close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: भारत के मैच धुले तो बीमा कंपनियों को लग सकती 100 करोड़ की चपत

आईसीसी क्रिकेट विश्व कप (ICC World Cup 2019) में अब तक चार मैच बारिश की भेंट चढ़ चुके हैं. इनमें एक भारत का मैच भी शामिल है.

World Cup 2019: भारत के मैच धुले तो बीमा कंपनियों को लग सकती 100 करोड़ की चपत
आईसीसी विश्व कप में मैच शुरू होने का इंतजार करता भारतीय प्रशंसक. (फोटो: Reuters)

नई दिल्ली: आईसीसी क्रिकेट विश्व कप (ICC World Cup 2019) में इस बार बारिश भी एक खबर रही है. अब तक चार मैच बारिश की भेंट चढ़ चुके हैं. इनमें एक मैच भारत का भी शामिल है. यही कारण जब मैच शुरू होता है तो क्रिकेटप्रेमियों की एक चिंता बारिश भी होती है. उन्हें अक्सर यह डर सताता है कि कहीं मैच के रोमांच में बारिश खलल ना डाल दे. क्रिकेटप्रेमियों के साथ-साथ बीमा कंपनियां भी बारिश के देवता इंद्र से प्रार्थना कर रही हैं कि मौजूदा विश्व कप में भारत (Team India) के शेष मुकाबले बारिश की भेंट ना चढ़े क्योंकि इससे उन्हें 100 करोड़ रुपए तक का नुकसान उठाना पड़ सकता है. 

मौजूदा विश्वकप में सेमीफाइनल से पहले भारत को अभी चार और मैच खेलने हैं. बीमा कंपनियां चाहती हैं कि इन मैचों के दौरान वर्षा नहीं हो क्योंकि मैच के रद्द होने या बाधित होने पर उनकी आर्थिक देनदारी होती है. भारत की बीमा कंपनियों पर अब भी बारिश की वजह से 100 करोड़ रुपए का खतरा मंडरा रहा है क्योंकि शेष मैचों में भी बरसात की आशंका है. इस विश्व कप में अब तक चार मैच बरसात के कारण धुल चुके हैं. 

यह भी पढ़ें: FIH Women's Series Finals: भारतीय महिलाओं ने जीता खिताब, जापान को दी करारी शिकस्त

सूत्रों के मुताबिक भारतीय बाजार का करीब 150 करोड़ का जोखिम कवर है. इनमें कई बीमा कंपनियों का हिस्सा है. न्यू इंडिया इंश्योरेंस, जनरल इंश्योरेंस कॉरपोरेशन, आईसीआईसीआई लॉम्बार्ड जनरल इंश्योरेंस और ओरिएंटल इंश्योरेंस जैसी बड़ी कंपनियां आम तौर पर ये बीमा कवर उपलब्ध कराती हैं. 

यह कवर मुख्य तौर पर प्रसारकों के लिए होता है जो कि प्रसारण अधिकारों के लिए आईसीसी को अग्रिम भुगतान करते हैं. यदि मैच होता है तो बीमा कंपनियों की कोई देनदारी नहीं बनती है. यदि मैच में बाधा होती है अथवा वर्षा के कारण मैच नहीं होता है तो इसका विज्ञापन पर असर पड़ता है और प्रसारणकर्ताओं को राजस्व का नुकसान होता है.