिग्ध को गिरफ्तार किया था.

(इनपुट-भाषा)