सीमा पर तनाव को लेकर पकिस्तान की भारत को धमकी

पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष बाजवा ने भारत को धमकी दे कर डराने की बचकाना कोशिश की  

सीमा पर तनाव को लेकर पकिस्तान की भारत को धमकी

नई दिल्ली. भारत-पाकिस्तान सीमा पर पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है. लगातार सीमा समझौते का उल्लंघन करने की उसकी पुरानी आदत गई नहीं है. अब उलटा चोर कोतवाल को डाटे वाली तर्ज पर पाकिस्तान आर्मी चीफ जनरल बाजवा भारत को धमकाने की नाकाम कोशिश को भी अंजाम दे रहे हैं. 

सीमा पर पाकिस्तानी निराशा का मुजाहिरा है ये 

भारत ने अपने राज्य जम्मू-कश्मीर से धारा 370 क्या हटाई, पकिस्तान का चैन और सुकून छीन गया लगता है. लगातार इस मुद्दे पर भारत के खिलाफ बयानबाज़ी के बाद अब पाकिस्तान भारत को धमकी देने पर उतर आया है जो उसकी निराशा का ही एक मुजाहिरा है. 

क्या धमकी दी है बाजवा ने

एक तरफ तो पाकिस्तान खुद ही भारत-पाक सीमा पर समझौते का उल्लंघन करता आ रहा है दूसरी तरफ वही भारत को धमकी भी दे रहा है जो उलटा चोर कोतवाल को डाटे वाली कहावत जैसा नज़र आता है. पाक आर्मी चीफ कमर जावेद बाजवा ने भारत से कहा कि पाकिस्तान किसी हालत में कश्मीर मुद्दे पर भारत से समझौता नहीं करने वाला है चाहे उसके लिए उसे कोई भी कदम क्यों न उठाना पड़े!

पाकिस्तानी सैन्य मीडिया विंग को जारी किया बयान 

भारत को डराने वाले अंदाज़ में जनरल बाजवा ने भारत की एलओसी पर दौरा करते हुए यह बात कही जो कि सांकेतिक तौर पर भारत के लिए धमकी थी पर प्रत्यक्षतः आर्मी चीफ ने अपनी सेना की मीडिया विंग इंटर सर्विसेज पब्लिक रिलेशन्स को दिए बयान के माध्यम से कही. 

''पाकिस्तान को कमज़ोर समझने की भूल न करे भारत!''

पाकिस्तानी सेनाध्यक्ष यह बयान देते समय भूल गए कि अपने इस बयान में वे अपने डर को ही ज़ाहिर कर रहे हैं. जनरल बाजवा के अलफ़ाज़ थे - 'दोनों देशों के बीच शांति की पाकिस्तान की कोशिश को भारत उसकी कमजोरी समझने की भूल न करे, हम कश्मीर को लेकर भारत से किसी भी हाल में, किसी भी कीमत पर कोई समझौता नहीं होगा."

मीडिया विंग ने क्या कहा 

पाकिस्तान आर्मी के मीडिया विंग ने अपने आर्मी चीफ का बयान जारी करते हुए बताया कि उनके सेनाध्यक्ष भारत-पाक सीमा पर बढ़ रहे सैनिक तनाव को लेकर नियंत्रण रेखा का दौरा कर रहे थे इस दौरान उन्होंने यह बात कही. उनके बयान को पूरा करते हुए बताया गया कि "पाकिस्तान अपने वतन की हिफाज़त के लिए पूरी तरह सक्षम है और इसके ऊपर होने वाले हर हमले का मुँह तोड़ जवाब देने के लिए तैयार है."

ये भी पढ़ें. क्या सचमुच ट्रम्प और पुतिन के लिए खतरनाक है नया साल?