close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कोहली की बल्लेबाजी की तुलना धोनी से करना ठीक नहीं : बॉलिंग कोच भरत अरुण

महेंद्र सिंह धोनी की बीच के ओवरों में स्ट्राइक रोटेट करने में नाकामी पिछले कुछ समय से चिंता का विषय बनी हुई है लेकिन भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा कि उनकी बल्लेबाजी की तुलना विराट कोहली से नहीं की जा सकती है जो अभी दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज हैं.

कोहली की बल्लेबाजी की तुलना धोनी से करना ठीक नहीं : बॉलिंग कोच भरत अरुण

मैनचेस्टर: वर्ल्‍ड कप (ICC Cricket World Cup 2019) में महेंद्र सिंह धोनी की बीच के ओवरों में स्ट्राइक रोटेट करने में नाकामी पिछले कुछ समय से चिंता का विषय बनी हुई है लेकिन भारतीय टीम के गेंदबाजी कोच भरत अरुण ने कहा कि उनकी बल्लेबाजी की तुलना विराट कोहली से नहीं की जा सकती है जो अभी दुनिया के नंबर एक बल्लेबाज हैं. धोनी ने अफगानिस्तान के खिलाफ 52 गेंदों पर 28 रन बनाये जबकि कोहली ने 63 गेंदों पर 67 रन की पारी खेली और उनका स्ट्राइक रेट 100 से अधिक रहा. लेकिन अरुण ने कहा कि धोनी के स्ट्राइक रेट की कोहली से तुलना नहीं की जानी चाहिए.

अरुण ने वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच की पूर्व संध्या पर पत्रकारों से कहा, ‘‘विराट कोहली सभी प्रारूपों में नंबर एक बल्लेबाज है इसलिए मुझे लगता है कि वह जिस तरह से खेल रहा है किसी अन्य की तुलना उससे करना सही नहीं है. ’’ अरुण से पूछा गया कि क्या टीम प्रबंधन ने धोनी से उनकी धीमी बल्लेबाजी के बारे में बात की तो उन्होंने घुमा फिराकर जवाब दिया.

INDvsWI: भारत सेमीफाइनल से 1 कदम दूर, ‘यूनिवर्सल बॉस’ के पास गंवाने को कुछ नहीं

उन्होंने कहा, ‘‘सभी बल्लेबाजों, सहयोगी स्टाफ, बल्लेबाजी कोच, मुख्य कोच रवि शास्त्री के बीच लगातार बातचीत होती रहती है. शास्त्री सभी कोच के साथ नियमित बात करते हैं. मैं आपको नहीं बता सकता कि हमारे बीच क्या बातचीत होती है लेकिन हां अगर मुझे आपके सवाल का जवाब देना है तो हमारे बीच सुधार के लिये लगातार बातचीत होती है.’’

World Cup 2019: विंडीज के खिलाफ शमी की जगह भुवी को प्लेइंग XI में चाहते हैं तेंदुलकर

भारत ने मैनचेस्टर में पाकिस्तान के खिलाफ 335 रन बनाये थे और अरुण को उम्मीद है कि वेस्टइंडीज के खिलाफ गुरुवार को भी ऐसा ही होगा. उन्होंने कहा, ‘‘अगर आप हमारे पहले तीन मैचों पर गौर करो तो हमने वास्तव में अच्छा स्कोर बनाया. अफगानिस्तान के खिलाफ विकेट पर रन बनाना आसान नहीं था. लेकिन मुझे लगता है कि यह परिस्थितियों को समझना और उनसे तालमेल बिठाने से जुड़ा मसला है. ’’

(इनपुट: एजेंसी भाषा)