close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पुलवामा हमले का दिखा असर, विदेशी निवेशकों ने निकाले 1900 करोड़ रुपये

1 से 22 फरवरी के बीच एफपीआई ने ऋणपत्रों (डेट सिक्योरिटीज) से कुल 1,949 करोड़ रुपये निकाले. 

पुलवामा हमले का दिखा असर, विदेशी निवेशकों ने निकाले 1900 करोड़ रुपये
विदेशी निवेशक लंबे समय से भारत को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं. (प्रतीकात्मक)

नई दिल्ली: पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद सीमा पार तनाव बढ़ने के मद्देनजर विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने फरवरी महीने में ऋण प्रतिभूतियों (डेट सिक्योरिटीज) से अब तक 1,900 करोड़ रुपये से अधिक की निकासी की है. ताजा आंकड़ों के अनुसार इस महीने में 22 फरवरी तक एफपीआई (फॉरेन पोर्टफोलियो इंवेस्टमेंट) ने शेयरों में 2,039 करोड़ रुपये की लिवाली की जबकि ऋणपत्रों में वे बिकवाल रहे. जनवरी महीने में ऋणपत्रों और शेयरों दोनों में एफपीआई ने 5,360 करोड़ रुपये की शुद्ध निकासी की थी.

आंकड़ों के अनुसार एक से 22 फरवरी के बीच एफपीआई ने ऋणपत्रों से कुल 1,949 करोड़ रुपये निकाले. हालांकि, उन्होंने शेयर बाजार में ज्यादा निवेश किया. इस तरह वे ऋणपत्रों तथा शेयरों में महज 98 करोड़ रुपये के शुद्ध लिवाल रहे. मॉर्निंगस्टार इंवेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया के वरिष्ठ विश्लेषक प्रबंधक (शोध) हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि एफपीआई की हालिया बिकवाली का कारण पुलवामा आतंकवादी हमले के बाद भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव बढ़ने को माना जा सकता है.

NPS के अंतर्गत मिनिमम रिटर्न गारंटी योजना लाने की तैयारी, करोड़ों लोगों को होगा फायदा

उन्होंने कहा, ‘‘एफपीआई लंबे समय से भारत को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं. ऐसे में हालिया घटनाओं से उनकी धारणा और प्रभावित हुई होगी.’’ श्रीवास्तव ने कहा कि अभी एफपीआई निवेश की दिशा का अनुमान लगाना जल्दीबाजी है क्योंकि वे अल्पकालिक गतिविधियों तथा घटना विशेष से प्रभावित हो रहे हैं. उन्होंने कहा कि सीमापार तनाव के अलावा आगामी आम चुनाव के परिणामों के अनुमान को लेकर भी एफपीआई सतर्कता बरत रहे हैं.

(इनपुट-भाषा)