चंडीगढ़ में अब नहीं होगी पार्किंग की समस्या, निकाला जाएगा ऐसे समाधान

चंडीगढ़ में अकसर लोगों को पार्किग स्पेस के लिए मुशक्कत करनी पड़ती है क्योकिं चंडीगढ़ में जितने लोग है उससे भी ज्यादा वाहन है. 

चंडीगढ़ में अब नहीं होगी पार्किंग की समस्या, निकाला जाएगा ऐसे समाधान
चंडीगढ़ में 12 लाख से ज्यादा जनसंख्या है तो उतने ही वाहन भी है.

चंडीगढ़: चंडीगढ़ में लोगों को पार्किंग की समस्या से दो चार न होना पडे इसलिए चंडीगढ़ प्रशासन कॉम्प्रीहेंसिव पार्किंग पॉलिसी लेकर आ रहा है.  पॉलिसी के लिए चंडीगढ़ प्रशासन ने सर्वे करवा लिया है इसकी जानकारी चंडीगढ़ के सीनियर स्टैंडिंग काउंसिल पंकज जैन ने एक मामले की सुनवाई के दौरान पंजाब एंव हरियाणा हाईकोर्ट में दी. चंडीगढ़ में अकसर लोगों को पार्किग स्पेस के लिए मुशक्कत करनी पड़ती है क्योकिं चंडीगढ़ में जितने लोग है उससे भी ज्यादा वाहन है. 

पूरे देश की बात करें तो चंडीगढ़ में पर पर्सन वाहन के हिसाब से सबसे ज्यादा वाहन चंडीगढ में रहने वाले लोगों के पास है इसलिए न सिर्फ चंडीगढ वासियों बल्कि बाहर से सिटी ब्यूटीफुल में आने वाले लोगों को भी पार्किंग स्पेस को लेकर काफी परेशानी का सामना करना पडता है लेकिन अब चंडीगढ़ प्रशासन ने इस समस्या का समाधान ढूंढ लिया है और प्रशासन 3 महीने में  कॉम्प्रीहेंसिव पार्किंग पॉलिसी लेकर आ रहा है इसके लिए सर्वे करवा लिया गया है इसलिए जानकारी  चंडीगढ़ के सीनियर स्टैंडिंग काउंसिल पंकज जैन ने हाईकोर्ट के जस्टिस राजीव शर्मा और जस्टिस अमोल सिंह के बैंच को दी. 

चंडीगढ़ में 12 लाख से ज्यादा जनसंख्या है तो उतने ही वाहन भी है. यहीं कारण है कि चाहे मार्किट हो या रेज़ीडेशिंयल एरिया हर जगह पार्किंग स्पेस कम ही पडती है.  दरअसल चंडीगढ़ के विवेक हाई स्कूल के पास पार्क को पार्किंग में तबदील करने को लेकर एक याचिका हाईकोर्ट में पेडिंग थी जिसपर कोर्ट ने अपना फैसला सुना दिया है. 

विवेक हाई स्कूल के पास पार्किंग स्पेस बनाने को लेकर सेक्टर 37 और 38 के वासी लगातार विरोध कर रहें थे उनका कहना था कि पार्क की जगह पर पार्किंग न बनायी जाए.  क्योकिं पार्क के आस पास 70 पेड़ लगे हुए हैं रेज़ीडेंट वेलफेयर एसोसिऐशन का कहना था कि ग्रीन बेल्ट और ग्रीन एरिया को कम कर पार्किंग उपलब्ध करवाने का क्या फायदा.

उनका कहना था कि पार्किंग स्पेस मुहैया करवाने के लिए प्रशासन कोई और विकल्प ढूंढे.  इसी मामले की सुनवाई के दौरान कोर्ट को प्रशासन के वकील पंकज जैन ने बताया कि प्रशासन ने 22 नंवबर को हुई मीटिंग में फैसला लिया है कि पार्क की जगह पर पार्किंग नहीं बनायी जाएगी.  जिस पर कोर्ट ने भी संतुष्टि जताई. 

वकील पंकज जैन ने कोर्ट को बताया कि ग्रीन एरिया को तीन भागों में बांटा गया है क्लसटर ग्रीन, सेंट्रल ग्रीन और नाॅर्मल ग्रीन.  चंडीगढ़ प्रशासन ग्रीन एरिया को कम कर पार्किंग स्पेस नहीं बनाएगा तांकि चंडीगढ़ में हरियाली भी बरकरार रहें.