close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

देश में डॉक्टरों और नर्सों की मौजूदगी का बुरा हाल : नीति आयोग की रिपोर्ट

कर्नाटक में 34 फीसदी और बिहार में 60 फीसदी ANM की पोस्ट खाली पड़ी हैं.

देश में डॉक्टरों और नर्सों की मौजूदगी का बुरा हाल : नीति आयोग की रिपोर्ट
अस्पतालों में सभी मेडिकल स्टॉफ की कमी है. (फाइल)

नई दिल्ली: सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग की तरफ से देश में चिकित्सा और चिकित्सकों की क्या हालत है, उसको लेकर रिपोर्ट तैयार की गई है. इस रिपोर्ट के मुताबिक, देश में डॉक्टरों और नर्सों की मौजूदगी का बुरा हाल है. सरकारी अस्पतालों और स्वास्थ्य केंद्रो में ANM की ज्यादातर पोस्ट खाली हैं. कर्नाटक में 34 फीसदी और बिहार में 60 फीसदी ANM की पोस्ट खाली पड़ी हैं.

उत्तर प्रदेश और पश्चिम बंगाल में कोई पद खाली नहीं है. गुजरात ने इस मामले में सुधार किया है. पिछले एक साल में 10 फीसदी खाली पोस्ट भरे गए हैं, हालांकि अभी भी 10 फीसदी पोस्ट खाली हैं. 

नीति आयोग की हेल्थ रैंकिंग में केरल टॉप पर, बिहार और यूपी निचले पायदान पर

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र (PHC) और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र (CHC) में स्टॉफ और नर्स की भारी कमी है. इस रिपोर्ट के मुताबिक 6 राज्यों में 40 फीसदी मेडिकल स्टॉफ के पद खाली हैं, जिसमें बिहार भी शामिल है. झारखंड में 54 फीसदी और दिल्ली में 46 फीसदी पद खाली पड़े हैं.

मेडिकल आफिसर की वैकेंसी
5 राज्यों में 40 फीसदी से ज्यादा पद खाली पड़े हैं. पश्चिम बंगाल, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तराखंड में भारी संख्या में पद खाली हैं. उत्तराखंड में 70 फीसदी तो छत्तीसगढ़ में 57 फीसदी पद खाली हैं. केरल में महज 2.5 फीसदी वैकेंसी हैं. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में भी 26 फीसदी पद खाली हैं.

जिला अस्पतालों में विशेषज्ञ डॉक्टरों की वैकेंसी 
जिला अस्पतालों में डॉक्टरों का टोटा है. केवल 3 राज्य ऐसे हैं जहां 20 फीसदी से कम वेकेंसी हो. केरल, तमिलनाडु और पंजाब की हालत ठीक है, नहीं तो सभी राज्यों का बुरा हाल है. छत्तीसगढ़ में 70 फीसदी, उत्तराखंड में और बिहार में 68 और 59 फीसदी डॉक्टर के पद खाली हैं. आंध्र प्रदेश में तो 70 फीसदी और राजधानी दिल्ली में 40 फीसदी विशेषज्ञ डॉक्टरों के पद खाली पड़े हैं.