दिल्ली: निर्भया कांड के मुजरिमों की जेल के अधीक्षक सहित कई का तबादला

दिल्ली सरकार को अंदेशा था कि निर्भया कांड जब अपने अंत की ओर बढ़ रहा है...

दिल्ली: निर्भया कांड के मुजरिमों की जेल के अधीक्षक सहित कई का तबादला
यह आदेश 26 दिसंबर, 2019 को जेल मुख्यालय अधीक्षक-1 की ओर से जारी किया गया है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

नई दिल्ली: एशिया की नंबर-1 कही जाने वाली दिल्ली स्थित तिहाड़ सहित राजधानी की कई अन्य जेलों में तैनात अधीक्षकों का ट्रांसफसर कर दिया गया है. जेल अधीक्षकों की कमी के चलते इनमें से कई को दो-दो जेलों की जिम्मेदारी सौंपी गई है.

ट्रांसफर किए गए जेल-अधीक्षकों में एक वह चर्चित जेल अधीक्षक भी शामिल है, जिस पर कुछ महीने पहले एक सजायाफ्ता मुजरिम की 'गर्लफ्रेंड' का तिहाड़ जेल में कथित 'वेलकम' करने/कराने का आरोप लगा था.

अधीक्षक को ही हटा देने में भलाई समझी
इतना ही नहीं, खुद की खुराफातों के चलते बदनाम हुए इसी जेल अधीक्षक की जेल में फांसी की सजा पाए निर्भया के चार में से तीन मुजरिम भी कैद हैं. दिल्ली सरकार को अंदेशा था कि निर्भया कांड जब अपने अंत की ओर बढ़ रहा है, ऐसे में कहीं जेल में बंद निर्भया के मुजरिमों को लेकर कोई नया बखेड़ा खड़ा न हो जाए. लिहाजा, ऐसे में सरकार ने इस जेल के चर्चित जेल अधीक्षक को ही हटा देने में भलाई समझी, ताकि इस एक समाधान से आने वाले सौ झंझटों से दूर रहा जा सके.

तिहाड़ जेल नंबर-5 का अधीक्षक
आईएएनएस के पास मौजूद तिहाड़ जेल मुख्यालय से जारी स्थानांतरण आदेश से इसकी पुष्टि होती है. यह आदेश 26 दिसंबर, 2019 को जेल मुख्यालय अधीक्षक-1 की ओर से जारी किया गया है. जारी आदेश में जेल अधीक्षक राम मेहर सिंह, अदेश्वर कांत, तारिक सलाम, एस. सुनील, सुनील कुमार और ओ.पी. पांडेय का नाम दर्ज है. पांडेय अब तक रोहिणी स्थित दिल्ली की जेल नंबर-10 के अधीक्षक हुआ करते थे. उन्हें रोहिणी जेल से ट्रांसफर कर तिहाड़ जेल नंबर-5 का अधीक्षक बनाया गया है.

मुजरिम की गर्लफ्रेंड की खातिरदारी
तिहाड़ जेल मुख्यालय से जारी इस आदेश के मुताबिक, "अब तक तिहाड़ सेंट्रल जेल नंबर-2 संभाल रहे राम मेहर सिंह को मंडोली स्थित सेंट्रल जेल नंबर 11 रवाना कर दिया गया है. राम मेहर सिंह केंद्रीय कारागार संख्या-12 का अतिरिक्त प्रभार भी देखेंगे. राम मेहर सिंह वही जेल अधीक्षक हैं, जिन पर एक सजायाफ्ता मुजरिम की गर्लफ्रेंड का जेल के अंदर आए-दिन कथित रूप से 'वेलकम' करने-कराने का आरोप लगा था.

फाइलों में कहां दबी पड़ी
मामले की उच्चस्तरीय जांच के आदेश दिए गए थे. दो-तीन महीने बाद भी जांच जेल मुख्यालय की फाइलों में कहां दबी पड़ी है, किसी को नहीं पता. जांच रिपोर्ट आ पाती, उससे पहले ही जेल मुख्यालय ने राम मेहर सिंह का तबादला तिहाड़ जेल नंबर-2 से हटाकर अब मंडोली स्थित केंद्रीय कारागार संख्या-11 में कर दिया है.

मुजरिम भी लंबे समय से कैद
उल्लेखनीय है कि तिहाड़ स्थित जिस सेंट्रल जेल नंबर-2 के अधीक्षक अब तक राम मेहर सिंह हुआ करते थे, वहीं (तिहाड़ जेल नंबर-2) निर्भया कांड के तीन सजायाफ्ता मुजरिम भी लंबे समय से कैद हैं.

जेल प्रशासन की नजर में खटक रहे थे
तिहाड़ जेल सूत्रों के मुताबिक, जेल महानिदेशालय की नजर में जब से राम मेहर सिंह द्वारा कथित रूप से किसी सजायाफ्ता मुजरिम की गर्लफ्रेंड को अपनी जेल में दिन-दहाड़े पहुंचने की कथित अनुमति दे दिए जाने की काली करतूत सामने आई थी, तभी से राम मेहर दिल्ली सरकार और तिहाड़ जेल प्रशासन की नजर में खटक रहे थे.

मुजरिम की गर्लफ्रेंड को जेल
दिल्ली जेल महानिदेशालय को हर वक्त चिंता लगी रहती थी कि जिस शख्स पर किसी मुजरिम की गर्लफ्रेंड को जेल में आने की कथित इजाजत देने जैसे गंभीर आरोप लग सकते हैं, तो फिर ऐसे जेल अधीक्षक के ऊपर भला निर्भया कांड के मुजरिमों की सुरक्षा कैसे छोड़ी जा सकती है? दिल्ली राज्य जेल महकमे में राम मेहर को लेकर इसी तरह की चर्चाओं का बाजार गरम है.

मंडोली जेल नंबर-11 के अधीक्षक (मंडोली स्थित जेल नंबर-12 का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे) रहे अदेश्वर कांत को वहां से हटाकर तिहाड़ जेल ले आया गया है. अदेश्वर अब तिहाड़ जेल नंबर-2 (राम मेहर सिंह की जगह पर) और जेल नंबर-7 का अतिरिक्त प्रभार संभालेंगे.

इसी तरह तिहाड़ सेंट्रल जेल नंबर-3 (तिहाड़ जेल नंबर-7 के अतिरिक्त प्रभारी रहे) के अधीक्षक रहे तारिक सलाम अब मंडोली स्थित सेंट्रल जेल नंबर-13 के अधीक्षक होंगे. तारिक सलाम को यहां स्थित केंद्रीय कारागार संख्या 15 का अतिरिक्त प्रभार भी दिया गया है.

तारिक सलाम को मंडोली जेल भेजे जाने से खाली हुआ तिहाड़ जेल नंबर-3 का प्रभार एस. सुनील को दिया गया है. एस. सुनील अब तक मंडोली में मौजूद जेल नंबर-13 के जेल अधीक्षक थे. एस. सुनील पर मंडोली की जेल नंबर-15 का अतिरिक्त प्रभार था. एस. सुनील के तिहाड़ पहुंचने से खाली हुए दोनों जेलों (मंडोली-13 और 15 नंबर जेल) के अधीक्षक का ही प्रभार तिहाड़ से लाए गए तारिक सलाम को सौंपा गया है. जबकि ओ.पी. पांडेय को तिहाड़ जेल नंबर-5 का अधीक्षक बनाये जाने से रोहिणी स्थित जेल नंबर-10 के सुपरिंटेंडेंट का पद खाली हो गया था. लिहाजा, पांडेय की जगह पर अब तिहाड़ जेल नंबर-5 से सुनील कुमार को हटाकर रोहिणी जेल नंबर-10 का अधीक्षक बनाया गया है.

तिहाड़ जेल (दिल्ली जेल मुख्यालय) प्रशासन ने तिहाड़ और मंडोली में मौजूद दोनों ही महिला जेल (तिहाड़ जेल नंबर-6 सरिता सब्बरवाल और मंडोली स्थित महिला जेल नंबर-16 की अधीक्षक नीता नेगी) को उनकी पुरानी जेल में ही तैनात रखा है.