पुलिस को चकमा देकर आमागढ़ दुर्ग पर Kirodi Lal Meena ने फहराया झंडा, अब रखी यह बड़ी मांग

डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने ट्वीट (Tweet) करके कहा कि उन्होंने समाज से किया वादा पूरा कर लिया है लेकिन इसके बाद पुलिस ने उन्हें पहाड़ी से गिरफ्तार कर लिया. 

पुलिस को चकमा देकर आमागढ़ दुर्ग पर Kirodi Lal Meena ने फहराया झंडा, अब रखी यह बड़ी मांग
पुलिस हिरासत में लिये जाने के बाद डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा ने ट्वीट करके उनको गिरफ्तार कर लेने की सूचना दी.

Jaipur: आमागढ़ पहाड़ी (Amagarh Hill) पर ध्वज हटाने के विवाद के बाद आज सांसद किरोड़ी लाल मीणा (Kirodi Lal Meena) आमागढ़ पहाड़ी पर पहुंचे और विवादित स्थान के निचले हिस्से में मीणा समाज का ध्वज फहराया. 

यह भी पढ़ें- आमागढ़ दुर्ग पर मनाही के बावजूद झंडा फहराने को लेकर हिरासत में Kirori Lal Meena, Raje ने की निंदा

 

पुलिस को जैसे ही इसके बारे में पता चला, आनन-फानन में पहुंची पुलिस ने किरोड़ी लाल मीणा को हिरासत में लिया और विद्याधर थाने पूछताछ के लिए लेकर गयी. 

यह भी पढ़ें- आमागढ़ दुर्ग पर आदिवासी झंडा फहराने का Congress विधायक ने किया समर्थन, बोले- हम यही चाहते थे

 

डॉ. किरोड़ी लाल मीणा ने ट्वीट (Tweet) करके कहा कि उन्होंने समाज से किया वादा पूरा कर लिया है लेकिन इसके बाद पुलिस ने उन्हें पहाड़ी से गिरफ्तार कर लिया. वहीं, दूसरी ओर पुलिस का कहना है कि किरोड़ी लाल मीणा सहित 7 लोग पहाड़ी पर गए थे लेकिन पुलिस की ओर से किसी को भी गिरफ्तार नहीं किया गया है, पहाड़ी पर जाने वाले सभी लोगों को हिरासत में लेकर बातचीत के लिए विद्याधर थाने ले जाया गया है.

कब हुई इस विवाद की शुरुआत
आमागढ़ पहाड़ी पर विवाद की शुरुआत भगवा झंडा हटाने के बाद से हुई. निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा (Ramkesh Meena) का एक वीडियो सामने आया, जिसमें भगवा झंडे को आमागढ़ पहाड़ी से हटाया जा रहा था. सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने पहाड़ी पर भगवा ध्वज का अपमान करने का आरोप लगाते हुए 1 अगस्त को ध्वज फिर से फहराने की बात कही. 

रामकेश मीणा ने वापस ले लिया अपना आंदोलन
इस दौरान रामकेश मीणा के समर्थकों की ओर से भी आमागढ़ पहाड़ी पर पहुंचने का ऐलान किया गया, जिसके बाद दोनों पक्षों में टकराव होने की संभावना जतायी गयी. पुलिस ने इस टकराव को रोकने के लिए पुलिस का भारी जाब्ता तैनात कर दिया लेकिन गुपचुप तरीके से पहाड़ी पर गए किरोड़ी लाल मीणा ने जब मीणा समाज का ध्वज पहाड़ी की दीवार पर फहराया तो रामकेश मीणा ने भी अपना आंदोलन वापस ले लिया और पुलिस से डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा को छोड़ने की बात कही.

पुलिस को चकमा देकर पहाड़ी पर गए किरोड़ी लाल मीणा 
जयपुर पुलिस ने एक दिन पहले फ्लैग मार्च निकालकर चेतावनी दी थी कि कोई भी व्यक्ति आमागढ़ पर जाने का प्रयास नहीं करे. पुलिस ने पहाड़ी के चारों ओर त्रिस्तरीय सुरक्षा व्यवस्था भी कर रखी थी. किसी भी व्यक्ति के प्रवेश पर  रोक लगा रखी थी. इसके बावजूद किरोड़ी लाल मीणा पुलिस को चकमा देकर 7 समर्थकों के साथ पहाड़ी पर चढ़ गये. इस घटना के बाद राजस्थान पुलिस के खुफिया तंत्र पर एक बार फिर से सवाल खड़े कर दिए. 

आमागढ़ किले पर ध्वज फहराने के लिए सांसद किरोड़ी लाल मीणा ने रात को 3 बजे बाद पहाड़ी पर चढ़ना शुरू कर दिया था. इस दौरान कई बार उन्हें बीच में बैठना भी पड़ा. इसके बाद उन्होंने किले के बाहरी दीवार पर मीणा समाज का झंडा फहराया. झंडा फहराने के बाद किरोड़ी लाल मीणा ने कहा कि उन्होंने मीणा समाज (Meena Society) से जो वादा किया था. उसे झंडा फहराकर पूरा किया है. आमागढ़ क्षेत्र में मीन भगवान का ध्वज फहराया गया है. इसकी सूचना पुलिस को मिलते ही तुरंत पुलिस ने किरोड़ी लाल मीणा को हिरासत में ले लिया.

किरोड़ी लाल मीणा ने ट्वीट करके दी गिरफ्तारी की जानकारी
पुलिस हिरासत में लिये जाने के बाद डॉक्टर किरोड़ी लाल मीणा ने ट्वीट करके उनको गिरफ्तार कर लेने की सूचना दी, जिसके बाद निर्दलीय विधायक रामकेश मीणा ने भी किरोड़ी लाल मीणा को रिहा करने की बात कही. पूर्व सीएम वसुंधरा राजे (Vasundhara Raje) ने भी ट्वीट करके किरोड़ी लाल मीणा की गिरफ्तारी की निंदा की. विद्याधर नगर थाने के बाहर किरोड़ी लाल मीणा के समर्थक रिहाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए लेकिन एडिश्नल पुलिस कमिश्नर राहुल प्रकाश ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि डॉ. किरोड़ी लाल मीणा और उनके समर्थकों को गिरफ्तार नहीं किया गया है. 

पुलिस से जारी है किरोड़ी लाल मीणा की बातचीत
किले में प्रवेश पर रोक के बावजूद जाने के कारण उन्हें हिरासत में लेकर विद्याधर नगर थाने पर ले जाया गया है, जिससे शांति व्यवस्था बनायी रखी जा सके. फिलहाल किरोड़ी लाल मीणा से पुलिस की बातचीत जारी है वहीं किरोड़ी लाल मीणा ने भी एक मांगपत्र पुलिस को सौंपा है, जिसमे झंडे को नहीं हटाये जाने, मंदिर में पूजा-अर्चना करने की इजाजत देने और उनसे बदसलूकी करने वाले सीआई का हटाए जाने की मांग की है.