रामलीला मैदान में PM मोदी ने कहा, ' संतोष है, 40 लाख से ज्यादा लोगों के जीवन में नया सवेरा लाने का मुझे मौका मिला'

बीजेपी इस रैली में दिल्ली प्रदेश ईकाई के अध्यक्ष मनोज तिवारी समेत दिल्ली के सभी बड़े नेता मौजूद रहे. 

अंतिम अपडेट: रविवार दिसम्बर 22, 2019 - 12:45 PM IST
(साभार फेसबुक- BJPDelhi)

नई दिल्ली: राजधानी दिल्ली की अनाधिकृत कॉलोनियों को नियमित करने के फैसले पर आज दिल्ली के ऐतिहासिक रामलीला मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की रैली का आयोजन किया गया. दिल्ली प्रदेश बीजेपी ने राष्ट्रीय राजधानी की 1734 अवैध कॉलोनियों को नियमित करने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देने के लिए यह रैली आयोजित की गई थी. 

पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा, 'मुझे संतोष है कि दिल्ली के 40 लाख से ज्यादा लोगों के जीवन में नया सवेरा लाने का एक उत्तम अवसर मुझे और भाजपा को मिला है.' जीवन से जब अनिश्चितता निकल जाती है, एक बड़ी चिंता हट जाती है तो उसका प्रभाव क्या होता है, ये मैं आज आप सभी के चेहरों पर देख रहा हूं. आपके उत्साह में देख रहा हूं. 

पीएम मोदी ने कहा, 'इतने कम समय में तकनीक की मदद से दिल्ली की 1700 से ज्यादा कॉलोनियों की बाउंड्री को चिह्नित करने का काम पूरा किया जा चुका है. इतना ही नहीं 1200 से ज्यादा कॉलोनियों के नक्शे भी पोर्टल पर डाले जा चुके हैं.

माना जा रहा है कि  'धन्यवाद पीएम मोदी रैली' के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी आने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Elections 2020) के लिए बिगुल फूंक दिया है.. 

22 दिसम्बर 2019, 12:47 बजे

रामलीला मैदान में पीएम मोदी की रैली के लिए दिल्ली बीजेपी के सभी नेता पहुंच चुके हैं. मंच पर प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी, सांसद मीनाक्षी लेखी, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, केंद्रीय मंत्री व सांसद डॉ हर्षवर्धन, सांसद रमेश बिधूड़ी, सांसद हंस राज हंस, सांसद प्रवेश साहिब सिंह वर्मा मौजूद हैं. इनके अलावा राज्यसभा सांसद विजय गोयल और दिल्ली बीजेपी के वरिष्ठ नेता विजय कुमार मल्होत्रा भी मौजूद हैं.

22 दिसम्बर 2019, 12:45 बजे

रैली में पहुंचने वाले लोगों ने पीएम मोदी को दिल्ली की 1700 कॉलोनियों को अधिकृत करने लिए धन्यवाद देते हुए कहा कि दिल्ली की जनता मोदी जी के साथ. पीएम मोदी ने ऐतिहासिक काम किया है.

 

22 दिसम्बर 2019, 12:42 बजे

नागरिकता कानून के बाद देश के कई शहरों में हुए हिंसक प्रदर्शनों को देखते हुए रैली के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए. रैली स्थल से लेकर आसपास की इमारतों पर भी सुरक्षा के कड़े बंदोबस्त किए गए हैं. रैली स्थल पर और उसके आसपास के इलाकों पर ड्रोन के जरिए नजर रखी जा रही है. सूत्रों के मुताबिक खुफिया एजेंसी (IB) ने पीएम मोदी रैली लेकर आतंकी खतरे का अलर्ट भी जारी किया है, आईबी ने एसपीजी को अलर्ट जारी किया है. 

22 दिसम्बर 2019, 12:41 बजे

सांसद विजय गोयल ने कहा कि आज की रैली में पीएम मोदी को लोगों के हस्ताक्षर किए गए दस्तावेज भेंट किए जाएंगे. विजय गोयल ने कहा कि दिल्ली में सत्ताधारी आम आदमी पार्टी से ज्यादा काम केंद्र सरकार ने किया है. 

22 दिसम्बर 2019, 12:38 बजे

दिल्ली बीजेपी के कई नेता मंच पर मौजूद हैं. दिल्ली प्रदेश बीजेपी के अध्यक्ष मनोज तिवारी, सांसद और केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन, केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर, सांसद रमेश बिधूड़ी, विजय गोयल, प्रवेश साहिब सिंह वर्मा, मीनाक्षी लेखी मंच पर मौजूद हैं.

 

22 दिसम्बर 2019, 12:35 बजे

रामलीला मैदान में बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ताओं का पहुंचना शुरू हो गया है. पार्टी ने अपने ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट से लोगों के उत्साह को दर्शाता एक वीडियो शेयर किया. 

22 दिसम्बर 2019, 12:33 बजे

दिल्ली बीजेपी ने रैली के लिए ट्वीट किया

दिल्ली में अवैध कॉलोनियों को नियमित करने से करीब 40 लाख लोगों को मालिकाना हक मिलने का रास्ता साफ हुआ है. प्रधानमंत्री के सभा स्थल और दरियागंज थाने की दूरी ब-मुश्किल एक किलोमीटर ही होगी. पीएम मोदी की रैली के मद्देनजर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं. शनिवार को अवकाश होने के बाद भी दिल्ली पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक अपने लाव-लश्कर के साथ एक के बाद बैठकों में मशरुफ रहे. 

22 दिसम्बर 2019, 12:32 बजे

देश के खुफिया विभाग के एक उच्च पदस्थ सूत्र ने बताया, "प्रधानमंत्री मोदी की इस बेहद संवेदनशील जनसभा में करीब एक लाख लोगों की भीड़ जुटने की संभावना है. नियमानुसार प्रधानमंत्री की सुरक्षा की जिम्मेदारी भले ही एसपीजी की होगी. जनसभा चूंकि दिल्ली पुलिस के सीमा-क्षेत्र में हो रही है. वह भी उस बेहद बिगड़े हुए माहौल में जिसमें, जनसभा से चंद घटे पहले ही इसी इलाके के डीसीपी दफ्तर (मध्य दिल्ली जिला के दरियागंज थाने के सामने) के बाहर तमाम वाहनों को उपद्रवियों ने आग में झोंक दिया हो तब सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए गए हैं." 

गौरतलब है कि पिछले माह मोदी सरकार ने संसद में अप्राधिकृत कॉलोनी निवासी संपत्ति अधिकार मान्यता विधेयक, 2019 पारित कराया. इससे दिल्ली की 1731 अवैध कॉलोनियों में रहने वाले करीब 40 लाख लोगों को उनकी संपत्ति का मालिकाना हक मिलने का रास्ता साफ हो गया था.