close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

कांग्रेस ने 2014 से देश की विकास यात्रा शुरू करने के दावे के लिए सरकार को लिया आड़े हाथ

उच्च सदन में राष्ट्रपति अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चल रही चर्चा में भाग लेते हुए कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने सरकार पर यह आरोप लगाए.

कांग्रेस ने 2014 से देश की विकास यात्रा शुरू करने के दावे के लिए सरकार को लिया आड़े हाथ
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा ‘‘कृपया राष्ट्रपति को ऐसा भाषण न लिख कर दें कि 15 अगस्त 1947 को कुछ भी नहीं हुआ

नई दिल्ली: सरकार को देश की विविधता का सम्मान करने की नसीहत देते हुए राज्यसभा में बुधवार को विपक्ष ने देश की विकास यात्रा 2014 से शुरू होने का दावा करने के लिए सत्तारूढ़ भाजपा को आड़े हाथ लिया और कहा कि देश की प्रगति की नींव तो आजादी के तुरंत बाद ही रख दी गई थी. विपक्ष ने यह भी आरोप लगाया कि देश में पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी और अटल बिहारी वाजपेयी ने भी कभी चुनाव में सेना के पराक्रम का लाभ नहीं लिया. 

उच्च सदन में राष्ट्रपति अभिभाषण के धन्यवाद प्रस्ताव पर चल रही चर्चा में भाग लेते हुए कांग्रेस के उप नेता आनंद शर्मा ने सरकार पर यह आरोप लगाए. इन आरोपों को सिरे से खारिज करते हुए सत्ता पक्ष ने कहा कि अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी कहीं ज्यादा लोकतांत्रिक हैं और वर्तमान सरकार के शासनकाल में अल्पसंख्यक जितने सुरक्षित हैं, उतने पहले कभी नहीं थे.

कांग्रेस उप नेता आनंद शर्मा ने दावा किया कि अब तक किसी भी पूर्व प्रधानमंत्री ने यह दावा नहीं किया कि वह स्वयं युद्ध लड़ने गए थे या उन्होंने चुनाव में युद्ध का फायदा उठाया. चाहे वह तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के शासनकाल में लड़ा गया 1971 का भारत पाक युद्ध हो या फिर अटल बिहारी वाजपेयी के शासनकाल में लड़ा गया करगिल युद्ध हो.

उन्होंने कहा कि चुनाव का नतीजा चाहे जो भी हो, लेकिन विपक्ष जहां कहीं भी सरकार की गलती देखेगा, वह उसके बारे में अवश्य बोलेगा और इसको लेकर किसी को कोई ‘गलतफहमी’ नहीं होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि वह पूरे विपक्ष की ओर से यह कहना चाहते हैं कि देश की सुरक्षा और अखंडता को लेकर कोई समझौता नहीं किया जा सकता. कांग्रेस इस बात को इसलिए भी अच्छी तरह जानती है क्योंकि पार्टी ने देश की सुरक्षा के लिए कई बलिदान दिए हैं.

शर्मा ने राष्ट्रपति के अभिभाषण में 2014 से देश के विकास का सफर शुरू होने की बात के उल्लेख पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि देश के विकास की राह तो आजादी प्राप्त होने के तुरंत बाद ही शुरू हो गई थी और तब ही इसकी नींव रखी गई थी. उन्होंने प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू से लेकर पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान अंतरिक्ष सहित विभिन्न क्षेत्रों में देश द्वारा उपलब्ध की गयी सफलताओं का भी उल्लेख किया.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता ने कहा ‘‘कृपया राष्ट्रपति को ऐसा भाषण न लिख कर दें कि 15 अगस्त 1947 को कुछ भी नहीं हुआ और जो कुछ हुआ वह 26 मई 2014 को ही हुआ.’’ 

उन्होंने भारत में बहु धर्म बहु संस्कृति बहु नस्ल होने की ओर ध्यान दिलाते हुए सरकार से कहा कि वह देश की विविधता का सम्मान करना सीखे. पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता के जे अल्फोन्स ने चर्चा में हिस्सा लेते हुए कहा कि आजादी के करीब 70 साल बीत गए लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार के शासनकाल में अल्पसंख्यक जितने सुरक्षित हैं, उतने पहले कभी नहीं थे.