close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

आतंकी मसूर को बचाने की कोशिश में पाकिस्तान, जैश मुख्यालय को नियंत्रण में लिया

पाकिस्तान को इस कार्रवाई को नया ड्रामा माना जा रहा है. दरअसल, पाकिस्तान आतंकी मसूर को बचाने की कोशिश में है. 

आतंकी मसूर को बचाने की कोशिश में पाकिस्तान, जैश मुख्यालय को नियंत्रण में लिया
जैश का मुख्यालय पाकिस्तान के बहावलपुर में है.

नई दिल्ली: भारत की कार्रवाई से डरे पाकिस्तान ने जैश मुख्यालय को नियंत्रण में ले लिया है. जैश का मुख्यालय पाकिस्तान के बहावलपुर में है. पंजाब सरकार ने जैश-ए-मुहम्मद को अपने नियंत्रण में लिया है. जैश ने ही पुलवामा हमले की जिम्मेदारी ली थी. पाकिस्तान को इस कार्रवाई को नया ड्रामा माना जा रहा है. दरअसल, पाकिस्तान आतंकी मसूर को बचाने की कोशिश में है. बहावलपुर में ही पाकिस्तान सेना का 31 कोर का मुख्यालय है. 

पाकिस्तान गृह मंत्रालय के प्रवक्ता ने अपने एक बयान में कहा, "पंजाब सरकार ने जैश के मुख्यलय को अपने कब्जे में ले लिया है और अपना प्रशासक वहां पर तैनात कर दिया है." प्रवक्ता ने यह भी कहा कि यह कार्रवाई गुरुवार को प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में हुई एनएससी की बैठक में लिए गए निर्णय के बाद की गई. प्रवक्ता के मुताबिक, फिलहाल 600 छात्र इस मुख्यालय में पढ़ते हैं और 70 शिक्षक तैनात हैं. पंजाब पुलिस कैंपस को सुरक्षा प्रदान कर रही है.  

 

प्रवक्ता के मुताबिक, एनएससी बैठक में उग्रवादियों को समुदाय से बाहर निकालने का निर्णय लिया गया था. इससे पहले, कल पाकिस्तान ने 2008 मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के नेतृत्व वाले जमात-उद-दावा और उसकी परमार्थ संस्था फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन पर गुरुवार को प्रतिबंध लगा दिया था. गृह मंत्रालय के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रधानमंत्री इमरान खान की अध्यक्षता में उनके कार्यालय में गुरुवार को हुई राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में इन संगठनों पर प्रतिबंध लगाने का फैसला लिया गया.

प्रवक्ता ने एक बयान में कहा था, "गैरकानूनी करार दिए गए संगठनों के खिलाफ कार्रवाई तेज करने का फैसला बैठक में लिया गया." उन्होंने कहा, "यह तय किया गया कि गृह मंत्रालय द्वारा जमात-उद-दावा और फलह-ए-इंसानियत फाउंडेशन को गैरकानूनी घोषित किया जाए."  इससे पहले गृह मंत्रालय ने दोनों संगठनों को निगरानी सूची में रखा था.