लोकसभा में विपक्ष ने लगाया CBI के दुरुपयोग का आरोप, सरकार ने जताई राज्य सरकार से सहयोग की उम्मीद

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल सरकार से उम्मीद जताई कि वह सारदा घोटाले में सीबीआई की जांच में सहयोग करेगी और अनुकूल माहौल उपलब्ध कराएगी.

लोकसभा में विपक्ष ने लगाया CBI के दुरुपयोग का आरोप, सरकार ने जताई राज्य सरकार से सहयोग की उम्मीद
लोकसभा अध्यक्ष ने सदस्यों से अपने स्थान पर जाने का आग्रह करते हुए कहा कि हंगामा करने से हल नहीं निकलेगा.(फाइल फोटो)

नई दिल्लीः लोकसभा में सोमवार को तृणमूल कांग्रेस समेत विपक्षी दलों के सदस्यों ने कोलकाता में सीबीआई-पुलिस अधिकारियों के गतिरोध का जिक्र करते हुए केंद्र पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाया, वहीं सरकार ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि एजेंसी के अधिकारियों को कानून सम्मत कामकाज करने से रोकना अभूतपूर्व घटना है. केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पश्चिम बंगाल सरकार से उम्मीद जताई कि वह सारदा घोटाले में सीबीआई की जांच में सहयोग करेगी और अनुकूल माहौल उपलब्ध कराएगी.

#CBIvsMamata: ममता के धरने को विपक्षी दलों के साथ शिवसेना का मिला समर्थन, जानिए क्या कहा

इससे पहले शून्यकाल में तृणमूल कांग्रेस के सौगत रॉय, बीजद के भर्तृहरि महताब और कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे ने केंद्र सरकार पर विपक्षी दलों के शासन वाले राज्यों में सीबीआई का दुरुपयोग करने का और एजेंसी को राजनीतिक हथियार बनाने का आरोप लगाया. सदस्यों द्वारा उठाये गये मुद्दे पर जवाब देते हुए गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि रविवार को कोलकाता में सीबीआई के अधिकारियों को कानून सम्मत कामकाज करने से केवल रोका नहीं गया बल्कि थाने में ले जाया गया जो भारत के इतिहास में अभूतपूर्व है.

महाराष्ट्र के सीएम देवेंद्र फडणवीस बोले- प्रधानमंत्री मोदी हैं 'जंगल के राजा'

उन्होंने सारदा घोटाले का जिक्र करते हुए कहा कि लाखों गरीबों को चूना लगाया गया और इस मामले में उच्चतम न्यायालय के निर्देशों के अनुरूप मामले में कार्रवाई हो रही है. उन्होंने कहा कि उच्चतम न्यायालय ने भी माना कि अब तक की जांच में कुछ प्रभावशाली नेताओं के इस घोटाले में शामिल होने का संदेह है. सिंह ने कहा कि पुलिस कमिश्नर जांच में सहयोग नहीं कर रहे, इसलिए सीबीआई अधिकारियों को मजबूरन कार्रवाई करनी पड़ी. कोलकाता में सीबीआई दल की सुरक्षा के लिए केंद्र को सीआरपीएफ को तैनात करने का आदेश देना पड़ा.

उन्होंने कहा कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों में टकराव दुर्भाग्यपूर्ण है. सिंह ने कहा कि कल जो भी घटनाएं घटीं, वह संवैधानिक व्यवस्थाओं के टूटने की ओर इशारा करता है. उन्होंने कहा कि इस पूरे मामले में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल से रिपोर्ट देने का आग्रह किया गया है. सिंह ने कहा कि सभी राज्य सरकारों से और पश्चिम बंगाल सरकार से वह उम्मीद करते हैं कि कानून प्रवर्तन एजेंसियों को जांच के लिए अनुकूल माहौल उपलब्ध कराया जाएगा. गृह मंत्री ने तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों की नारेबाजी के बीच अपनी बात रखी.

शिवसेना ने की सरकार की तारीफ, कहा- बजट 'अंतरिम' था लेकिन स्वरूप 'पूर्ण बजट' जैसा रखा

इससे पहले शून्यकाल में तृणमूल कांग्रेस के सौगत रॉय ने कहा कि रविवार शाम को सीबीआई के 40 अधिकारियों का कोलकाता के पुलिस कमिश्नर के आवास पर पहुंचना संविधान पर हमला है. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों कोलकाता में विपक्षी दलों की रैली के बाद से मोदी सरकार विपक्ष के नेताओं को डराने, धमकाने के लिए सीबीआई का दुरुपयोग कर रही है. उन्होंने पश्चिम बंगाल पर कब्जे के प्रयासों के तहत सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रधानमंत्री और भाजपा अध्यक्ष के नेतृत्व में भाजपा के सदस्य संविधान को नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं. तृणमूल सांसद ने मांग की कि प्रधानमंत्री इस मामले पर सदन में आकर जवाब दें. इस दौरान भाजपा के सदस्यों को विरोध जताते देखा गया.

शर्मनाक! पीरियड्स में युवती को बिना खिड़की वाली झोपड़ी में सोना पड़ा, दम घुटने से हुई मौत

बीजद के भर्तृहरि महताब ने सीबीआई के केंद्र सरकार के राजनीतिक हथियान बन जाने का आरोप लगाते हुए कहा कि कल की घटना सीबीआई के अनुचित तरीके से कामकाज को दर्शाती है. इस तरह से सीबीआई अधिकारियों का पुलिस कमिश्नर के आवास पर पहुंचता एजेंसी की संस्थागत निष्ठा पर सवाल खड़े करता है. उन्होंने आरोप लगाया कि पिछले कुछ महीने से सीबीआई पेशेवर तरीके से कामकाज नहीं कर रही है और ओडिशा में भी इस तरह के मामले देखे गये हैं. महताब ने कहा कि यह कोई ‘बनाना रिपब्लिक’ नहीं है जो संस्थाओं का इस तरह से पतन चल रहा है. कांग्रेस के मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि यह सरकार सीबीआई को हथियार बनाकर सभी राजनीतिक दलों, उनके नेताओं की राजनीति को खत्म करके निरंकुश सत्ता चलाना चाहती है.

खुलासाः गायों को नशे का इंजेक्शन देकर कर देते थे हत्या, फिर...

उन्होंने कहा कि जिन राज्यों में भी विपक्षी दलों की सरकारें हैं, वहां सीबीआई का इस्तेमाल किया जा रहा है लेकिन विपक्षी दल झुकेंगे नहीं. हालांकि माकपा के बदरुद्दोजा खान ने पश्चिम बंगाल की ममता बनर्जी सरकार को ही आड़े हाथ लिया. उन्होंने कहा कि दीदी (ममता बनर्जी) और नरेंद्र मोदी में पिछले चार साल से तालमेल चल रहा था, लेकिन जब कल वाम मोर्चा की बड़ी रैली कोलकाता में हुई तो उससे ध्यान हटाने के लिए यह सब किया गया. उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी जो कुछ किया है , वह भी गलत है. पुलिस आयुक्त सीबीआई के तीन सम्मन के बाद भी उसके सामने क्यों नहीं गए. सपा के धर्मेंद्र यादव, राजद के जयप्रकाश नारायण यादव और राकांपा की सुप्रिया सुले ने भी सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप केंद्र सरकार पर लगाया.

वहीं पिछले दिनों भाजपा में शामिल हुए तृणमूल कांग्रेस सदस्य सौमित्र खान ने पश्चिम बंगाल सरकार पर संविधान के विरुद्ध कामकाज करने का आरोप लगाते हुए कहा कि राज्य में कुछ भी सही नहीं चल रहा. गौरतलब है कि चिटफंड घोटाला मामले में सीबीआई द्वारा कोलकाता पुलिस प्रमुख राजीव कुमार से पूछताछ करने के प्रयास के बाद केंद्र सरकार पर सीबीआई के दुरुपयोग का आरोप लगाते हुए ममता बनर्जी रविवार शाम को कोलकाता में धरने पर बैठ गयीं. गृह मंत्री के बयान के दौरान तृणमूल कांग्रेस के सदस्यों का जोरदार हंगामा जारी रहा. लोकसभा अध्यक्ष ने सदस्यों से अपने स्थान पर जाने का आग्रह करते हुए कहा कि हंगामा करने से हल नहीं निकलेगा. हंगामा थमता नहीं देख उन्होंने सदन की बैठक 12:25 बजे दोपहर दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी.

(इनपुट भाषा)