पाकिस्तान से लौटी महिला को भारत सरकार ने दी नागरिकता

हसीना बेन को नागरिकता दिए जाने पर गुजरात के द्वारका जिले के कलक्टर डॉ. नरेंद्र कुमार मीणा ने बताया, 'हसीना बेन गुजरात के भानवाड़ तालुक में पैदा हुई थीं. वह यहीं पली-बढ़ीं. 1999 में एक पाकिस्तानी नागरिक से शादी के बाद वह पाकिस्तान चली गईं और वहां की नागरिक बन गईं

पाकिस्तान से लौटी महिला को भारत सरकार ने दी नागरिकता

नई दिल्लीः राष्ट्रपति की अनुमति मिलने के बाद नया नागरिकता संशोधन कानून लागू हो गया है. हालांकि, देशभर में इस कानून के खिलाफ प्रदर्शन जारी है. इसी बीच पाकिस्तान से भारत आईं हसीना बेन को भारत की नागरिकता दी गई है. बताया गया कि भारत की नागरिकता के लिए हसीना बेन से दो साल पहले आवेदन किया था लेकिन उनका आवेदन पेंडिंग में पड़ा हुआ था. अब भारत सरकार ने उनका आवेदन स्वीकार कर लिया है.

हसीना बेन को नागरिकता दिए जाने पर गुजरात के द्वारका जिले के कलक्टर डॉ. नरेंद्र कुमार मीणा ने बताया, 'हसीना बेन गुजरात के भानवाड़ तालुक में पैदा हुई थीं. वह यहीं पली-बढ़ीं. 1999 में एक पाकिस्तानी नागरिक से शादी के बाद वह पाकिस्तान चली गईं और वहां की नागरिक बन गईं. शादी के बाद हसीना पाकिस्तान में ही रहती थीं. कलक्टर नरेंद्र मीणा ने आगे बताया, 'अब हसीना बेन के पति की मौत हो चुकी है.

पति की मौत के बाद वह भारत लौटीं और उन्होंने भारत की नागरिकता के लिए आवेदन किया. मामले को संज्ञान में लेते हुए भारत सरकार और गुजरात सरकार ने हसीना को नागरिकता प्रदान की. उन्हें 18 दिसंबर को नागरिकता का सर्टिफिकेट दिया गया.

विरोध से दिल्ली में जीवन अस्त-व्यस्त
राष्ट्रीय राजधानी में CAA के विरोधियों ने कोहराम मचा दिया है. उनकी वजह से दिल्ली के आम लोगों का जीवन अस्त व्यस्त हो गया है. खास तौर पर दिल्ली गुरुग्राम हाईवे पर फंसे लोगों को बेहद मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है. दिल्ली पुलिस को आशंका थी कि राजधानी में हंगामा मचाने के लिए पड़ोसी राज्यों से भीड़ जुटाई जा रही है.

जिसके बाद पुलिस ने दिल्ली में घुसने के रास्तों की बैरिकेडिंग कर दी. जिसके बाद दिल्ली गुरुग्राम हाईवे पर 10 किलोमीटर लंबा जाम लग गया है. 

CAA पर विरोध की आड़ में ममता दीदी चमका रही हैं अपनी राजनीति?

जाम रहे रास्ते
दिल्ली में आया नगर बॉर्डर से दिल्ली और कापसहेड़ा बॉर्डर से दिल्ली आने जाने वाले रास्तों पर भी प्रदर्शन की वजह से जाम लग गया था. CAA विरोधी रैली के चलते दिल्ली गेट से जीपीओ जाने वाले रास्ते पर जबरदस्त तरीके से जाम लगा रहा. नेताजी सुभाष मार्ग, पीली कोठी, श्यामा प्रसाद मुखर्जी मार्ग, लाल किला, पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन मार्ग पर भी गाड़ियों की लंबी लंबी लाइनें देखी गईं. 

बंद कर दी गईं थी सड़कें
प्रगति मैदान को सेन्ट्रल दिल्ली से जोड़ने वाली भगवान दास रोड भी कुछ देर के लिए बंद रखी गई थी. क्योंकि मंडी हाउस पर वामपंथी दलों का धरना होने वाला था. लेकिन इसे एक घंटे बाद खोल दिया गया था. इसके अलावा पुश्ता रोड से शांति वन जाने वाला रास्ता और पुश्ता रोड से पुराना लोहे का पुल तक जाने वाले पर भी काफी देर तक जाम की स्थिति दिखाई दी.

संसद मार्ग और जय सिंह मार्ग के दोनों तरफ की सड़कें बंद रखी गई हैं. 

CAA विरोध: आधी रात तक गुरुग्राम हाईवे पर फंसे रहेंगे लोग