close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

World Cup 2019: अफगानिस्तान के सामने इंग्लैंड की मुश्किल चुनौती

विश्व कप में मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान पर इंग्लैंड और अफगानिस्तान के बीच मैच में इंग्लैंड जीत की दावेदार है.  

World Cup 2019: अफगानिस्तान के सामने इंग्लैंड की मुश्किल चुनौती
टॉप खिलाड़ियों के चोटिल होने के बाद भी इंग्लैंड का पलड़ा भारी है. (फाइल फोटो)

मैनचेस्टर: आईसीसी विश्व कप 2019 (World Cup 2019) के 24वें मुकाबले में मेजबान इंग्लैंड का मुकाबला अफगानिस्तान से होगा. इग्लैंड की टीम अपने प्रमुख खिलाड़ियों की चोटों से परेशान है. वहीं अफगानिस्तान की टीम को उसके मुकाबले काफी कमजोर माना जा रहा है. अफगानिस्तान ने टूर्नामेंट में अभी तक कोई मैच नहीं जीता है, लेकिन उसने श्रीलंका और कुछ हद तक ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपने प्रदर्शन से प्रभावित तो किया था, लेकिन दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टीम बुरी तरह लड़खड़ा गई थी. 

चोटों से परेशान है इंग्लैंड
इंग्लैंड की कोशिश अपनी टीम कॉम्बिनेशन को ठीक करके सेमीफाइनल में जगह पक्की करने की होगी. इंग्लैंड के कप्तान इयोन मोर्गन को कमर में दर्द के कारण वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच के दौरान मैदान छोड़कर जाना पड़ा. सलामी बल्लेबाज जासन राय को भी हैमस्ट्रिंग में खिंचाव के कारण इसी मैच में मैदान से जाना पड़ा था. मोर्गन ने वेस्टइंडीज पर मिली जीत के बाद कहा था, ‘‘मुझे पहले भी इस तरह का दर्द हुआ है और ठीक होने में कुछ दिन लगते हैं. अगले 24 घंटे में पता चल जायेगा.’’ उन्होंने कहा ,‘‘जासन की चोट का स्कैन होगा. दो खिलाड़ियों को चोट लगना चिंता का विषय है लेकिन घबराने की जरूरत नहीं है.’’

यह भी पढ़ें: पाकिस्तान पर जीत के बाद 2 दिन का ब्रेक लेगी विराट 'ब्रिगेड', अफगानिस्तान से अगला मुकाबला

कौन खेलेगा चोटिल खिलाड़ियों की जगह 
मोर्गन के फिट नहीं होने पर उपकप्तान जोस बटलर टीम की कमान संभालेंगे. इंग्लैंड की बेंच स्ट्रेंथ काफी मजबूत है जिसमें टाम कुरेन और मोईन अली जैसे खिलाड़ी हैं. पाकिस्तान से हारने के बाद इंग्लैंड ने तीनों विभागों में अपने प्रदर्शन में सुधार किया और अब वह जीत की लय कायम रखने के इरादे से उतरेगा. देखना होगा कि ऐसे में टीम कैसा प्रदर्शन करती है. इंग्लैंड की पूरी कोशिश यह साबित करने की होगी कि चोटिल खिलाड़ियों की गैरमौजूदगी में भी टीम की मजबूती में कमी नहीं आई है. 

अफगानिस्तान चौकाने की पूरी कोशिश करेगी
दूसरी ओर अफगानिस्तान पहली जीत दर्ज करने की पूरी कोशिश करेगा. दूसरी बार विश्व कप में खेल रही अफगान टीम अब तक दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका और न्यूजीलैंड से हार चुकी है. युद्ध की विभीषिका झेल चुके देश के खिलाड़ियों ने हालांकि श्रीलंका को नाकों चने चबवा दिये थे.अफगानिस्तान की चिंता का सबब उसकी बल्लेबाजी है क्योंकि किसी भी मैच में वे 40 ओवर भी नहीं टिक सके. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ शुरूआत अच्छी रही लेकिन बड़े स्कोर नहीं बन सके. रशीद खान को छोड़कर उनका कोई खिलाड़ी प्रदर्शन की छाप नहीं छोड़ पाया.विकेट अगर स्पिनरों की मददगार होती है तो रशीद और मोहम्मद नबी की भूमिका अहम होगी.

टीमें :
इंग्लैंड : इयोन मोर्गन (कप्तान), मोईन अली, जोफ्रा आर्चर, जानी बेयरस्टा, जोस बटलर, टाम कुरेन, लियाम डासन, लियाम प्लंकेट, आदिल रशीद, जो रूट, जासन राय, बेन स्टोक्स, जेम्स विंस, क्रिस वोक्स, मार्क वुड.

अफगानस्तान : गुलबदन नायब (कप्तान), नूर अली जदरान, हजरतुल्लाह जजाइ, रहमत शाह, असगर अफगान, हशमतुल्लाह शाहिदी, नजीबुल्लाह जदरान, समिउल्लाह शिनवारी, मोहम्मद नबी, रशीद खान, दौलत जदरान, आफताब आलम, हामिद हसन, मुजीब उर रहमान, इकराम अली खिल
(इनपुट भाषा)