भीम आर्मी प्रमुख आजाद 14 दिन के न्यायिक हिरासत में भेजे गए तिहाड़

CAA के विरोध में देश की राजधानी दिल्ली का बवाल अब बढ़ता ही जा रहा है. इस मामले में भीम आर्मी के चंद्रशेखर आजाद 'रावन' जिन्होंने पिछले दिनों जामा मस्जिद के पास विरोध प्रदर्शन में हिंसा लिया था और देखते ही देखते वहां हिंसा भड़क उठी थी. उन्हें अब 14 दिन के न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.  

भीम आर्मी प्रमुख आजाद 14 दिन के न्यायिक हिरासत में भेजे गए तिहाड़

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून पारित होने से पहले ही विवाद में था. अब पारित होने के बाद यह गले की हड्डी बन गया है. इसको लेकर देश के कई हिस्सों में जिस तरह का उग्र प्रदर्शन हो रहा है, वह रोज ही सुर्खियों में रहता है. अब इस मामले में भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद रावन भी नप गए हैं. जामा मस्जिद के पास हिंसा भड़काने के मामले में भीम आर्मी के कमांडर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. इसके बाद आज उन्होंने दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में जमानत की अर्जी डाली थी.

जमानत की अर्जी को कोर्ट ने खारिज कर दिया. इतना ही नहीं चंद्रशेखर को 14 दिन के न्यायिक हिरासत में रखने का आदेश जारी किया गया है. भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर को तीस हजारी कोर्ट ने तिहार जेल में स्थानतरित करने का आदेश दिया है. 

क्या है पूरा मामला जिसमें नपे आजाद ?

दरअसल, यह पूरा मामला पिछले दिनों जामा मस्जिद पर भड़के हिंसा का है. जामा मस्जिद पर कानून का विरोध करने इकठ्ठा हुई भीड़ तब तक शांत थी जब तक भीम आर्मी के चंद्रशेखर नहीं पहुंचे थे. उनके पहुंचते ही भीड़ धीरे-धीरे उग्र होने लगी. देखते ही देखते कुछ देर में हाथापाई शुरू हो गई और पुलिस को मोर्चा संभालना पड़ा. 

पुलिस ने किया था मना फिर भी पहुंचे आजाद

इससे पहले आजाद को जामा मस्जिद से जंतर मंतर तक हो रहे विरोध प्रदर्शन में आने से मना किया गया था. लेकिन इसके बावजूद वे नहीं माने और वहां पहुंच गए. अदालत में जमानत याचिका को खारिज किए जाने के पीछे तीस हजारी कोर्ट का यहीं तर्क था.