युवती ने लगाया था गैंगरेप का झूठा आरोप, अब खुद हवालात में काटेगी रात

युवती, जो उस समय 19 वर्ष की थी, उसने कहा कि साइप्रस पुलिस ने उसे यह स्वीकार करने के लिए मजबूर किया कि उसने इस घटना के बारे में झूठ बोला है, लेकिन पुलिस ने इस दावे का खंडन किया.

युवती ने लगाया था गैंगरेप का झूठा आरोप, अब खुद हवालात में काटेगी रात
प्रतीकात्मक तस्वीर.

लंदन: एक ब्रिटिश युवती सोमवार को इजरायली युवकों द्वारा साइप्रस में सामूहिक दुष्कर्म किए जाने का झूठा आरोप लगाने का दोषी करार दिया गया. बीबीसी के मुताबिक, जुलाई में अयिया नापा (साइप्रस) में 12 इजरायली युवकों द्वारा हमला किए जाने के आरोप को वापस लेने के बाद महिला को गिरफ्तार कर लिया गया था.

युवती, जो उस समय 19 वर्ष की थी, उसने कहा कि साइप्रस पुलिस ने उसे यह स्वीकार करने के लिए मजबूर किया कि उसने इस घटना के बारे में झूठ बोला है, लेकिन पुलिस ने इस दावे का खंडन किया.

परालिमनी की अदालत ने युवती को दोषी पाया. वकीलों ने कहा कि उसने स्वेच्छा से लिखा और अपने शुरुआती दावों को वापस लेने वाले एक बयान पर हस्ताक्षर किए. आरोप के सिलसिले में 14 इजरायलियों को गिरफ्तार किया गया था, लेकिन बाद में रिहा कर दिया गया.

मुकदमा अक्टूबर की शुरुआत में शुरू हुआ था, लेकिन फैसला देर से आया. बीबीसी ने कहा कि युवती के परिवार ने भूमध्यसागरीय द्वीप पर उसके साथ क्रिसमस मनाया.

इसमें कहा गया है कि महिला का प्रतिनिधित्व करने वाले वकीलों ने संकेत दिया है कि वे मामले के संबंध में यूरोपीय मानवाधिकार न्यायालय में अपील करने को तैयार हैं.

ये भी देखें-: