close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

Exclusive : बुद्ध पूर्णिमा के दिन हमले की साजिश, बांग्लादेशी आतंकी संगठन ने तैयार किया महिला फिदायीन का दस्ता

खुफिया रिपोर्ट में कहा गया है कि आतंकी फिदायीन हमले की तैयारी में हैं. बुद्ध पूर्णिमा के दिन आतंकी गर्भवती महिला के रूप में हिन्दू या बौद्ध मंदिर में दाखिल हो सकते हैं.

Exclusive : बुद्ध पूर्णिमा के दिन हमले की साजिश, बांग्लादेशी आतंकी संगठन ने तैयार किया महिला फिदायीन का दस्ता
जुलाई 2013 में बिहार के बोध गया में हुए आतंकी धमाके में भी बांग्लादेश के आतंकी संगठन का नाम आया था. (फाइल फोटो)

नई दिल्लीः आतंकवादियों की कई बड़ी साजिशों की ख़बरें मिलने के बाद खुफिया एजेंसियों को आशंका है कि कोई बड़ी वारदात की तैयारी है. नेपाल से 3 आतंकवादियों ने घुसपैठ की है और वो बांदीपोरा पहुंचे हैं. वहीं बांगलादेश में सक्रिय आतंकवादी गिरोह जमातुल मुजाहिदीन बांगलादेश ने महिला आत्मघाती तैयार की है जो बांगलादेश, भारत और म्यांमार के बौद्धमंदिरों को निशाना बना सकती है. एजेंसियां इसे श्रीलंका में चर्चों पर हुए हमले के बाद आईएसआईएस की दक्षिण-पूर्व एशिया में आहट के तौर पर ले रही हैं. 

सूत्रों के मुताबिक साजिद मीर नाम का एक स्थानीय आतंकवादी काठमांडू पहुंचा और वहां से 3 विदेशी आतंकवादियों को लेकर उत्तर कश्मीर के बांदीपोरा गया है. बांदीपोरा में ज्यादा तादाद विदेशी आतंकवादियों की होती है जिनमें लश्करे तैयबा और जैशे मोहम्मद को आतंकवादी होते हैं. नेपाल के रास्ते घुसपैठ ने खुफिया एजेंसियों के होश उड़ा दिए हैं क्योंकि पिछले दो सालों यानि 2017 और 2018 में इस रास्ते से कोई घुसपैठ नहीं हुई थी. नेपाल के सीमावर्ती इलाक़ों में कभी पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का जबरदस्त नेटवर्क था लेकिन उसे खत्म कर दिया गया था. 

दूसरा खबर ज्यादा परेशान करने वाली है. बांग्लादेश में सक्रिय आतंकवादी गिरोह जमातुल मुजाहिदीन बांगलादेश(जेएमबी) ने महिला आत्मघाती हमलावरों के ज़रिए बौद्ध मंदिरों को निशाना बनाने की तैयारी की है. 18 मई को बुद्ध पूर्णिमा है और इस दिन बांगलादेश, म्यामांर और भारत में हमलों की आशंका बढ़ गई है. जेएमबी इन हमलों के ज़रिए बौद्धों द्वारा मुस्लिमों पर हो रहे कथित अत्याचारों का बदला लेना चाहता है. 

जेएमबी बांगलादेश का एक कट्टर इस्लामी आतंकवादी गिरोह है. पिछले दशक में इसने बांगलादेश में कई बड़े हमले किए थे. 29 मार्च 2007 में इस गिरोह के चार आतंकवादियों को अलग-अलग आतंकवादी कार्रवाइयों के लिए फांसी दी गई थी. लेकिन अब ये गिरोह दोबारा ताक़तवर हो रहा है. इसे कट्टरपंथी इस्लामी देशों और संगठनों से वित्तीय सहायता मिलती है. 2015 में बांगलादेश में पाकिस्तानी उच्चायोग के दो अधिकारियों मज़हर खान और फरीना अरशद को जेएमबी को फंड मुहैया कराते रंगे हाथ पकड़ा गया था.