यूपी में अफवाह की आग पर शिकंजा कसने के लिए इंटरनेट सेवा बंद

उत्तर प्रदेश में नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ फैली हिंसा की आग पर काबू पाने के लिए सरकार ने इंटरनेट सेवाओं पर प्रतिबंध लगाया है. बता दें, राजधानी लखनऊ में प्रदर्शन के नाम पर उपद्रवियों ने पुलिस चौकी फूंक दी थी.

यूपी में अफवाह की आग पर शिकंजा कसने के लिए इंटरनेट सेवा बंद

नई दिल्ली: नागरिकता संशोधन कानून को लेकर अफवाह की आग ऐसी भड़की कि गुरुवार को उत्तर प्रदेश में दंगाइयों में उपद्रव मचा दिया. यूपी की राजधानी लखनऊ में देखते ही देखते कई गाड़ियां खाक हो गईं. प्रदर्शन के नाम पर उपद्रवियों ने पुलिस चौकी फूंक दी. 

यूपी के इन शहरों में इंटरनेट सेवा बंद

1). लखनऊ
2). गाजियाबाद
3). अलीगढ़
4). आगरा
5). मेरठ
6). बरेली
7). मऊ
8). संभल
9). सहारनपुर
10). मुजफ्फरनगर
11). पीलीभीत

जिस लखनऊ में गुरुवार को प्रदर्शनकारियों ने जमकर तांडव मचाया था. वहां इंटरनेट सेवा बंद कर दी गई है. जिस संभल में हुड़दंगियों ने बसों को फूंक दिया था वहां भी इंटरनेट बंद कर दिया गया है. मऊ, सहारनपुर, गाजियाबाद जिले में भी इंटरनेट सेवा रोकी गई है. इसके अलावा अलीगढ़, बरेली और आगरा में भी इंटरनेट सेवा बंद की गई है. मुजफ्फरनगर, मेरठ और पीलीभीत में भी इंटरनेट सेवा को बंद कर दिया गया है. उत्तर प्रदेश के नोएडा समेत कुछ जिलों के कुछ खास हिस्सों में भी इंटरनेट सेवा बंद किए जाने की खबरें हैं.

मीडिया की गाड़ी को बनाया निशाना

बवाल करने वाले दंगाइयों ने पुलिस की गाड़ियों पर पथराव किया गया था. साथ ही मीडिया की गाड़ी को भी नहीं बख्शा गया था. दंगा भड़काने वाले कैमरे में कैद हो जाते हैं तो उनका गुस्सा मीडिया पर निकलने लगता है.

इसे भी पढ़ें: CAA की आड़ में देश को हिंसा और आग में झोंकने की साजिश! पढ़ें: 5 बड़े अपडेट

प्रदर्शनकारियों की गुंडागर्दी का ऐसा ही मंजर उत्तर प्रदेश के संभल में भी नजर आया था जहां रोडवेज की बसें फूंक दी गई थीं. नागरिकता कानून पर भ्रम की वजह से गुरुवार को हिंसा ऐसी भड़की कि उत्तर प्रदेश की पुलिस ने एहतियातन कई जिलों में इंटरनेट सेवा बंद करवा दी है ताकि अफवाह को फैलने से रोका जा सके.

इसे भी पढ़ें: गुजरात के बनासकांठा में CAA की आड़ में उपद्रवियों ने पुलिस को बनाया निशाना