close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

परवेज मुशर्रफ की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, अदालत में चल रहा है राजद्रोह का मुकदमा

पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ की हालत अचानक बिगड़ गयी और उन्हें यहां एक अस्पताल में भर्ती कराया गया.

परवेज मुशर्रफ की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, अदालत में चल रहा है राजद्रोह का मुकदमा
.(फाइल फोटो)

दुबई: पाकिस्तान के पूर्व सैन्य शासक जनरल (सेवानिवृत्त) परवेज मुशर्रफ की हालत बृहस्पतिवार को अचानक बिगड़ गयी और उन्हें यहां एक अस्पताल में भर्ती कराया गया. दुबई से नेशन अखबार के मुताबिक, मुशर्रफ (75) किसी से भी मुलाकात या बात नहीं कर रहे हैं. मुशर्रफ 2007 में संविधान को निलंबित करने के लिए राजद्रोह के आरोपों का सामना कर रहे हैं. वह मार्च 2016 से दुबई में रह रहे हैं. पूर्व सैन्य प्रमुख उपचार के लिए दुबई गए थे और सुरक्षा तथा स्वास्थ्य कारणों से तब से वह नहीं लौटे. पूर्व की खबरों में कहा गया था कि पूर्व राष्ट्रपति की बीमारी ने उनके तंत्रिका तंत्र को कमजोर कर दिया है. मुशर्रफ को खड़े होने और चलने में दिक्कतें आ रही हैं.  

मुशर्रफ राजद्रोह मामले की सुनवाई 12 जून तक टली 
एक विशेष अदालत ने गुरुवार को पाकिस्तान के पूर्व सेना प्रमुख परवेज मुशर्रफ के अनुरोध को स्वीकार करते हुए उनके खिलाफ राजद्रोह मामले की सुनवाई 12 जून तक के लिए स्थगित कर दी थी. मुशर्रफ ने विशेष अदालत से अपने खराब स्वास्थ्य का हवाला देकर राजद्रोह मामले की सुनवाई को गुरुवार (आज) से बढ़ाकर रमजान के बाद करने का आग्रह किया था. 

जियो न्यूज के मुताबिक, पूर्व सैन्य तानाशाह के वकील सलमान सफदर ने अदालत को बताया कि उनके मुवक्किल की हालत बेहद खराब है। इस वजह से वह सुनवाई में हिस्सा नहीं ले सकते। इसके बाद न्यायमूर्ति ताहिरा सफदर की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय पीठ ने मामले की सुनवाई 12 जून तक के लिए स्थगित कर दी.

वकील ने मुशर्रफ की ओर से एक आवेदन में कहा कि "मजबूत इच्छाशक्ति और पाकिस्तान लौटने की उत्सुकता के बावजूद, बीमारियों और चिकित्सा जटिलताओं के कारण वह विशेष अदालत में पेश नहीं हो सकते." वकील ने कहा, "वह शर्मिदा हैं और समय पर नहीं पहुंचने के कारण माफी मांग रहा है. वह चलने में असमर्थ है," वकील ने कहा कि उन्होंने मुशर्रफ के साथ तीन दिन बिताए थे और यह देखकर हैरान थे कि वह मुश्किल से बोल पा रहे हैं.

वकील ने कहा, "डॉक्टरों ने कहा है कि इस स्थिति में यात्रा करना उनके लिए सुरक्षित नहीं है।" फिर उन्होंने अदालत से रमजान के बाद सुनवाई को स्थगित करने के लिए कहा. अदालत ने मामले में मुशर्रफ को बरी करने की याचिका पर सरकार को नोटिस भी जारी किया. मुशर्रफ पर पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) सरकार ने नवंबर 2007 में अतिरिक्त संवैधानिक आपातकाल लगाने के खिलाफ राजद्रोह का मामला दर्ज किया था.

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार, ट्रायल कोर्ट मुकदमे को पूरा करने के लिए आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 342 के तहत मुशर्रफ के बयान को रिकॉर्ड करने के लिए निर्धारित है. मुशर्रफ 2016 में 'चिकित्सा उपचार की तलाश' के लिए दोुबई गए थे और तब से वापस नहीं आए हैं। इससे पहले मार्च में, उन्हें दुबई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

बताया गया कि वह एक दुर्लभ बीमारी से पीड़ित हैं, जिसके लिए वह पहले से ही इलाज कर रहे थे. आवेदन में कहा गया है कि मुशर्रफ कार्डियक अमाइलॉइडोसिस (कंजेस्टिव हार्ट फेल्यर), क्रोनिक किडनी डिजीज (गुर्दे की प्रणाली में उच्च क्रिएटिन), अत्यधिक सोमोलेंस (हाइपरसोमनिया), रीढ़ की हड्डी में चोट और फ्रैक्चर से पीड़ित हैं.

डॉन ऑनलाइन के अनुसार, इसमें इस बात का भी जिक्र किया गया कि पूर्व राष्ट्रपति 24 मार्च 2013 को बेनजीर भुट्टो की हत्या के मुकदमे का सामना करने के लिए पाकिस्तान आए थे, उनके आगमन के बाद उन पर न्यायाधीशों की नजरबंदी और अकबर बुगती मामले व देश में उच्च राजद्रोह का मामला दर्ज किया गया था.

इनपुट आईएएनएस से भी