close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

लादेन के मामले में इमरान का पकड़ा गया झूठ!, पाकिस्तानी पूर्व सैन्य अधिकारी ने खोली पोल

रिपोर्ट के अनुसार, इमरान खान के बयान से विवाद पैदा हो गया है और कई राजनेताओं ने इमरान के इस दावे की आलोचना की है.

लादेन के मामले में इमरान का पकड़ा गया झूठ!, पाकिस्तानी पूर्व सैन्य अधिकारी ने खोली पोल
(फाइल फोटो)

इस्लामाबाद: आतंकवादी गुट अलकायदा के सरगना ओसामा बिन लादेन के पाकिस्तान के एबटाबाद में छिपे होने की जानकारी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई को नहीं थी. पाकिस्तानी अखबार 'द न्यूज' की रिपोर्ट के मुताबिक, शीर्ष स्तर के एक सुरक्षा अधिकारी (सेवानिवृत्त) ने बताया कि आईएसआई के पास ओसामा बिन लादेन के एबटाबाद में होने की जानकारी नहीं थी. रिपोर्ट के अनुसार, प्रधानमंत्री इमरान खान ने हाल ही में एक टेलीविजन साक्षात्कार के दौरान वाशिंगटन में कहा कि पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी से मिली जानकारी से सीआईए को ओसामा बिन लादेन के करीब पहुंचने में मदद मिली.

नाम जाहिर नहीं करने की शर्त पर सेवानिवृत्त अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान अपने रुख पर कायम है कि आईएसआई को ओसामा के पाकिस्तान में होने की जानकारी नहीं थी. इमरान खान ने कहा कि आईएसआई ने सीआईए को जानकारी दी जिससे अमेरिका को 2011 में आतंकी गुट के सरगना का पता लगाने और उसे मारने में मदद मिली.

रिपोर्ट के अनुसार, खान के बयान से विवाद पैदा हो गया है और कई राजनेताओं ने इमरान के इस दावे की आलोचना की है. रिपोर्ट में कहा गया है कि आईएसआई द्वारा जानकारी देने के संबंध में प्रधानमंत्री का बयान संभव है कि पहले से ज्ञात तथ्य के संदर्भ में हो कि पाकिस्तान ने लादेन के सहयोगी अबू अहमद अली कुवैती द्वारा इस्तेमाल किए गए मोबाइल नंबर की जानकारी साझा की थी.

रिपोर्ट में कहा गया है कि डॉन में प्रकाशित एक खबर के अनुसार, सीआईए ने 2009 से लेकर 2010 के दौरान पाकिस्तान को चार फोन नंबर दिए थे लेकिन यह नहीं बताया कि वह किसकी तलाश कर रही है.  ये नंबर हमेशा बंद रहते थे.