अच्छी खबर: इस देश में इसी हफ्ते से आम जनता के लिए उपलब्ध होगी कोरोना वैक्सीन

कोरोना वायरस (CoronaVirus) के खतरे के बीच रूस (Russia) से अच्छी खबर सामने आई है. रूस  इसी हफ्ते से कोरोना वायरस वैक्सीन स्पूतनिक-वी (Sputnik-V) को आम जनता के लिए उपलब्ध कराने जा रहा है.

अच्छी खबर: इस देश में इसी हफ्ते से आम जनता के लिए उपलब्ध होगी कोरोना वैक्सीन
फाइल फोटो

मॉस्को: कोरोना वायरस (CoronaVirus) के खतरे के बीच रूस (Russia) से अच्छी खबर सामने आई है. रूस  इसी हफ्ते से कोरोना वायरस वैक्सीन स्पूतनिक-वी (Sputnik-V) को आम जनता के लिए उपलब्ध कराने जा रहा है. राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन (Vladimir Putin) ने 11 अगस्त को इस वैक्सीन को लॉन्च किया था.

रूसी न्यूज एजेंसी TASS के मुताबिक, रशियन एकेडमी ऑफ साइंस के डेप्युटी डायरेक्टर डेनिस लोगुनोव (Denis Logunov) ने बताया कि स्पूतनिक-वी वैक्सीन को स्वास्थ्य मंत्रालय की अनुमति के बाद व्यापक उपयोग के लिए जारी किया जाएगा. मंत्रालय इस वैक्सीन का टेस्ट कुछ दिनों में शुरू करने जा रहा है और हम जल्द इसकी अनुमति हासिल कर लेंगे. गौरतलब है कि इस वैक्सीन को मॉस्‍को के गामलेया रिसर्च इंस्टिट्यूट ने रूसी रक्षा मंत्रालय के साथ मिलकर एडेनोवायरस को बेस बनाकर तैयार किया है.

प्राप्त करनी होगी अनुमति
लोगुनोव ने कहा कि नागरिक उपयोग के लिए वैक्सीन के बैच को अधिकृत करने की एक निश्चित प्रक्रिया है. इसे मेडिकल वॉचडॉग Roszdravnadzor की गुणवत्ता जांच पास को करना होगा. 10 से 13 सितंबर के बीच, हमें नागरिक उपयोग के लिए वैक्सीन के बैच को जारी करने की अनुमति प्राप्त करनी है. इसके बाद हम वैक्सीन को आम लोगों के लिए जारी करने की स्थिति में होंगे. वैक्सीन का वितरण रूसी स्वास्थ्य मंत्रालय की देखरेख में किया जाएगा.

उच्च जोखिम वालों को प्राथमिकता
लोगुनोव ने आगे कहा कि वैक्सीन के वितरण में ऐसे लोगों को प्राथमिकता दी जाएगी जो उच्च-जोखिम वाले समूह में आते हैं. वहीं, द लांसेट मेडिकल जर्नल द्वारा प्रकाशित परिणामों के अनुसार, शुक्रवार को स्पूतनिक-वी ने एक और प्रगति दर्ज की. वैक्सीन प्रारंभिक चरण के परीक्षणों में सभी प्रतिभागियों में एंटीबॉडी प्रतिक्रिया उत्पन्न करने में सफल रही है. स्पूतनिक-वी के लिए दो परीक्षण इस साल जून-जुलाई में किए गए थे और इसमें 76 प्रतिभागी शामिल थे. मालूम हो कि वैक्सीन स्पूतनिक-वी का नाम रूस की पहली सैटेलाइट स्पूतनिक के नाम पर रखा गया है, जिसे रूस ने 1957 में लॉन्च किया था.

ये भी देखें-