close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

ZEE जानकारी: पाकिस्तान ने की विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने की घोषणा

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने गुरुवार को अपनी संसद में ये घोषणा की है कि कल पाकिस्तान भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा कर देगा

ZEE जानकारी: पाकिस्तान ने की विंग कमांडर अभिनंदन को छोड़ने की घोषणा

अब आज की एक और बड़ी ख़बर की बात करते हैं. आज पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने अपनी संसद में ये घोषणा की है कि कल पाकिस्तान भारतीय वायुसेना के विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा कर देगा. ये भारत के लिए एक बहुत बड़ी कूटनीतिक जीत है. पहले ये सुनिये कि इमरान खान ने क्या कहा ? इमरान ख़ान ये जानते थे कि उनके ऊपर भारत की तरफ से बहुत ज्यादा दबाव है. 

सरकार के सूत्रों के हवाले से ये खबर है कि भारत ने Indian Air Force के Pilot को लेकर किसी भी तरह की Consular Access नहीं मांगने का फैसला किया था . 

भारत ने ये तय कर लिया था कि वो इस मामले में किसी भी तरह की सौदेबाज़ी नहीं करेगा. भारत का रुख ये था कि पाकिस्तान को हमारे फायटर पायलट को बिना शर्त वापस भेजना होगा, इसमें किसी भी तरह की Deal का कोई सवाल ही नहीं है. सरकार तुरंत भारत के फायटर पायलट की वापसी चाहती थी. 

सूत्रों के मुताबिक भारत सरकार की तरफ से ये कहा गया है कि पाकिस्तान, फायटर पायलट की तस्वीरों और Videos के द्वारा कंधार मामले की तरह भारत के लोगों पर दबाव बनाने की कोशिश कर रहा है. 

वैसे आज ही भारत सरकार ने Youtube को ये निर्देश दिया है कि वो भारतीय पायलट अभिनंदन के 11 Videos हटाए. आपको बता दें कि पाकिस्तान ने अभिनंदन के पकड़े जाने के ये Videos जारी किए थे, जिसके बाद बहुत से लोगों ने ये सभी Videos Youtube पर Upload कर दिए थे. 

वैसे ये बहुत अच्छी बात है कि भारत इस बार दबाव में नहीं आया. और उल्टे पाकिस्तान पर अपने फाइटर पायलट को छोड़ने का दबाव बना दिया. हालांकि पाकिस्तान अभिनंदन को छोड़ने के फैसले को अपना शांति प्रस्ताव बता रहा है. और उसने पूरी दुनिया के सामने ये दिखाने की कोशिश की है कि वो भारत से युद्ध नहीं चाहता है. वैसे भारतीय पायलट अभिनंदन को छोड़ने में ही पाकिस्तान की भलाई थी. 

कल विंग कमांडर अभिनंदन की रिहाई हो जाएगी.. ये भारत के लिए एक बहुत बड़ी कूटनीतिक जीत है. आज जब भारतीय वायुसेना से इस बारे में सवाल पूछा गया, तो उसने इस पर खुशी जताई. लेकिन ये भी कहा कि Geneva Conventions के तहत पाकिस्तान को ऐसा करना ही पड़ता.

Twitter से लेकर Facebook और WhatsApp तक..भारत के बुद्धिजीवियों ने, पत्रकारों ने और पाकिस्तान परस्त लोगों ने विंग कमांडर अभिनंदन के शौर्य को कमज़ोर करने का काम किया है. आपने ध्यान दिया होगा, कि पिछले 24 घंटों से अलग-अलग Social Media, Platforms पर भारतीय वायुसेना के इस बहादुर Pilot के ऐसे Videos, शेयर किए जा रहे हैं. जिन्हें देखकर कोई भी देशभक्त खुद को कमज़ोर महसूस करेगा. और पाकिस्तान हमें इसी कमज़ोरी का अहसास दिलाना चाहता था. जिसमें वो काफी हद तक क़ामयाब भी हो गया है. आज भारत में मौजूद पाकिस्तान के Fan Boys और Fan Girls को ये भी देखना चाहिए, कि कैसे उसी Social Media का इस्तेमाल करके पाकिस्तान और वहां के पत्रकार विंग कमांडर अभिनंदन की वीरता का मज़ाक उड़ा रहे हैं. और इसके लिए हम पाकिस्तान के एक News Channel की छोटी सी वीडियो Clip आपको दिखाना चाहते हैं. 

विमान Crash होने के बाद विंग कमांडर अभिनंदन, जब पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर में गिरे, तो उन्हें ये बात पता नहीं थी, कि वो भारत की सीमा में हैं या पाकिस्तान की सीमा में हैं. और जब उन्होंने वहां मौजूद लोगों से पूछा...तो उन्हें वहां खड़े पाकिस्तानियों ने झूठी बात बताई. और कहा कि वो भारत की सीमा में हैं. खुद को अपने लोगों के बीच पाकर और गंभीर रुप से घायल होने के बावजूद विंग कमांडर अभिनंदन ने जय हिन्द और भारत माता की जय के नारे लगाए. लेकिन फिर पाकिस्तानियों ने अपना असली रंग दिखा दिया. और शालीनता की सारी सीमाएं लांघते हुए उनके साथ अभद्र व्यवहार किया. उन्हें बुरी तरह Torture किया. इसके बावजूद अभी तक वायुसेना के इस बहादुर Pilot ने पाकिस्तान के किसी मंसूबे को क़ामयाब नहीं होने दिया है. दुख की बात ये है, कि विंग कमांडर अभिनंदन...ना तो कल किसी समझौते के लिए तैयार थे. और ना ही आज किसी तरह के समझौते के लिए तैयार हैं. वो वीर हैं और उन्हें किसी सहानुभूति की ज़रुरत नहीं है. लेकिन, भारत में मौजूद पाकिस्तान के Fan Boys और Fan Girls ने देश के इस बहादुर सैनिक के शौर्य के साथ समझौता करने का पाप किया है.

वैसे ये भी एक दिलचस्प तथ्य है, कि पाकिस्तान की तारीफ करने वालों ने कल से लेकर अब तक विंग कमांडर अभिनंदन के शौर्य का ज़िक्र नहीं किया. ऐसे लोगों को आज ये बताना आवश्यक है, कि MiG 21 ने कैसे F-16 जैसे ताकतवर विमान को मार गिराया. और ये काम किसी और ने नहीं, बल्कि भारत के इसी बहादुर Pilot ने पूरा किया.

सूत्रों के मुताबिक, जब पाकिस्तानी Fighter Jets ने भारत के सैन्य ठिकानों पर हमला करना शुरु किया. ठीक उसी वक्त भारतीय वायुसेना के Combat Air Patrol को Active कर दिया गया. और पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को रोकने के लिए भारत की तरफ से MiG 21 Fighter Jets को Launch कर दिया गया.

Combat Air Patrol में लड़ाकू विमानों से Patrolling की जाती है. ये Patrolling एक तय इलाके या उससे आगे तक भी हो सकती है. युद्ध की स्थिति में इसका इस्तेमाल किसी संवेदनशील क्षेत्र में Patrolling के लिए किया जाता है. अगर किसी देश में कोई हवाई हमला होता है, तो Combat Air Patrol की मदद से, दुश्मनों के लड़ाकू विमानों को Intercept किया जाता है और उन्हें तबाह किया जाता है. 

जिस वक्त पाकिस्तानी Fighter Jet भारतीय वायुसीमा से भाग रहे थे, उस वक्त अपने MiG 21 में विंग कमांडर अभिनंदन भी उनके पीछे थे.

उन्होंने अपने विमान से Short Range की R-73 मिसाइल दागी. जो सीधे F-16 से जाकर टकराई. 

हालांकि, इस Engagement के दौरान भारतीय Pilot, Line Of Control के बेहद क़रीब थे और अपनी सीमा के अंदर थे. और ठीक उसी वक्त पाकिस्तान की तरफ से या तो Surface To Air Missile या पाकिस्तानी Jets की मदद से हमला किया गया. जिसने विंग कमांडर अभिनंदन के विमान को Hit किया. और वो PoK में Crash कर गया.

इस भारतीय Pilot के शौर्य की कहानी यहीं पर ख़त्म नहीं होती. पाकिस्तान के कब्ज़े वाले कश्मीर में फंसे होने के बावजूद उन्होंने देश की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया. 

जैसे ही विंग कमांडर अभिनंदन को इस बात का अहसास हुआ, कि वो भारत में नहीं, बल्कि पाकिस्तान के इलाके में हैं, उन्होंने हवा में Firing करते हुए अपनी जान बचाने की कोशिश की. 

जब उन्होंने आधा किलोमीटर दौड़ने के बाद पीछे मुड़कर देखा, तो उन्होंने पाया, कि पाकिस्तान की हिंसक भीड़ उनका पीछा कर रही थी. 

हिंसक भीड़ को डराने के लिए उन्होंने हवा में कुछ और Rounds की फायरिंग की. लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ.

इसके बाद वो एक तालाब में कूद गए. और अपनी जेब से कुछ ज़रुरी दस्तावेज़ और Maps निकाल लिए. इनमें से कुछ को उन्होंने मुंह में डालकर निगल लिया. और कुछ दस्तावेज़ों को पानी में डुबा दिया. ऐसा करना अनिवार्य था. क्योंकि वो सुरक्षा से जुड़े दस्तावेज़ थे. और अगर वो दस्तावेज़ पाकिस्तान के हाथ लग जाते, तो अनर्थ हो जाता.

इस दौरान हिंसक भीड़ उनके पास पहुंच चुकी थी. और उसी भीड़ में शामिल एक लड़के ने उनसे अपनी Pistol छोड़ने को कहा. और इसी दौरान उस लड़के ने विंग कमांडर अभिनंदन के पैर में गोली मार दी. ये दावा खुद पाकिस्तान के Dawn अखबार ने किया है.

विंग कमांडर अभिनंदन बुरी तरह ज़ख्मी थे. इसके बावजूद वहां मौजूद हिंसक भीड़ ने उनके साथ अमानवीय व्यवहार किया. 

हालांकि, इस पूरे घटनाक्रम के दौरान भारत का बहादुर Pilot, एक मिनट के लिए भी भयभीत नहीं हुआ. और हिंसक भीड़ की यातनाओं को सहता रहा. जब पाकिस्तान की सेना ने Propaganda के तहत उनके अलग-अलग Videos रिकॉर्ड किए. और उनसे सवाल पूछे. उस वक्त भी विंग कमांडर अभिनंदन ने देश की सुरक्षा से जुड़ी किसी बात का खुलासा नहीं किया.

भारत और पाकिस्तान के टकराव के बीच.. देश को कुछ कड़वे अनुभव भी हुए हैं.
आज हमें ये पता चला है कि हमारे देश के लोगों का चरित्र कैसा है? पूरा देश इस समय युद्धकाल में है. लेकिन हमारे ही देश के बहुत से लोग इस युद्धकाल में भी पाकिस्तान ज़िंदाबाद कर रहे हैं. संकट की इस घड़ी में पूरे देश को एक साथ खड़ा होना चाहिए था, लेकिन देश बिखरा हुआ है. ना तो हमारा विपक्ष एक है और ना ही मीडिया. मीडिया के बहुत से लोग पाकिस्तान के प्रधानमंत्री के भाषण की तारीफ कर रहे हैं. और उन्हें एक Statesman बता रहे हैं. दूसरी तरफ देश का विपक्ष भी सरकार के खिलाफ खड़ा हुआ है. यानी जिस दौर में राष्ट्रनिर्माण की बातें होनी चाहिएं थी, उस दौर में देश के दुश्मन की तारीफ हो रही है. 

और पाकिस्तान यही चाहता था कि भारत में भी पाकिस्तान का नैरेटिव सुपरहिट हो जाए. और बिलकुल ऐसा ही हुआ. भारत और पाकिस्तान के बीच ये पूरा तनाव पुलवामा हमले के बाद से शुरू हुआ था, जिसमें हमारे सुरक्षाबलों के 40 वीर जवानों की शहादत हुई थी. लेकिन अब पुलवामा हमले के सिर्फ दो हफ़्ते अंदर ही लोगों ने इस हमले को भुला दिया. सारी बात विंग कमांडर अभिनंदन पर आकर रुक गई. अभिनंदन ने अपनी वीरता और शौर्य का परिचय दिया. उन्होंने मिग-21 जैसे पुराने लड़ाकू विमान से पाकिस्तान के आधुनिक और शक्तिशाली F-16 विमान को मार गिराया. लेकिन भारतीय मीडिया ने अभिनंदन के शौर्य की चर्चा नहीं की, बल्कि पूरी बहस पाकिस्तान की तरफ से जारी किए गए अभिनंदन के Videos पर आकर रुक गई. 

इसका नुकसान ये हुआ कि देश पुलवामा हमले को भूल गया. जो लोग पुलवामा हमले के बदले की बात कर रहे थे, वो अभिनंदन की रिहाई की बात करने लगे. हमें लगता है कि अभिनंदन इस देश के वीर सैनिक हैं, उन्हें आपकी सहानुभूति की ज़रूरत नहीं है. उनकी वीरता को प्रणाम करना चाहिए. कल जब अभिनंदन पाकिस्तान की गिरफ्त से छूटकर आएंगे, तो पूरे देश के मीडिया चैनलों पर उनका लाइव प्रसारण होगा. हमें डर सिर्फ इस बात का है कि अभिनंदन की रिहाई होते ही हम पुलवामा हमले के बदले की बात छोड़ देंगे. पाकिस्तान भी यही चाहता था कि भारत पुलवामा को छोड़कर अभिनंदन के बारे में बात करे. 

पाकिस्तान ने बड़ी चालाकी से ये पूरा Narrative Set कर लिया. अब मसूद अज़हर और जैश-ए-मोहम्मद की बात नहीं हो रही है. और ये सब इसलिए हो रहा है कि क्योंकि हमारे ही देश में बहुत से लोग ऐसे हैं, जो भारत में रहकर पाकिस्तान के राजदूतों की तरह व्यवहार कर रहे हैं. 

जब शांतिकाल में भारत में पाकिस्तान ज़िंदाबाद के नारे लगते थे, हम तो तब भी आपसे यही कहते थे कि ये ठीक नहीं है. ऐसे लोगों को पहचानना चाहिए. और उनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए. लेकिन किसी ने हमारी बात नहीं सुनी. अब तो युद्धकाल है, और इस युद्धकाल में भी भारत में बहुत से लोग पाकिस्तान ज़िंदाबाद कर रहे हैं.