close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

फिलीपीनी नेता अल्बर्ट डेल रोसारियो को नहीं मिली हांगकांग में एंट्री, चीन के रहे हैं आलोचक

फिलीपीन के पूर्व विदेश मंत्री अल्बर्ट डेल रोसारियो को शुक्रवार को हांगकांग में प्रवेश करने से रोक दिया गया. आलोचकों ने इसे दक्षिण चीन सागर पर चीन के जबरन दावे को लेकर रोसारियो द्वारा किए गए विरोध का प्रतिशोध बताया.

फिलीपीनी नेता अल्बर्ट डेल रोसारियो को नहीं मिली हांगकांग में एंट्री, चीन के रहे हैं आलोचक
चीन के खिलाफ कानूनी पहलों के पीछे डेल रोसारियो का हाथ था. (फोटो साभार: Reuters)

मनीला: फिलीपीन के पूर्व विदेश मंत्री अल्बर्ट डेल रोसारियो को शुक्रवार को हांगकांग में प्रवेश करने से रोक दिया गया. आलोचकों ने इसे दक्षिण चीन सागर पर चीन के जबरन दावे को लेकर रोसारियो द्वारा किए गए विरोध का प्रतिशोध बताया.

चीन के खिलाफ दो प्रमुख कानूनी पहलों के पीछे डेल रोसारियो का हाथ था, जिसमें एक अंतरराष्ट्रीय न्यायाधिकरण में 2013 का मामला भी शामिल है, जिस मामले में न्यायाधिकरण ने अंततः संसाधन-संपन्न जलमार्ग पर चीन के दावे के खिलाफ फैसला सुनाया था.

यह घटनाक्रम ऐसे समय में हुआ है, जब हांगकांग में प्रस्तावित विधेयक को लेकर लोगों का गुस्सा अभी भी उबाल पर है. इस विधेयक में चीन को मुख्य भूमि पर प्रत्यर्पण की अनुमति दी गई थी. विधेयक को फिलहाल स्थगित कर दिया गया है.

डेल रोसारियो ने कहा कि उन्होंने एक फिलीपीन राजनयिक पासपोर्ट का उपयोग करके शुक्रवार की सुबह हांगकांग के लिए उड़ान भरी, लेकिन पहुंचने पर उन्हें एक आव्रजन होल्डिंग क्षेत्र में ले जाया गया, जहां वह लगभग साढ़े तीन घंटे तक रहे.’’ 

डेल रोसारियो की वकील ऐनी मैरी कोरोमिनास ने बाद में एएफपी को बताया, ‘‘उन्हें रोक दिया गया और निर्वासित कर दिया गया.’’ उन्होंने कहा कि अधिकारियों ने उन्हें प्रवेश से इनकार करने के लिए कोई कारण नहीं बताया और वापस फिलीपीन की उड़ान से भेज दिया गया. वह शुक्रवार शाम मनीला में उतरे.

(इनपुट भाषा से)