राजस्थान: गुर्जर आंदोलन खत्म होने के बाद इन ट्रेनों को दिखाई गई हरी झंडी

जिसके बाद रेलवे विभाग ने ट्रेन सेवा के पुर्नपरिचालन के लिए पटरियों का मरम्मत कार्य करवाया है. 

राजस्थान: गुर्जर आंदोलन खत्म होने के बाद इन ट्रेनों को दिखाई गई हरी झंडी
गुर्जर सरकारी नौकरियों में आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे थे. (फोटो साभार: DNA)

जयपुर: राजस्थान की रेल पटरियों पर 8 फरवरी से जमे गुर्जर समाज के लोगों का आंदोलन शनिवार को खत्म हो गया है. जिसके बाद रेलवे विभाग ने ट्रेन सेवा के पुर्नपरिचालन के लिए पटरियों का मरम्मत कार्य करवाया है. विभागीय सूत्रों के अनुसार, आंदोलन के दौरान बंद रहे जयपुर-सवाई माधोपुर और कोटा-जयपुर रेल मार्ग का मरम्मत कार्य करवाने के बाद कई ट्रेनों का परिचालन शुरू किया जा चुका है.

बताया जा रहा है कि मरम्मत कार्य के बाद विभाग ने इन रेल लाइन पर ट्रेनों को सुचारू रूप से चलाने के आदेश जारी किए. इन रेल मार्ग पर डायवर्ट हुई ट्रेनों को शनिवार दोपहर के बाद चलने के निर्देश दिए गए हैं. आपको बता दें कि, 8 फरवरी से 16 फरवरी दोपहर तक गुर्जर समाज का आंदोलन रेल पटरियों पर जारी थी. जिस कारण इन रेल मार्ग पर गाड़ियों का आवागमन बंद कर रखा गया था. 

इन ट्रेनों का परिचालन हुआ शुरू

इस संबंध में सीपीआरओ अभय शर्मा ने बताया कि ट्रेन संख्या 22981 कोटा- श्रीगंगानगर एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 22982 श्रीगंगानगर- कोटा एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 19713 जयपुर- सिकंदराबाद रेलसेवा, ट्रेन संख्या 20814 जोधपुर-पुरी एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 22631 चेन्नई सेंट्रल-बीकानेर एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 14816 ताम्रम-जोधपुर एक्सप्रेस, ट्रेन संख्या 12969 कोयम्बोटूर-जयपुर एक्सप्रेस को रेलपटरियों पर अपने रूट पर सुचारू रूप से चलने के निर्देश दिए गए हैं.

आंदोलन की वजह से यात्रियों को हो रही थी समस्या

आपको बता दें कि, राजस्थान में गुर्जर समाज के लोग सरकारी नौकरियों में 5 प्रतिशत आरक्षण के लिए आंदोलन कर रहे थे. इस दौरान राज्य में ट्रेन का आवागमन काफी प्रभावित हुआ था. इस वजह के राज्य के आम लोगों के अलावा यहां आने वाले यात्रियों को कई समस्याओं का सामना भी करना पड़ा. आंदोलन के दौरान सड़क यातायात को भी बाधित करने का भी आंदोलनकारियों ने किया था.