ठंड की मार से बेहाल उत्तर भारत, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 2.8 डिग्री तक गिरा

राष्ट्रीय राजधानी में पड़ रही कड़ाके की ठंड ने भले ही 1997 के बाद से 22 साल पुराना अपना रिकॉर्ड तोड़ा है. 

ठंड की मार से बेहाल उत्तर भारत, दिल्ली में न्यूनतम तापमान 2.8 डिग्री तक गिरा
(फाइल फोटो)

नई दिल्ली: दिल्ली (Delhi) समेत पूरे उत्तर भारत (North India) में ठंड का कहर जारी है. रविवार सुबह भी दिल्ली वालों को रिकॉर्ड तोड़ ठंड (Cold) से कोई राहत नहीं मिली है.  मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली में न्यूनतम तापमान लोधी रोड में 2.8 डिग्री दर्ज किया गया. वहीं पालम में 3.2 डिग्री और सफदरजंग में 3.4 डिग्री तापमान दर्ज किया गया. 

हालांकि भारतीय मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक रविवार को तापमन में बढ़ोतरी दर्ज की गई है. मौसम विभाग ने कहा कि यूपी, हरियाणा, चंडीगढ़ और दिल्ली में तापमान में 2 से 3 डिग्री बढ़ोतरी दर्ज की गई है. वहीं बिहार में 1 से 2 डिग्री तापमान की बढ़ोतरी दर्ज की गई है. मध्य प्रदेश के कुछ इलाकों में भी तापमान में थोड़ी बढ़ोतरी दर्ज की गई है. 

मौसम विभाग ने कहा कि पश्चिमी राजस्थान और पश्चिम मध्य प्रदेश के कुछ हिस्सों में पिछले 24 घंटे में तापमान 1 से 2 डिग्री गिरा है. इसके अलावा उत्तर पश्चिम भारत में तापमान में कोई बदलाव नहीं हुआ है. 

रविवार को जोधपुर में तापमान 6.2 डिग्री, जम्मू में 7 डिग्री, पटियाला में 6 डिग्री, चंडीगढ़ में 4 डिग्री, देहरादून में 4.8 डिग्री, गंगानगर में 6.4 डिग्री दर्ज किया गया. 

बता दें राष्ट्रीय राजधानी में पड़ रही कड़ाके की ठंड ने भले ही 1997 के बाद से 22 साल पुराना अपना रिकॉर्ड तोड़ा है, लेकिन पिछले 100 वर्षो में ऐसा केवल चार बार ही हुआ है, जब इस माह में तापमान 20 डिग्री सेल्सियस से नीचे गया हो.

स्काईमेट वेदर के अनुसार, 1901 से 2018 तक केवल चार बार 1919, 1929, 1961 और 1997 में दिसंबर माह में औसत अधिकतम तापमान 20 डिग्री से कम रहा. 26 दिसंबर, 2019 तक औसत अधिकतम तापमान (एमएमटी) 19.85 डिग्री सेल्सियस रहा और अनुमानित अधिकतम तापमान दिसंबर के लिए 19.15 है. यदि ऐसा होता है तो 1977 के बाद 2019 सदी का दूसरा सबसे ठंडा दिसंबर रहेगा.

इस सत्र में दिल्ली में दिसंबर माह में सबसे कम अधिकतम तापमान 18 दिसंबर को 12.2 डिग्री रहा है. एक बार को छोड़ दिया जाए तो 17 दिसंबर के बाद से दिन का अधिकतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस से आगे नहीं बढ़ा है. बर्फ से ढकी हिमालय की पहाड़ियों से सर्द उत्तरी हवाओं के बहने के कारण लगातार ठंड के हालात बने हुए हैं.