close

खास खबरें सिर्फ आपके लिए...हम खासतौर से आपके लिए कुछ चुनिंदा खबरें लाए हैं. इन्हें सीधे अपने मेलबाक्स में प्राप्त करें.

पाकिस्तान ने किया सीजफायर का उल्लंघन, सुंरदबनी में मोर्टार से दागे गोले

पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन किया है. बताया जा रहा है कि सुंदरबनी इलाके के लालयली इलाके में पाकिस्तान की ओर से मोर्टार से गोले दागे गए. 

पाकिस्तान ने किया सीजफायर का उल्लंघन, सुंरदबनी में मोर्टार से दागे गोले
फाइल तस्वीर.

श्रीनगर: पाकिस्तान ने सीजफायर का उल्लंघन (Ceasefire violation) किया है. बताया जा रहा है कि सुंदरबनी इलाके के लालयली इलाके में पाकिस्तान की ओर से मोर्टार से गोले दागे गए. यहां आपको बता दें कि जम्मू-कश्मीर में धारा370 और 35ए खत्म करने के फैसले के चलते पूरे राज्य में सुरक्षा व्यवस्था चाक-चौबंद कर दी गई है.

कश्मीर में 370 हटाए जाने से बौखलाया पाकिस्तान, PAK सेना प्रमुख ने बुलाई कमांडरों की बैठक
यहां आपको बता दें कि भारत द्वारा जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद 370 समाप्त किए जाने की खबर से बौखलाए पाकिस्तान को अब समझ नहीं आ रहा है कि क्या करना चाहिए. भारत के इस कदम पर कभी पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान अन्य देशों से समर्थन मांगते हुए विलाप कर रहे हैं तो वहीं सेना प्रमुख जनरल जावेद बाजवा को अब पीओके की चिंता सताने लगी है. सोमवार को भारत ने जैसे ही कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त किया पाक सेना प्रमुख तुंरत कश्मीर के हालात पर चर्चा के लिए कमांडरों की मीटिंग कॉल कर दी.  

लाइव टीवी देखें-:

बाजवा ने आज कॉर्प्स कमांडरों की बैठक बुलाई है. जियो न्यूज के अनुसार, कॉर्प्स कमांडरों की बैठक का एजेंडा जम्मू एवं कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के भारत के कदम और नियंत्रण रेखा पर मौजूदा हालात तथा कश्मीर में उसके असर का विश्लेषण करना है.

इसके पहले प्रधानमंत्री इमरान खान ने पाकिस्तान के दो सहयोगी देशों मलेशिया और तुर्की के राष्ट्राध्यक्षों से फोन पर बात की और कश्मीर में अनुच्छेद 370 को समाप्त करने के भारत के इस कदम को अवैध करार दिया और कहा कि इससे क्षेत्र की शांति नष्ट हो जाएगी.

गौरतलब है कि भारत सरकार ने सोमवार को संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त कर दिया, जो जम्मू एवं कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा प्रदान करता था. अब जम्मू एवं कश्मीर राज्य न रहकर दो केंद्र शासित प्रदेशों में बंट जाएगा, जिसमें से एक जम्मू एवं कश्मीर और दूसरा लद्दाख होगा. जम्मू एवं कश्मीर में विधानसभा होगी, लेकिन लद्दाख में विधानसभा नहीं होगी.