विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे गिरफ्तार, वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जाएगा

पुलिस ने कहा कि 47 वर्षीय जूलियन अंसाजे को मेट्रोपॉलिटन पुलिस सर्विस ने इक्‍वाडोर दूतावास से 11 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया.

विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे गिरफ्तार, वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट में पेश किया जाएगा
(फाइल फोटो)

लंदन : विकीलीक्स के संस्थापक जूलियन असांजे को ब्रिटिश पुलिस ने गुरुवार को इक्‍वाडोर पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया. दूतावास ने पुलिस को बुलाया था और जब पुलिस पहुंची तो अंसाजे को गिरफ्तार कर लिया गया. असांजे 2012 से इक्‍वाडोर दूतावास में था. 

पुलिस ने कहा कि 47 वर्षीय जूलियन अंसाजे को मेट्रोपॉलिटन पुलिस सर्विस ने इक्‍वाडोर दूतावास से 11 अप्रैल को गिरफ्तार कर लिया.

पुलिस ने यह भी कहा कि इक्‍वाडोर ने जो शरण असांजे को दे रखी थी, उसको वापस लेने के बाद राजदूत ने पुलिस को दूतावास के अंदर बुलाया था, जहां असांजे को गिरफ्तार कर लिया गया.


जूलियन असांजे का फाइल फोटो

असांजे साल 2012 से इक्वाडोर दूतावास में एक रिफ्यूजी के तौर पर रहे थे, ताकि वह स्‍वीडन प्रत्‍यर्पण से बच सके. स्‍वीडन के जांचकर्ता उनसे यौन उत्‍पीड़न के मामले में पूछताछ करना चाहते हैं. उस जांच को बाद में छोड़ दिया गया था, लेकिन असांजे को डर था कि उसे अमेरिका में आरोपों का सामना करने के लिए प्रत्यर्पित किया जा सकता है, जहां संघीय अभियोजक विकीलीक्स की जांच कर रहे हैं.

ऑस्ट्रेलियाई नागरिक असांजे ने 2012 में लंदन के इक्वाडोर दूतावास में आश्रय की मांग की थी और तब से वह वहीं रह रहा था.

पुलिस ने कहा कि असांजे को लंदन के एक केंद्रीय पुलिस स्टेशन में हिरासत में रखा गया है और उसे वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट कोर्ट के सामने पेश किया जाएगा. 

मोरेनो ने कहा, "ब्रिटिश सरकार ने अपने नियमों के अनुसार लिखित रूप में इसकी पुष्टि की है." उधर, विकीलीक्स ने कहा है कि इक्वाडोर ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हुए असांजे की राजनीतिक शरण को अवैध रूप से समाप्त कर दिया.

इक्वाडोर द्वारा असांजे पर राष्ट्रपति लेनिन मोरेनो के निजी जीवन के बारे में जानकारी लीक करने का आरोप लगाया गया था, जिसके बाद उनके संबंध खराब हो गए. मोरेनो ने पहले कहा था कि असांजे ने उनकी शरण की शर्तों का उल्लंघन किया है.

मोरेनो ने कहा कि उन्होंने ब्रिटेन को यह गारंटी देने के लिए कहा था कि असांजे को ऐसे देश में नहीं प्रत्यर्पित किया जाएगा, जहां वह यातना या मौत की सजा का सामना कर सके.

मोरेनो ने कहा, "ब्रिटिश सरकार ने अपने नियमों के अनुसार लिखित रूप में इसकी पुष्टि की है."

उधर, विकीलीक्स ने कहा है कि इक्वाडोर ने अंतरराष्ट्रीय कानून का उल्लंघन करते हुए असांजे की राजनीतिक शरण को अवैध रूप से समाप्त कर दिया.