close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

अमरनाथ यात्रि‍यों के लिए स्‍थाप‍ित किए गए 12 ट्रांजिट कैंप

कश्‍मीर में कुल 12 स्थानों पर ऐसे ट्रांजिट कैंप स्‍थापित किए गए हैं. इन शिविरों में दस हजार से अधिक अमरनाथ यात्रियों को रखा जा सकता है.

अमरनाथ यात्रि‍यों के लिए स्‍थाप‍ित किए गए 12 ट्रांजिट कैंप

श्रीनगर: अमरनाथ यात्रा का ज़िम्मा लेने के बाद पहली पहली बार अमरनाथ श्राइन बोर्ड द्वारा अतिरिक्त ट्रांजिट कैंप कश्‍मीर में स्थापित किए गए हैं. तीर्थयात्रियों को सभी बुनियादी सुविधाएं दी जाती हैं, ताकि इन शिविरों में वो घर जैसा महसूस करें.

ट्रांजिट कैंपों की स्थापना श्रीनगर में पंथाचौक, एचएमटी, ज़कूरा में की गई है. कश्‍मीर में कुल 12 स्थानों पर ऐसे ट्रांजिट कैंप स्‍थापित किए गए हैं. इन शिविरों में दस हजार से अधिक अमरनाथ यात्रियों को रखा जा सकता है. सभी जिला कमिश्नरों को अतिरिक्त ट्रांजिट कैंपों की व्‍यवस्‍था, सभी सुविधाओं की निगरानी के अलावा मजिस्ट्रेटी सहायता प्रदान करने के लिए कहा गया. यह निर्णय अमरनाथ यात्रा 2019 के तीर्थयात्रियों को प्रदान की जाने वाली हर सुविधा की समीक्षा बैठक में किया गया.

स्वास्थ्य विभाग, श्रीनगर म्युनिसिपैलिटी, फ़ूड एंड सप्लाई, पब्लिक हेल्थ इंजीनियरिंग, विभागों सहित राज्य के लगभग सभी सुविधा प्रदान करने वाले विभागों को तीर्थयात्रियों को 24 घंटे सुविधाएं प्रदान करने के लिए कहा गया है. शिविरों में बायो टॉयलेट्स, आवश्यक वस्तुओं के स्टोरजे के लिए जगह, बिजली सेवाएं, बिजली बैकअप सुविधाओं के साथ तीर्थयात्रियों के लिए अन्य आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध कराई गई हैं. तीर्थयात्री प्रशासन के इस कदम की सरहाना कर रहे हैं.

राजस्‍थान से आए अवध नारायण कहते हैं, "यहां अच्‍छी व्‍यवस्‍था की गई है. जब रास्ता बंद होता है तो यात्री यहां रुक सकते हैं, यहाँ अगर दो-दो तीन दिन रास्ता बंद हो तो यात्री कहां जाएं. उसके लिए अच्छा कदम है. बिलकुल घर जैसी सुविधा हैं." कैंप में एक वार्ड की सुविधा और एक एम्बुलेंस को चौबीसों घंटे रखा गया है, ताकि अगर बीमार तीर्थयात्रियों को बड़े अस्पताल शिफ्ट करना हो तो देरी ना हो. यहां ज्‍यादातर उन यात्रियों को स्वस्थ चिकित्सा सेवा ज़रूरत पड़ती जो गुफा से यात्रा कर लोटे हैं. क्‍योंकि गुफा के रास्ते में चढाई चढ़नी पड़ती है.

मेडिकल कैंप की सुपरवाइज़र तस्लीमा कहती हैं, "यहां डॉक्टर और पैरा मेडिकल स्टाफ 24 घण्टे रहते हैं. यात्री जो ऊपर से आते हैं वो ज्‍यादातर बीमार होते हैं. उनका इलाज किया जाता है, उन्हें दवाई मुफ़्त दी जाती है." अनंतनाग, श्रीनगर और गांदरबल जिलों के सभी प्रमुख अस्पताल भी 24x7 आधार पर अमरनाथ यात्रा के तीर्थयात्रियों के लिए तैयार रखे गए हैं. एसडीआरएफ की कुल 31 टीमें पहले ही 20 स्थानों पर 556 कर्मियों के साथ तैनात की गई हैं. पर्यटन विभाग ने पवित्र गुफा के लिए विभिन्न स्थानों पर 31 शेल्टर शेड स्थापित किए हैं.